पंचपक्षी शास्त्र के अनुप्रयोग

पंचपक्षी शास्त्र के अनुप्रयोग  

पंचपक्षी शास्त्र आम जीवन में अति उपयोगी है। अपने जन्मपक्षी की उचित गतिविधियों वाले समय का चयन करके जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा इसके आधार पर हर दिन सबसे बुरे समयावधि का भी ज्ञान हो जाता है। उस कालावधि में सतर्कता बरतकर तथा महत्वपूर्ण कार्यों को कुछ समय के लिए स्थगित कर नुकसान अथवा असफलता से बचा जा सकता है। जन्मपक्षी के आधार पर अनुकूल समय में चाहे कोई भी महत्वपूर्ण कार्य किया जाय, उसकी सफलता की संभावना शत-प्रतिशत होती है। शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में हर व्यक्ति के जन्मपक्षी के अनुसार कुछ दिन एवं रात्रि बली होते हैं। यदि अपने बली दिन एवं रात्रि में ही अपने महत्वपूर्ण कार्य किए जाएं तो काफी बेहतर है। यदि ऐसा संभव नहीं है तो विकल्प के तौर पर अपने जन्मपक्षी के मित्र पक्षी के बली दिन अथवा रात्रि का चयन कर अपने महत्वपूर्ण कार्य संपादित कर सकते हैं। यदि यह भी करना संभव नहीं है तो किसी भी दिन अथवा रात्रि को कम से कम इतना तो कर ही सकते हैं कि अपने अथवा मित्र पक्षी की उचित गतिविधि एवं उपगतिविधि के दौरान कार्य संपादित करें। क्या करें जब किसंी अधिकारी के साथ आवश्यक मीटिंग हो हर व्यक्ति को किसी कार्य के लिए सरकारी अधिकारी अथवा अपने व्यावसायिक उद्देश्य से कंपनी अधिकारी अथवा ग्राहक आदि के साथ महत्वपूर्ण मीटिंग करनी होती है। मीटिंग में आपका वर्चस्व बना रहे तथा आपके मनोनुकूल परिणाम आएं इसके लिए आपको निम्नलिखित तरीके अपनाना चाहिए: 1. यथासंभव कोशिश करें कि मीटिंग उस दिन रखी जाय जिस दिन आपका जन्मपक्षी शासन करने की गतिविधि में संलग्न हो। यदि मीटिंग के समय उपगतिविधि भी शासन करने की ही हो तो मीटिंग का परिणाम निश्चित तौर पर आपके पक्ष में जाएगा। 2. जिस व्यक्ति के साथ आपकी मीटिंग हो रही है यदि उसका भी जन्मपक्षी आप वाला ही हो तो आप उस पर वर्चस्व स्थापित करने के लिए दो कार्य कर सकते हैं। आप अपने जन्मपक्षी के सर्वश्रेष्ठ रंग के वस्त्र पहन सकते हैं अथवा जन्मपक्षी के बली दिशा में अभिमुख होकर मीटिंग में बैठ सकते हैं अथवा दोनों कर सकते हैं। ऐसा करने से भी मीटिंग का परिणाम आपके पक्ष में जाएगा। 3. जब भी महत्वपूर्ण मीटिंग करनी हो तो उस व्यक्ति का जन्म विवरण ज्ञात कर उसके जन्मपक्षी एवं मीटिंग के समय उसकी गतिविधि का निर्धारण कर लें। तुलनात्मक रूप से जब आपका जन्मपक्षी उससे बली हो तभी मीटिंग का समय रखने का प्रयास करें। यदि उसका जन्म विवरण ज्ञात नहीं है तो उसके नामाक्षर के आधार पर उसके जन्मपक्षी का निर्धारण करें। 4. यदि मीटिंग का दिन आपके मन-मुताबिक रखना संभव न हो तो जिस किसी भी दिन मीटिंग रखी गई हो उस दिन कम से कम अपने जन्मपक्षी की उच्च गतिविधि का समय निश्चित करें अथवा अपने पक्षी के मित्र पक्षी का समय निर्धारित करें। ऐसा करने से भी लाभ होगा। कपड़े अपने जन्मपक्षी के रंग के अनुरूप पहनें तथा पक्षी के अनुकूल दिशा में अभिमुख होकर ही मीटिंग में बैठें। जाॅब अथवा इन्टरव्यू जाॅब अथवा इन्टरव्यू के लिए आए दिन बुलावा आता रहता है, अथवा आप आवेदन करते रहते हैं। कुछ लोग पहली बार नौकरी के लिए आवेदन करते हैं अथवा इन्टरव्यू के लिए जाते हैं तो कुछ लोग नौकरी परिवर्तन करना चाहते हैं इसलिए आवेदन करते हैं अथवा इन्टरव्यू के लिए जाते हैं। कई बार प्रतिभागी को एक ही दिन इन्टरव्यू के लिए दो-तीन स्थानों से बुलावा आ जाता है। इन इन सारी स्थितियों में क्या किया जाय जिससे सफलता प्राप्त करने के अवसर शत-प्रतिशत रहें? पंचपक्षी शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार आप यदि निम्नांकित बातों का ध्यान रखें तो सफलता आपके कदम चूम सकती है- 1. जाॅब के लिए आवेदन उस दिन करें जिस दिन आपका जन्मपक्षी शासन करने की गतिविधि संपादित कर रहा हो। 2. दिन का चयन हो जाने के उपरांत उस दिन उस समय का चयन करें जब आपके जन्मपक्षी की गतिविधि एवं उपगतिविधि दोनों शासन करने की चल रही हो। यदि यह समय चुनना संभव न हो तो अपने जन्मपक्षी के खाना खाने की गतिविधि/ उपगतिविधि के समय का चयन कर सकते हैं। 3. इन्टरव्यू का समय निश्चित करना तो आपके हाथ में नहीं है किंतु घर से निकलने के समय का ध्यान तो आप रख ही सकते हैं। कोशिश करें कि आप घर से उस वक्त निकलें जब आपका जन्मपक्षी अच्छी/शुभ गतिविधि-उपगतिविधि में संलग्न हो। यदि शुभ गतिविधि-उपगतिविधि एवं इन्टरव्यू के समय के बीच काफी अंतर हो तथा आपको ऐसा करना व्यावहारिक न लगे अथवा लगे कि घर से जाने के बाद 1-2 घंटे इंतजार करना पड़ेगा तो आप शुभ गतिविधि के समय में घर से तैयार होकर निकलें तथा अपना पेन अथवा रूमाल आदि घर से बाहर कहीं पास के दुकान वगैरह में रख दें तथा आप घर वापस आ जायें। आप यथासमय घर से इन्टरव्यू के लिए निकलें तथा अपने बाहर रखे हुए सामान को वापस लेकर इन्टरव्यू के लिए चले जायें। 4. यदि एक ही दिन दो-तीन जगह से इन्टरव्यू के लिए बुलावा आ गया हो तथा उसमें से आपको एक का चयन करना हो तो आप यह देखें कि जिस समय तीनों के लिए पत्र आया था उस समय आपका जन्मपक्षी किन-किन गतिविधियों में संलग्न था। जिस पत्र के प्राप्त करने के समय आपका जन्मपक्षी तीनों में से सर्वश्रेष्ठ गतिविधि में संलग्न होगा, उसी इन्टरव्यू के लिए जायें तो सफलता निश्चित रूप से मिलेगी। हो सकता है कि पत्र आपको तीन अलग-अलग दिनों में प्राप्त हों। तीनों दिनों में आप अपने जन्मपक्षी की गतिविधि की जांच करें। यदि उन दिनों में आपके जन्मपक्षी अथवा मित्र पक्षी की शासन करने की गतिविधि होगी तो उस इन्टरव्यू के लिए अपना मन बनाएं तो कामयाबी मिलेगी। 5. इन्टरव्यू के लिए आप अपने जन्मपक्षी के रंग के अनुसार कपड़े पहनें। यदि उस रंग का कपड़ा पहनना व्यावहारिक न हो तो कम से कम उस रंग का एक रूमाल अवश्य रखें। अतः उपर्युक्त बातों को ध्यान में रखकर यदि आप अपने इन्टरव्यू के समय का चुनाव करेंगे तो आपको सफलता जरूर मिलेगी।


नवरात्र एवं दीपावली विशेषांक  अकतूबर 2015

फ्यूचर समाचार का यह विशेषांक देवी दुर्गा एवं धन की देवी लक्ष्मी को समर्पित है। वर्तमान भौतिकवादी युग में धन की महत्ता सर्वोपरि है। प्रत्येक व्यक्ति की इच्छा अधिक से अधिक धन अर्जिक करने की होती है ताकि वह खुशहाल, समृद्ध एवं विलासिता पूर्ण जीवन व्यतीत कर सके। हालांकि ईश्वर ने हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग अनुपात में खुशी एवं धन निश्चित कर रखे हैं, किन्तु मनोनुकूल सम्पन्नता के प्रयास भी आवश्यक है। इस विशेषांक में अनेक उत्कृष्ट आलेखों का समावेश किया गया है जो आम लोगों को देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कर सम्पन्नता अर्जित करने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। इन आलेखों में से कुछ महत्वपूर्ण आलेख इस प्रकार हैं- मां दुर्गा के विभिन्न रूप, दीपक और दीपोत्सव का पौराणिक महत्व एवं इतिहास, दीपावली का पूजन कब और कैसे करें, दीपावली के दिन किये जाने वाले धनदायक उपाय, तन्त्र साधना एक विवेचन आदि इन आलेखों के अतिरिक्त कुछ दूसरे स्थायी स्तम्भों के आलेख में समाविष्ट किये गये हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.