brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer

मन्दिर एवं तीर्थ स्थल


रोजगार एवं धन प्राप्ति के सरल उपाय

आगस्त 2011

व्यूस: 176104

नौकरी, व्यापार अथवा आजीविका के क्षेत्र में प्रयासरत रहने के बाद भी अनुकूल परिणाम प्राप्त न होने पर व्यक्ति के स्वभाव में निराशा का भाव आ सकता है. यही स्थिति शैक्षिक क्षेत्र में देखने में आती है. ऐसे में इस आलेख में दिए गए सरल उपाय... और पढ़ें

उपायकाला जादूमन्दिर एवं तीर्थ स्थलसंपत्ति

श्री हरसू ब्रह्म धाम

जून 2014

व्यूस: 32236

आदि अनादि काल से धर्म, संस्कृति व आस्था भाव से परिपूर्ण भारत देश में सनातन देवी देवताओं के अलावा कितने ही लोक देवी देवताओं की पूजा की जाती है। कहीं ये डाक बाबा, कहीं ये गोलू देवता, कहीं बालाजी, कहीं डिहवार बाबा, कह... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

सब तीरथ बार-बार गंगा सागर एक बार

फ़रवरी 2011

व्यूस: 26961

धार्मिक कार्यों के संपादन में तीर्थ अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ऐसे तीर्थों में गंगासागर का अपना अलग ही स्थान है। आइए, जानें गंगा सागर की स्थिति, उसकी कथा तथा मकर संक्रांति पर वहां लगने वाले मेले के बारे में... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

बांसवाड़ा का प्राचीन माँ त्रिपुरा सुंदरी मंदिर

दिसम्बर 2014

व्यूस: 10957

वाग्वर शक्ति पीठ मां त्रिपुरा सुंदरी का यह सुरम्य स्थल ‘तरताई माता’ (तुरंत फल देने वाली माता) के नाम से विख्यात है। माँ त्रिपुरा तुरंत फल देने वाली ‘तरताई माता’ के रूप में अपने कई भक्तजनों को अपना शुभाशीर्वाद देकर लाभान्वित कर च... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

पितृ मोक्षधाम का महातीर्थ ब्रह्मकपाल

जुलाई 2013

व्यूस: 10232

वैदिक परंपरा के अनुसार पुत्र, पुत्रत्व तभी सार्थक होता है जब पुत्र अपने माता-पिता की सेवा करे व उनके मरणोपरांत उनकी मृत्यु तिथि व पितृपक्ष में विधिवत श्राद्ध करें। भारतीय वैदिक आदि सनातन हिंदू धर्म में मानव के जन्म मात्र से ही तीन... और पढ़ें

स्थानउपायअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

कालसर्प एवं द्वादश ज्योतिर्लिंग

मार्च 2013

व्यूस: 9725

कालसर्प योग की जन्मांग में उपस्थिति मात्र से जनसामान्य के मन में आतंक और भय की भावना उदित हो जाती हैं। कालसर्प योग से पीड़ित जन्मांग वाले जातकों का संपूर्ण जीवन अभाव अनवरत अवरोध, निरंतर असफलता, संतानहीनता, वैवाहिक जीवन में अनेक कष... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवस्थानउपायज्योतिषीय योगरत्नघरलाल किताबमंत्रग्रहमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

विशिष्ट महत्व है काशी के कालभैरव का

जून 2013

व्यूस: 9265

भारत देश की सांस्कृतिक राजधानी और मंदिरों की महानगरी वाराणसी में मंदिरों की कोई कमी नहीं। काशी तीर्थ में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक एक से बढ़कर एक मान्यता प्राप्त पौराणिक देवालय हैं पर इनकी कुल संख्या कितनी ह... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

51 शक्ति पीठ

अकतूबर 2010

व्यूस: 9046

सती का शरीर 51 खंडों में विभक्त होकर जिस स्थान पर गिरे वे हिन्दुओं के प्रमुख तीर्थ स्थल माने जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि जहां शक्ति पीठ स्थापित है, वे स्थल ब्रह्मांड की ऊर्जा के असीम भंडार है। ये शक्तिपीठ भारत, पाकिस्तान, श्रीलं... और पढ़ें

देवी और देवमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

रहस्यमय तपोभूमि कैलाश मानसरोवर

अप्रैल 2010

व्यूस: 8326

कैलाश पर्वत का नाम सुनते ही मन में इसके दर्शन की लालसा जग उठती है। ग्रंथों में उल्लेख है कि भगवान शिव बैकुंठ से भ्रमण करते हुए पृथ्वी पर उतरे और इस पवित्र पर्वत शिखर कैलाश को अपना वास स्थान बना लिया। प्रस्तुत है इस रहस्यमयी तपोभूम... और पढ़ें

स्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

आदि शक्ति मां शारदा

मई 2011

व्यूस: 7526

शक्तिपीठों में आदि शक्ति मां शारदा का मंदिर आलौकिक ऊर्जा का केंद्र है। मां शारदा देवी मंदिर में मनौती पूरी होने का रहस्य पिरामिड एवं यंत्र है। मां शारदा की प्रतिमा के ठीक नीचे स्थित शिलालेख अपने अंदर मां का हिमा तथा इतिहास की अनेक... और पढ़ें

देवी और देवमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)