Congratulations!

You just unlocked 13 pages Janam Kundali absolutely FREE

I agree to recieve Free report, Exclusive offers, and discounts on email.

सब तीरथ बार-बार गंगा सागर एक बार

फ़रवरी 2011

व्यूस: 26634

धार्मिक कार्यों के संपादन में तीर्थ अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ऐसे तीर्थों में गंगासागर का अपना अलग ही स्थान है। आइए, जानें गंगा सागर की स्थिति, उसकी कथा तथा मकर संक्रांति पर वहां लगने वाले मेले के बारे में... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

कहां से और कैसे प्राप्त होता है रुद्राक्ष

मई 2010

व्यूस: 12318

रूद्राक्ष मूलतः एक जंगली फल है। रूद्राक्ष कहां से और कैसे प्राप्त होता है इस विषय से संबंधित जानकारी इस आलेख में दी जा रही है...... और पढ़ें

स्थानरूद्राक्ष

एक सभ्य समाज के निर्माण की प्रक्रिया

मई 2014

व्यूस: 11997

विश्वव्यापी बहाई समुदाय इस कार्य में तल्लीन है कि किस प्रकार सभ्यता निर्माण की प्रक्रिया में यह अपना योगदान दे सके। यह दो प्रकार के योगदान को महत्व दे रहा है। पहले प्रकार का योगदान बहाई समुदाय के विकास और उन्नति से स... और पढ़ें

ज्योतिषस्थानअध्यात्म, धर्म आदिसुखविविध

बांसवाड़ा का प्राचीन माँ त्रिपुरा सुंदरी मंदिर

दिसम्बर 2014

व्यूस: 10469

वाग्वर शक्ति पीठ मां त्रिपुरा सुंदरी का यह सुरम्य स्थल ‘तरताई माता’ (तुरंत फल देने वाली माता) के नाम से विख्यात है। माँ त्रिपुरा तुरंत फल देने वाली ‘तरताई माता’ के रूप में अपने कई भक्तजनों को अपना शुभाशीर्वाद देकर लाभान्वित कर च... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

पितृ मोक्षधाम का महातीर्थ ब्रह्मकपाल

जुलाई 2013

व्यूस: 9929

वैदिक परंपरा के अनुसार पुत्र, पुत्रत्व तभी सार्थक होता है जब पुत्र अपने माता-पिता की सेवा करे व उनके मरणोपरांत उनकी मृत्यु तिथि व पितृपक्ष में विधिवत श्राद्ध करें। भारतीय वैदिक आदि सनातन हिंदू धर्म में मानव के जन्म मात्र से ही तीन... और पढ़ें

स्थानउपायअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

कालसर्प एवं द्वादश ज्योतिर्लिंग

मार्च 2013

व्यूस: 9332

कालसर्प योग की जन्मांग में उपस्थिति मात्र से जनसामान्य के मन में आतंक और भय की भावना उदित हो जाती हैं। कालसर्प योग से पीड़ित जन्मांग वाले जातकों का संपूर्ण जीवन अभाव अनवरत अवरोध, निरंतर असफलता, संतानहीनता, वैवाहिक जीवन में अनेक कष... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवस्थानउपायज्योतिषीय योगरत्नघरलाल किताबमंत्रग्रहमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

विशिष्ट महत्व है काशी के कालभैरव का

जून 2013

व्यूस: 9124

भारत देश की सांस्कृतिक राजधानी और मंदिरों की महानगरी वाराणसी में मंदिरों की कोई कमी नहीं। काशी तीर्थ में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक एक से बढ़कर एक मान्यता प्राप्त पौराणिक देवालय हैं पर इनकी कुल संख्या कितनी ह... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

रहस्यमय तपोभूमि कैलाश मानसरोवर

अप्रैल 2010

व्यूस: 8251

कैलाश पर्वत का नाम सुनते ही मन में इसके दर्शन की लालसा जग उठती है। ग्रंथों में उल्लेख है कि भगवान शिव बैकुंठ से भ्रमण करते हुए पृथ्वी पर उतरे और इस पवित्र पर्वत शिखर कैलाश को अपना वास स्थान बना लिया। प्रस्तुत है इस रहस्यमयी तपोभूम... और पढ़ें

स्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

केदारनाथ

आगस्त 2010

व्यूस: 6905

देवों के देव महादेव शिव की पावन स्थली है केदारनाथ। केदारनाथ मन्दिर की ऐतिहासिक एवं आध्यात्मिक महत्ता, अन्य दर्शनीय स्थल व प्राकृतिक सुन्दरता का चित्र उकेरता आलेख ...... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

गंगा का अंक ज्योतिष से संबंध

जनवरी 2011

व्यूस: 6625

गंगा नदी में इतनी गुणवत्ता व क्षमता क्यों और कैसे आईं। जिसे अंक ज्योतिष ने प्रमाणित किया है। यहां अंकों के माध्यम से इन सभी बातों को सुस्पष्ट करने का प्रयास कर रहे हैं।... और पढ़ें

अंक ज्योतिषस्थानभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)