क्या करें कि हम पितृ दोष एवं पितृ ऋण से मुक्त हों

क्या करें कि हम पितृ दोष एवं पितृ ऋण से मुक्त हों  

व्यूस : 2658 | सितम्बर 2016

सर्वप्रथम परिजनों को घर में भागवत कथा, गीता पाठ करना चाहिए। ऐसा समय-समय पर होता रहे तो परिवार में शांति बनी रहती है। प्रत्येक अमावस्या को पितर लोक का मध्याह्न होता है जब सूर्य चंद्र एक साथ होते हैं अर्थात दोनों एक ही अंश पर होते हैं उस दिन अमावस्या होती है। अमावस्या वाले दिन ब्राह्मणों को विधि-विधान से आदर सहित भोजन व दक्षिणा देनी चाहिए। ऐसा करने से पितृ प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देकर ही जाते हैं क्योंकि प्रत्येक अमावस्या को पितृ लोक से पितर पृथ्वी पर अपने घर परिजनों के पास एक आस लेकर आते हैं।

जब हम ब्राह्मण को कुछ देते हैं तो वो पितरों को समर्पित करने का मंत्र पढ़ता है उसके बाद ग्रहण करता है इस प्रकार हमारा दिया हुआ दान हमारे पूर्वजों तक पहुंच जाता है। जब भी श्राद्ध आये, वे वर्ष में दो बार आते हैं तब हमें अपने पितरों की शरीर त्यागने वाली तिथि पता करके विधिनुसार श्राद्ध कर्म, तर्पण, दान आदि अवश्य करना चाहिए अन्यथा पितर नाराज होकर श्राप देकर चले जाते हैं। पितृ दोष निवारण की एक अन्य विधि के अनुसार परिवार जन सब मिलकर श्रद्धापूर्वक नियमबद्ध होकर यदि विधि विधान से 90 दिन का पितृ दोष, पितृ ऋण निवारक उपाय करें तो उत्तम परिणाम प्राप्त होते हैं।


For Immediate Problem Solving and Queries, Talk to Astrologer Now


यह अमावस्या या शनिवार की संध्या के पश्चात आरंभ किया जाता है। परिवार के सभी सदस्य मिलकर संध्या के पश्चात एक समय का नियम बनायंे। एक लकड़ी की चैकी पर काला वस्त्र बिछाकर उस पर काली उड़द की दाल की ढेरी बनायें। उस ढेरी पर पितृ दोष नाशक, कनकधारा यंत्र स्थापित करें। इस पर रोज लाल या पीले गुलाब चढ़ायें। परिवार के सभी सदस्य काली हकीक माला से एक या तीन माला रोज निम्न मंत्र का जाप करें। मंत्र: ऊँ वं श्रीं वं ह्रीं श्रीं ऐं क्लीं कनक धारायै स्वाहा।’’ 90 दिन पश्चात सभी सामग्री काले वस्त्र में बांधकर माला सहित बहते जल में प्रवाहित करें।

जल प्रवाह संभव न हो तो गड्ढा खोदकर एकांत स्थान पर दबा दें। यदि यह भी संभव न हो तो मंदिर में सभी सामग्री रख आयें। 90 दिन में एक भी दिन न छोड़ें। सभी सदस्य न कर पायें तो एक सदस्य पुत्र या पुत्रवधू नियम से करे तभी शुभ फलों की प्राप्ति होगी। अनेक विधियों द्वारा पितरों की शांति की जाती है। पितरों को शांत करने के लिए पितरों का पिंड दान का सबसे बड़ा स्थान ‘गया जी’ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि गया जी में पितरों का पिंडदान करने से फिर प्रतिवर्ष पिंड दान की आवश्यकता नहीं पड़ती। पितरों के लिए जो भी कार्य करें पूर्ण श्रद्धा के साथ करें।


अपनी कुंडली में सभी दोष की जानकारी पाएं कम्पलीट दोष रिपोर्ट में


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

पितृ दोष  सितम्बर 2016

फ्यूचर समाचार का वर्तमान अंक विशेष रूप से पितृ दोष को समर्पित है। हमारे धार्मिक ग्रन्थों से हमें पता चलता है कि हमें अपने पितरों को समय-समय पर भोजन व अन्य सामग्रियां प्रदान करते रहना चाहिए। विशेष रूप से भाद्रपद महिने के कृष्ण पक्ष प्रतिपदा से अमावस्या तक के 15 दिन पूर्ण रूप से पितरों की सेवा के लिए ही होते हैं। पुरानों और अन्य धार्मिक ग्रन्थों से पता चलता है कि इस समय हमारे पितर पृथ्वी पर विशेष रूप से अपने सम्बन्धियों से भोजन व सम्मान प्राप्त करने आते हैं तथा इसके बदले में सम्बन्धियों को पूर्ण आशीर्वाद प्रदान करके लौट जाते हैं। इस वर्तमान अंक में बहुत सारे पितृ दोष से सम्बन्धि अच्छे लेख शामिल किए गये हैं। उनमें से कुछ विशेष लेख हैं: जानें क्या होता है पितृ दोष, कैसे कम होता है इसका प्रभाव?, श्राद्ध के साथ करें पितरों को विदा, पितृ पूजा: पहचान एवं उपाय, पितृ दोष से उत्पन्न ऊपरी बाधाएं, पितृ दोष: ज्योतिषीय योग एवं निवारण आदि।

सब्सक्राइब


.