जन्म कुंडली से जानें कब होगी आपकी शादी?

जून 2014

व्यूस: 273896

शादी के बारे में कहा जाता है कि जोड़ियां स्वर्ग में निर्धारित होती हैं धरती पर तो केवल आयोजित होती हैं। शादी सात जन्मों का बंधन होता है। इतने पहले निर्धारित हुई शादी धरती पर संपन्न होने में इतनी देर क्यों हो जाती है। इस प्रश्न ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगदशाविवाहभविष्यवाणी तकनीक

राहू कि महादशा में नवग्रहों कि अंतर्दशाओं का फल एवं उपाय

आगस्त 2008

व्यूस: 263189

राहू मूलत: छाया ग्रह है, फिर भी उसे एक पूर्ण ग्रह के समान ही माना जाता है। यह आर्द्रा, स्वाति एवं शतभिषा नक्षत्र का स्वामी है। राहू कि दृष्टि कुंडली के पंचम, सप्तम और नवम भाव पर पड़ती है। जिन भावों पर राहू कि दृष्टि का प्रभाव पडता ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायग्रहहस्तरेखा सिद्धान्त

संतान प्राप्ति के अचूक उपाय

सितम्बर 2014

व्यूस: 257990

यदि किसी व्यक्ति को संतान प्राप्ति में समस्या आ रही हो, तो ऐसे व्यक्ति इस लेख में लिखे गये सरल उपायों को अपना कर संतान की प्राप्ति अति ही सहजता के साथ कर सकते हैं। किंतु उपायों को अति सावधानी से व श्रद्धा के साथ करना... और पढ़ें

ज्योतिषबाल-बच्चे

ज्योतिषीय दृष्टि में अंगों का फड़कना

अप्रैल 2011

व्यूस: 233702

सामुद्रिक षास्त्र में अंगों के फड़क्ने के विषय में बहुत कुछ बताया गया है लेकिन एक ही अंग के अलग अलग हिस्से फड़के तो क्या षुभाषुभ फल प्राप्त होता है, इसका विषिष्ट विवरण इस लेख में दिया गया है।... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणशकुन

भाग्य को मजबूत करने के उपाय

मार्च 2011

व्यूस: 225130

विद्या, बुद्धि से ऊपर भी भाग्य का योगदान व्यक्ति के जीवन में होता है तथापि भाग्येष के अनुकूल न होने के कारण जीवन में कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। ऐसी स्थिति से पार पाने के लिए अपने भाग्य को मजबूत करने के उपायों की जानक... और पढ़ें

ज्योतिषउपायभविष्यवाणी तकनीक

नजला – जुकाम : आम, मगर परेशान करने वाला रोग

सितम्बर 2011

व्यूस: 206919

नजला-जुकाम शीत के कारण होने वाला एक ऐसा रोग है, जिसमें से पानी बहने लगता है। मामूली-सा दिखने वाला यह रोग, कफ की अधिकता के कारण अधिक कष्टदायक हो जाता है। यों तो ऋतु आदि के प्रभाव से दोष संचय काल में संचित हो कर अपने प्रकोप... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीक

राहु की विभिन्न ग्रहों के साथ युति फल

जुलाई 2014

व्यूस: 193756

ज्योतिष शास्त्र में सात मुख्य ग्रहों और दो छाया ग्रहों को सर्वसम्मति से मान्यता प्राप्त है। राहु केतु छाया ग्रह हैं। छाया ग्रह होते हुये भी राहु की फलादेश में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। कोई भी ग्रह जब कुंडली में राहु ... और पढ़ें

ज्योतिषग्रह

स्वप्न और उनके फल

आगस्त 2007

व्यूस: 189442

जो यथार्थ में नहीं है। अवास्तविक है उसे सच की भांति साकार रूप में देखने का नाम स्वप्न है। अर्थात जो अपना नहीं है, उसे निद्रा में आंखो के सामने देखना सपना है। नहीं को सही में देखना ही तो स्वप्न कहलाता है। आधुनिक विज्ञानियों ने स्वप... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणसपनेभविष्यवाणी तकनीक

इच्छित संतान प्राप्ति के सुगम उपाय

मई 2006

व्यूस: 170722

संतान प्राप्ति की कामना मनु महाराज द्वारा वर्णित तीन नैसर्गिक इच्छाओं में से एक है। नि:संतान रहना एक भयंकर अभिशाप है। यह पूर्व जन्म मने किए गए कर्मों के फल है या फल का भोग है। संतान हो किंतु दुष्ट और कुल – कीर्तिनाशक हो तो यह स्थि... और पढ़ें

ज्योतिषउपायबाल-बच्चे

तिलों का ज्योतिष में महत्व

आगस्त 2014

व्यूस: 161835

तिलों के अध्ययन को Moleosophy कहा जाता है। हस्त विज्ञान, टैरो कार्ड तथा अंकषास्त्र की तरह ही डवसमवेवचील का अध्ययन भी ज्योतिष की ही शाखा है । ज्योतिष के अनुसार सिर्फ हाथ और माथे की रेखाएं ही नहीं बल्कि शरीर पर बने कई अन्य चिह... और पढ़ें

ज्योतिषअन्य पराविद्याएंविविध

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)