पितृ दोष

पितृ दोष  सितम्बर 2016

अंक के और लेख | व्यूस : 5989 |
फ्यूचर समाचार का वर्तमान अंक विशेष रूप से पितृ दोष को समर्पित है। हमारे धार्मिक ग्रन्थों से हमें पता चलता है कि हमें अपने पितरों को समय-समय पर भोजन व अन्य सामग्रियां प्रदान करते रहना चाहिए। विशेष रूप से भाद्रपद महिने के कृष्ण पक्ष प्रतिपदा से अमावस्या तक के 15 दिन पूर्ण रूप से पितरों की सेवा के लिए ही होते हैं। पुरानों और अन्य धार्मिक ग्रन्थों से पता चलता है कि इस समय हमारे पितर पृथ्वी पर विशेष रूप से अपने सम्बन्धियों से भोजन व सम्मान प्राप्त करने आते हैं तथा इसके बदले में सम्बन्धियों को पूर्ण आशीर्वाद प्रदान करके लौट जाते हैं। इस वर्तमान अंक में बहुत सारे पितृ दोष से सम्बन्धि अच्छे लेख शामिल किए गये हैं। उनमें से कुछ विशेष लेख हैं: जानें क्या होता है पितृ दोष, कैसे कम होता है इसका प्रभाव?, श्राद्ध के साथ करें पितरों को विदा, पितृ पूजा: पहचान एवं उपाय, पितृ दोष से उत्पन्न ऊपरी बाधाएं, पितृ दोष: ज्योतिषीय योग एवं निवारण आदि।
fyuchar samachar ka vartaman ank vishesh rup se pitri dosh ko samarpit hai. hamare dharmik granthon se hamen pata chalta hai ki hamen apne pitron ko samy-samay par bhojan v anya samagriyan pradan karte rahna chahie. vishesh rup se bhadrapad mahine ke krishn paksh pratipda se amavasya tak ke 15 din purn rup se pitron ki seva ke lie hi hote hain. puranon aur anya dharmik granthon se pata chalta hai ki is samay hamare pitar prithvi par vishesh rup se apne sambandhiyon se bhojan v samman prapt karne ate hain tatha iske badle men sambandhiyon ko purn ashirvad pradan karke laut jate hain. is vartaman ank men bahut sare pitri dosh se sambandhi achche lekh shamil kie gaye hain. unmen se kuch vishesh lekh hain: janen kya hota hai pitri dosh, kaise kam hota hai iska prabhav?, shraddh ke sath karen pitron ko vida, pitri puja: pahchan evan upay, pitri dosh se utpann upri badhaen, pitri dosh: jyotishiya yog evan nivaran adi.



पितृ दोष  सितम्बर 2016

फ्यूचर समाचार का वर्तमान अंक विशेष रूप से पितृ दोष को समर्पित है। हमारे धार्मिक ग्रन्थों से हमें पता चलता है कि हमें अपने पितरों को समय-समय पर भोजन व अन्य सामग्रियां प्रदान करते रहना चाहिए। विशेष रूप से भाद्रपद महिने के कृष्ण पक्ष प्रतिपदा से अमावस्या तक के 15 दिन पूर्ण रूप से पितरों की सेवा के लिए ही होते हैं। पुरानों और अन्य धार्मिक ग्रन्थों से पता चलता है कि इस समय हमारे पितर पृथ्वी पर विशेष रूप से अपने सम्बन्धियों से भोजन व सम्मान प्राप्त करने आते हैं तथा इसके बदले में सम्बन्धियों को पूर्ण आशीर्वाद प्रदान करके लौट जाते हैं। इस वर्तमान अंक में बहुत सारे पितृ दोष से सम्बन्धि अच्छे लेख शामिल किए गये हैं। उनमें से कुछ विशेष लेख हैं: जानें क्या होता है पितृ दोष, कैसे कम होता है इसका प्रभाव?, श्राद्ध के साथ करें पितरों को विदा, पितृ पूजा: पहचान एवं उपाय, पितृ दोष से उत्पन्न ऊपरी बाधाएं, पितृ दोष: ज्योतिषीय योग एवं निवारण आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.