brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer
नवंबर 2019 विशेषांक

नवंबर 2019 विशेषांक

फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में - अमिताभ बच्चन, क्या परमाणु युद्ध होगा: ग्रहों के झरोखे से, दिवाली पूजन पैक - लक्ष्मी होंगी शीघ्र प्रसन्न, किस देवता को चढ़ता है कौन सा प्रसाद, जानिए आदि सम्मिलित हैं ।

ऑनलाइन पढ़ें
लाइक करें

लेख

टैरो कार्ड द्वारा फलादेश

नवेम्बर 2017

व्यूस: 2374

प्र.1. क्या मेरी बेटी को उसकी इच्छानुसार विश्वविद्यालय में दाखिला मिलेगा? उ.1. ऊपर दी गई तस्वीर के अनुसार हम देख सकते हैं कि एक महिला बैठी हुई है एक सिंहासन पर और आसमान एकदम पीला चमकदार है। आस-...और पढ़ें

माइनर आरकाना: ‘पेज आॅफ पेंटाकल्स’

नवेम्बर 2017

व्यूस: 1416

पिछले अंक में हमने माइनर आरकाना के सूट्स आॅफ वांड्स के ‘‘फाइव आॅफ वांड्स’’ का जिक्र किया था। प्रस्तुत अंक में हम ‘‘सूट्स आॅफ पेन्टाकल्स’’ के कार्ड विशेषतया फाइनांस के विषय में बताते हैं। अब हम आ...और पढ़ें

गठिया (जोड़ों का दर्द)

नवेम्बर 2017

व्यूस: 2171

अनेक प्रकार की वात व्याधियों में गठिया काफी विषम रोग है जिसकी चिकित्सा कठिन तो है लेकिन दुःसाध्य नहीं है। इस लेख में कुछ ऐसे दिशा निर्देश हैं जो बीमारी के आगाज से पूर्व अत्यंत उपयोगी सिद्ध हो सकते ...और पढ़ें

यहां सबकी भरती है झोली

नवेम्बर 2017

व्यूस: 1811

पवित्र, पुनीत और ऐतिहासिक मगध की धरती प्रारंभ काल से ही ऋषि-मुनि, साधक-संत, दरवेश, सूफी संत और फकीरों की साधना स्थली से भरा-पूरा है। आज भी इस पूरे क्षेत्र में एक से बढ़कर एक ऐसे-ऐसे स्थान हैं जहा...और पढ़ें

घर का वास्तु

नवेम्बर 2017

व्यूस: 2313

प्रश्नः- पंडित जी प्रणाम ! हमें बहुत दिनों के प्रयास के बाद यह फ्लैट हमारे बजट में मिल रहा है। यह सोसाइटी भी अच्छी है, हमारे दफ्तर की बस भी आती है तथा यह घर हमारी सब जरूरतों को भी पूरा करता है। कृ...और पढ़ें

शेयर बाजार में मंदी-तेजी

नवेम्बर 2017

व्यूस: 2465

ग्रहों की गोचर स्थिति सूर्य 16 नवंबर को 12 बजकर 22 मिनट पर तुला राशि से वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। मंगल 30 नवंबर को 5 बजकर 21 मिनट पर कन्या राशि से तुला राशि में प्रवेश करेगा। बुध 2 नवंबर को...और पढ़ें

राहू कि महादशा में नवग्रहों कि अंतर्दशाओं का फल एवं उपाय

आगस्त 2008

व्यूस: 242863

राहू मूलत: छाया ग्रह है, फिर भी उसे एक पूर्ण ग्रह के समान ही माना जाता है। यह आर्द्रा, स्वाति एवं शतभिषा नक्षत्र का स्वामी है। राहू कि दृष्टि कुंडली के पंचम, सप्तम और नवम भाव पर पड़ती है। जिन भावों पर ...और पढ़ें

और लेख पढ़ें