Sorry, your browser does not support JavaScript!

नवीनतम

आप और जीवन में आपकी भूमिका

हमेशा से ही नारी इस समाज का अहम हिस्सा है। यही वजह है कि समाज के निर्माण में नारी का विशेष स्थान रहा है। एक समय था जब नारी को पूजा जाता था, उन्हें देवी का दर्जा दिया जाता था। उसे पुरुषों के समान ही माना जाता था, परंतु समय के साथ स्थिति बदली और उसे स्त्री की तरह घर-परिवार, बच्चों की देखभाल करने के साथ-साथ पुरूषों के कंधे से कंधा मिलाते हुए बाहर जाकर काम-काज भी करने पड़े। आज के दौर में महिलाएं शिक्षा, पत्रकारिता, कानून, चिकित्सा या इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाएं दे रही हैं। पुलिस और सेना में भी वे जिम्मेदारी निभा रही हैं। नारी अपने जीवन में 3 अहम भूमिकाएं निभा रही हैं। वह कभी एक अच्छी बहन, बेटी, मित्र, एक अच्छी पत्नी और एक अच्छी मां होती है। ये तीनों भूमिकाएं वे जीवन के अलग-अलग हिस्सों में निभाती है। एक मित्र, पत्नी और एक मां सभी रूपों में इनसे बहुत कुछ उम्मीदें परिवार करता है। आज हम आपको इस आलेख के माध्यम से यह बताने जा रहे हैं कि अपनी राशि के अनुसार आप अपनी सभी भूमिकाओं को निभाते समय किस प्रकार का व्यवहार करती हैं। जीवन में अपने तीन महत्वपूर्ण रोल निभाते समय आप किस रोल को बखूबी निभाने में सफल रहती हैं और किस रोल में आप कुछ चूक जाती हैं । यह लेख आपको आपसे मिलाने का हमारा एक प्रयास है-

कुछ उपयोगी टोटके

छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है।

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

मासारंभ में सूर्य मिथुन में, चंद्र कन्या में, मंगल व बुध मिथुन में, गुरु कन्या में, शुक्र वृष में, शनि वृश्चिक में, राहु सिंह में, केतु कुंभ में, यूरेनस मीन में, नेप्च्यून कुंभ में और प्लूटो धनु राशि में स्थित होंगे।

शेयर बाजार में मंदी-तेजी

ग्रहों की गोचर स्थिति सूर्य 16 जुलाई को 16 बजकर 25 मिनट पर मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा। मंगल 11 जुलाई को 15 बजे मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा। बुध 3 जुलाई को 3 बजकर 5 मिनट पर मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा और 4 बजकर 58 मिनट पर पश्चिमोदय होगा। 21 जुलाई को 10 बजकर 21 मिनट पर बुध कर्क राशि से सिंह राशि में गोचर करेगा। गुरु मासभर कन्या राशि में गोचर करेगा। शुक्र 26 जुलाई को 17 बजकर 9 मिनट पर वृष राशि से मिथुन राशि में गोचर करेगा। शनि मासभर वृश्चिक राशि में गोचर करेगा। राहु मासभर सिंह व केतु मासभर मकर राशि में गोचर करेगा।

व्यापारिक संस्थान में नियमित आकार व ईशान का महत्व

कुछ दिन पूर्व पंडित जी, हैदराबाद में एक समाचार पत्र के पाँचवें तल पर प्रस्तावित कार्यालय को देखने के लिए गये। उसे किसी स्थानीय वास्तु विषेषज्ञ ने नकार दिया था। परन्तु वह एक नामचीन व्यावसायिक परिसर व उनके पुराने दफ्तर के काफी नजदीक था, इसलिये प्रषासन ने अंतिम निर्णय लेने से पहले वैकल्पिक सुझाव तथा निर्णय के वैज्ञानिक कारण जानने के लिये पंडित जी को आमंत्रित किया था। निरीक्षण के पष्चात दिये गये सुझाव प्रबुद्ध पाठकों के लाभार्थ संक्षेप में निम्नलिखित हैं: 1. भवन जिस प्लाॅट पर स्थित है, उस प्लाॅट की उत्तर दिषा का पूर्व की ओर 10 डिग्री झुकाव ;ज्पसजद्ध है। यह स्थिति उस रिपोर्ट से विरोधाभास में है, जिसे स्थानीय वास्तु विषेषज्ञ ने 0.0 बताया है।

विडियोजऔर देखें

सनातन धर्म और अध्यात्म

सनातन धर्म और अध्यात्म

ज्योतिष पूर्णत: वैज्ञानिक हैं। ज्योतिष मानव कल्याण का एक बहुत बड़ा साधन हैं। इसका प्रयोग कर व्यक्ति स्वयं को श्रेष्ठ बना सकता है। ज्योतिष न केवल भविष्य को समझने का साधन हैं बल्कि यह मन को समझने का सबसे महत्वपूर्ण साधन हैं। जो व्यक्ति अपने मन पर नियंत्रण रखने लगता है वह अपने जीवन की सभी गतिविधियों पर नियंत्रण कर लेता है।

रुद्राक्ष

रुद्राक्ष

रुद्राक्ष को भगवान शिव का अश्रु कहा गया है। शास्त्रों में रुद्राक्ष सिद्धिदायकए पापनाशकए पुण्यवर्धकए रोगनाशकए तथा मोक्ष प्रदान करने वाला कहा गया हैद्य रुद्राक्ष तन.मन की बहुत सी बीमारियों में राहत पहुँचाता है।

प्रारंभिक ज्योतिष

प्रारंभिक ज्योतिष

आप ज्योतिष क्षेत्र में रूचि रखते हैं लेकिन सीखने का माध्यम अभी तक प्राप्त नहीं हुआ था या ज्योतिष में ज्ञान था लेकिन क्रमबद्ध नहीं था प्रारंभिक ज्योतिष की यह सीडी आपकी आवश्यकता को समझकर ही तैयार की गई है। अवश्य देखिए -

ज्योतिष उपाय

ज्योतिष उपाय

ज्योतिष में संपूर्ण ज्ञान होते हुए भी तबतक वह अधूरा है जबतक कि उसके उपाय न मालूम हो। यह ठीक उसी तरह है जैसे डाॅक्टर बीमारी को समझे लेकिन दवा न बता पाए। इस सीडी के द्वारा आप जान पाएंगे कि किस कुंडली के लिए तथा किस समस्या के लिए क्या उपाय किया जाना चाहिए। अवश्य जानिए -

पुस्तकेंऔर देखें

सरल ज्योतिष

सरल ज्योतिष

सरल ज्योतिष पुस्तक की रचना ज्योतिष के प्रारंभिक छात्रों की रूचि, योग्यता, अवस्था और देश काल पात्र को ध्यान में रखते हुए की गयी हैं। सरल ज्योतिष पुस्तक में ज्योतिष से सम्बंधित खगोल ज्ञान, गणित, ज्योतिष फलित, गोचर, पंचांग के अध्ययन तथा कुंडली मिलान के प्रारंभिक ज्ञान के विषयों को लिखा गया हैं।

फेंगशुई

फेंगशुई

फेंगशुई पुस्तक हमें यह बताती है की घर की सजावट, फर्नीचर, पर्दों के रंग, कमरों के रंग किस किस तरह से यह सब चीजें हमारे जीवन को प्रभावित करती हैं। फेंगशुई आतंरिक वातावरण को नियंत्रित करने, घर में जीवन को शांतिपूर्ण एवं सरस बनाने में बेजोड़ सहायक हैं।

कुंडली  मिलान किताब

कुंडली मिलान किताब

सरल अष्टकूट मिलान पुस्तक कुंडली मिलान की आवश्यकता कब, क्यों और कैसे, तथा विवाह की असफलता के कारणों पर प्रकाश डालती हैं। कुंडली मिलान द्वारा हम यह जानने की कोशिश करते है की लडके व् लड़की की प्रकृति, मनोवृति एवं अभिरुचि क्या है।

सरल हस्तरेखा शास्त्र

सरल हस्तरेखा शास्त्र

हस्तरेखा विज्ञान भारतीय समाज और परिवेश में तो युगों पहले से ही प्रचलित है। माना जाता है की समुद्र ऋषि ऐसे पहले भारतीय ऋषि थे, जिन्होंने क्रमबद्ध रूप से ज्योतिष विज्ञान की रचना की।

नवीनतम रिसर्च जर्नल कलेक्शंसऔर देखें

लेख

हमेशा से ही नारी इस समाज का अहम हिस्सा है। यही वजह है कि समाज के निर्माण में नारी का विशेष स्थान रहा है। एक समय था जब नारी को पूजा जाता था, उन्हें देवी का दर्जा दिया जाता था। उसे पुरुषों के समान ह...और पढ़ें

छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है।...और पढ़ें

मासारंभ में सूर्य मिथुन में, चंद्र कन्या में, मंगल व बुध मिथुन में, गुरु कन्या में, शुक्र वृष में, शनि वृश्चिक में, राहु सिंह में, केतु कुंभ में, यूरेनस मीन में, नेप्च्यून कुंभ में और प्लूटो धनु...और पढ़ें

ग्रहों की गोचर स्थिति सूर्य 16 जुलाई को 16 बजकर 25 मिनट पर मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा। मंगल 11 जुलाई को 15 बजे मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा। बुध 3 जुलाई को 3 बजकर 5 मिनट पर...और पढ़ें

कुछ दिन पूर्व पंडित जी, हैदराबाद में एक समाचार पत्र के पाँचवें तल पर प्रस्तावित कार्यालय को देखने के लिए गये। उसे किसी स्थानीय वास्तु विषेषज्ञ ने नकार दिया था। परन्तु वह एक नामचीन व्यावसायिक परिसर ...और पढ़ें

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण दांतों की जड़ों में मवाद पड़ जाता है जिससे मसूड़े और जड़ें कमजोर हो जाती हैं। दांत ढीले होकर गिरने लगते हैं। जबड़े में मवाद लगातार बनता और बहता रहता है जिसके कारण खाने के साथ वह ...और पढ़ें

टैरो डेक में माइनर आरकाना पृथ्वी तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं। अतः ये धैर्य व सहनशीलता की भावना से ओत/प्रोत रहती हैं। अर्थात जब कोई व्यक्ति अपनी किसी समस्या से ग्रसित होता है और समाधान के लिये ...और पढ़ें

और लेख पढ़ें