पंच पक्षी की विशेषतायें एवं स्वभावगत लक्षण-2

मई 2014

व्यूस: 10863

संपूर्ण मानव समुदाय के लिए पांच भिन्न पक्षियां निरूपित की गई हैं। पक्षी का निर्धारण जन्म नक्षत्र एवं शुक्ल पक्ष/कृष्ण पक्ष में जन्म के आधार पर किया जाता है। इन पांचों पक्षियों की अपनी विशेषतायें एवं स्वभावगत लक्षण होते हैं। ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंविविधपंच पक्षीभविष्यवाणी तकनीक

पंच पक्षी की गतिविधिया

जून 2014

व्यूस: 4608

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंविविधपंच पक्षी

शुक्ल पक्ष बृहस्पतिवार को पंच पक्षी के कार्य

आगस्त 2014

व्यूस: 1925

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कल... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षी

शुक्ल पक्ष रात्रि में पंच पक्षी के कार्य

अकतूबर 2014

व्यूस: 1835

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षी

पंच पक्षी की विशेषतायें एवं स्वभावगत लक्षण-1

अप्रैल 2014

व्यूस: 1375

संपूर्ण मानव समुदाय के लिए पांच भिन्न पक्षियां निरूपित की गई हैं। पक्षी का निर्धारण जन्म नक्षत्र एवं शुक्ल पक्ष/कृष्ण पक्ष में जन्म के आधार पर किया जाता है। इन पांचों पक्षियों की अपनी विशेषतायें एवं स्वभावगत लक्षण होते हैं। हमारा ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षीभविष्यवाणी तकनीक

कृष्ण पक्ष: पंच पक्षी के कार्य-2

फ़रवरी 2015

व्यूस: 1231

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओं ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षीभविष्यवाणी तकनीक

कृष्ण पक्ष: पंच पक्षी के कार्य-1

जनवरी 2015

व्यूस: 1192

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओं ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षी

पंचपक्षी शास्त्र: यात्रा

मई 2015

व्यूस: 1180

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओं ... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षीभविष्यवाणी तकनीक

शुक्ल पक्ष: रात्रि में पंच पक्षी के कार्य-3

दिसम्बर 2014

व्यूस: 1028

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कलाओं... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षी

पंचपक्षी एवं प्रश्न शास्त्र (भाग-2)

आगस्त 2015

व्यूस: 994

कोई वस्तु खो गई है वह मिलेगी अथवा नहीं? यदि कोई प्रश्नकर्ता पंच पक्षी विशेषज्ञ से किसी खोई हुई वस्तु के बारे में पूछता है तो व्यक्ति के जन्मपक्षी के गतिविधि के अनुसार इस प्रश्न का सटीक उत्तर दिया जा सकता है। यदि प्रश्न करते... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंच पक्षीभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)