वर-वधू में से यदि किसी की भी कुंडली में सप्तमेश 00-150 तक का हो। Û कुंडली में चंद्रमा पाप ग्रह से दृष्ट हो या उसे कोई भी शुभ या अशुभ ग्रह न देख रहे हों। Û शनि विषम राशिगत हो। Û मंगल व केतु या केतु या मंगल की किसी भी प्रकार से युति हो या दृष्टि संबंध हो। Û सप्तम भाव पीड़ित हो। Û सप्तमेश पाप ग्रह से दृष्ट हो या पाप पीड़ित हो। Û शुक्र सिंह राशिगत हो। Û सप्तम भाव को राहु, केतु, मंगल, शनि व सूर्य किसी भी प्रकार से देखते हों या सप्तमेश के साथ युति बनाते हांे। Û अगर कुंडली में लग्न व सप्तम भाव से दाईं व बाईं ओर से कालसर्प दोष बनता हो। Û कुंडली में मांगलिक दोष विद्यमान हो व वज्र, शूल, व्यातिपात, गंड, अतिगंड, व्याघात योग हो। Û शुक्र पाप राशिगत होकर नवमांश में द्विस्वभाव राशि में हो। Û सप्तम भाव व सप्तमेश किसी भी प्रकार से कमजोर अवस्था में हो। Û सप्तमेश वक्री व पाप कर्तरी योग में हो। आइए अब देखते हैं, इसके कुछ जीवंत उदाहरण कारण सहित


विवाह विशेषांक  मार्च 2014

फ्यूचर समाचार पत्रिका के विवाह विशेषांक में सुखी वैवाहिक जीवन के ज्योतिषीय सूत्र, वैदिक विवाह संस्कार पद्धति, कुंडली मिलान का महत्व, विवाह के प्रकार, वर्तमान परिपेक्ष्य में कुंडली मिलान, तलाक क्यों, शादी के समय निर्धारण में सहायक योग, शनि व मंगल की वैवाहिक सुख में भूमिका, शादी में देरी: कारण-निवारण, दाम्पत्य जीवन सुखी बनाने के उपाय तथा कन्या विवाह का अचूक उपाय आदि विषयों पर विस्तृत जानकारी देने वाले आलेखों को सम्मिलित किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.