(15 लेख)
विष योग

जुलाई 2014

व्यूस: 8157

किसी भी जन्म-पत्रिका का विश्लेषण करते समय चंद्रमा का अध्ययन अति आवश्यक है क्योंकि संसार में सबका पार पाया जा सकता है परन्तु मन का नहीं। संसार के सारे क्रिया-कलाप मन पर ही टिके हुये हैं तथा मन को तो एक सफल ज्योतिषी ही अच्... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगभविष्यवाणी तकनीक

संतान, स्वास्थ्य, आजीविका एवं वैवाहिक सुख के लिए टोटक

फ़रवरी 2015

व्यूस: 7607

संतान प्राप्ति के उत्तम उपाय: - परिजात का एक कोमल पत्ता व श्वेत पुष्पी कटकारी का मूल लेकर बकरी के दूध में पीसकर माहवारी के बाद स्त्री को लगातार सात दिन तक खिलायें।... और पढ़ें

स्वास्थ्यअन्य पराविद्याएंउपायबाल-बच्चेभविष्यवाणी तकनीकटोटकेसंपत्ति

लक्ष्मी प्राप्ति के सरल उपाय

अकतूबर 2014

व्यूस: 7501

करें लक्ष्मी जी को प्रसन्न यदि आपकी जन्मपत्रिका में धन योग लक्ष्मी योग कमजोर है, हमेशा आर्थिक समस्याएं बनी रहती हैं और हमेशा शिकायत रहती है कि हमने तो इतने सारे उपाय किये कुछ नहीं हुआ इसका अर्थ है कि आपके पूर्व जन्मान... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतसंपत्ति

कुंडली में ग्रह की अशुभ स्थिति

जनवरी 2015

व्यूस: 7489

व्यक्ति का सारा जीवन कुंडली के नवग्रह और सत्ताईस नक्षत्रों के द्वारा ही संचालित होता है। अगर कुंडली में सारे ग्रह अच्छे और शुभ हैं तो फिर जीवन में कोई समस्या नहीं होती है और चारों ओर से खुशियों की ही वर्षा होती है। लेकिन अगर कुं... और पढ़ें

ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीक

शिव भक्त राहु

जुलाई 2014

व्यूस: 6665

ज्योतिष में राहु सर्प के प्रतीक हैं। वस्तुतः राहु में देवत्व के सभी गुण मौजूद हैं। ज्योतिष में राहु को तामसिक कहा गया है। राहु-केतु छाया ग्रह हैं। पाश्चात्य ज्योतिषियों के अनुसार राहु उत्तरी बिंदु पर और केतु दक्षिणी बिंदु को... और पढ़ें

ज्योतिषग्रह

दान मगर कल्याण

अप्रैल 2014

व्यूस: 5134

कीर्तिभवति दानेन तथा आरोग्यम हिंसया त्रिजशुश्रुषया राज्यं द्विजत्वं चाऽपि पुष्कलम। पानीमस्य प्रदानेन कीर्तिर्भवति शाश्वती अन्नस्य तु प्रदानेन तृप्तयन्ते कामभोगतः।। दान से यश, अहिंसा से आरोग्य तथा ब्राह्मणों की सेवा से राज्य ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायविविधमुहूर्तग्रह

अष्टकवर्ग से फलकथन

अकतूबर 2013

व्यूस: 4839

ज्योतिष शास्त्र में फलित करने की प्रायः तीन विधियां प्रचलन में रहती हैं - जन्म कुंडली, चन्द्र कुंडली तथा नवांश कुंडली। लग्न से शरीर का विचार होता है, चंद्रमा से मन का। जन्म पत्रिका में चंद्रमा से मन की स्थिति देखकर यह निश्चय किया ... और पढ़ें

ज्योतिषअष्टकवर्गकुंडली व्याख्याघरग्रहभविष्यवाणी तकनीक

वास्तु दोष समाधान

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3933

अपने घर को सजाने-सँवारने की इच्छा में हम अपनी पसन्द का चित्र खरीदकर घर में कहीं भी लगा देते हैं जो अनुचित है। वास्तु के ग्रन्थ ‘विश्वकर्मा प्रकाश’, ‘शिल्प संग्रह’, ‘विश्वकर्मीय शिल्प’, ‘राजबल्लभ वृहद वास्तु माला’ आदि ग्रन्थों म... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

पहचानें सिर से

आगस्त 2014

व्यूस: 2973

किसी व्यक्ति के सिर के सिर्फ बड़े छोटे होने से ही उसके गुणों का अनुमान नहीं लगाना चाहिए क्योंकि किसी वस्तु का ‘‘परिमाण’’ ही सब कुछ है ऐसा समझना गलत है। परिमाण से अधिक महत्व है गुण का। क्योंकि सिर बड़े होने से ही व्यक... और पढ़ें

ज्योतिषअन्य पराविद्याएंविविध

सुख लक्ष्मी तथा राज योग

जनवरी 2014

व्यूस: 2855

मनुष्य के जीवनकाल में इस सुख के लिए अनेकानेक रीतियाँ देखने में आती हैं कोई मनुष्य राजा सम्मत बन सम्मान, ऐश्वर्य प्राप्त करता है, कितने ही लोग व्यापार आदि में प्रवीण होकर कई देशों का वाणिज्य सूत्र अपने हाथ में लेकर अगाध ध् ान प्राप... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरमेदनीय ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)