हरिश्चंद्र प्रसाद आर्य


(8 लेख)
जीवन में शकुन की महत्ता

जून 2014

व्यूस: 7347

शकुन एक ऐसा जाना माना माध्यम है जो व्यक्ति के जीवन में होने वाली शुभाशुभ घटनाओं का संकेत बनता है। आदिकाल से व्यक्ति शकुन में विश्वास करता चला आ रहा है। शकुन को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। अशुभ से बचने क... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंशकुन

ज्योतिष में अंकशास्त्र की भूमिका

जुलाई 2011

व्यूस: 3561

अंकशास्त्र का उदय भारतवर्ष में हुआ ज्योतिष जगत में अंकों का महत्व पुरातन काल से परिलक्षित होता रहा है। जो ज्योतिष के साथ अंकों के विशेष सामंजस्य को दर्शाती है।... और पढ़ें

ज्योतिषअंक ज्योतिषभविष्यवाणी तकनीक

फलादेश मे ंकारक ग्रहों का महत्व

जनवरी 2014

व्यूस: 2539

जन्म कुण्डली के बारह भावों से भिन्न-भिन्न बातों को देखा जाता है। ज्योतिष का मूल नियम यह है कि भाव की शुभाशुभता का विचार भाव और भावेश की बलवत्ता और उस पर पड़ने वाली अन्य ग्रहों की युति एवं दृष्टि द्वारा निर्णित होता है साथ ही नित्य ... और पढ़ें

ज्योतिष

हस्तरेखा शास्त्र: एक सिंहावलोकन

मार्च 2015

व्यूस: 1276

हस्तरेखा शास्त्र का विकास प्रथमतः भारत में ही हुआ। इसे सामुद्रिक शास्त्र के नाम से भी जाना जाता है। परंतु कुछ पाश्चात्य विद्वानों का ऐसा मानना है कि हस्तरेखा विज्ञान का प्रसार पहले चीन में ईसा मसीह के जन्म से 3000 वर्ष पूर्व... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रभविष्यवाणी तकनीकहस्तरेखा सिद्धान्त

भूतों की वैश्विक मान्यता

अकतूबर 2015

व्यूस: 939

दीपावली तंत्र-मंत्र एवं सिद्धि के दृष्टिकोण से सर्वाधिक उपयुक्त समय माना जाता है। इस समय अदृश्य शक्तियां भी काफी ऊर्जित रहती हैं तथा ब्रह्मांड में उन्मुक्त रूप से विचरण करती हैं। यद्यपि कि इनके अस्तित्व के विषय में मतैक्य का अभा... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंविविध

रत्नों से सुख का सृजन

जुलाई 2016

व्यूस: 287

रत्नों का प्रयोग हजारों साल से होता आ रहा है। ग्रहों के दोष निवारण में इनकी भूमिका असंदिग्ध है। आज विश्व के चप्पे-चप्पे में लोग इससे परिचित हो गये हैं कि रत्नों से ग्रह-दोषों का शमन होता है, परिस्थितियां अनुकूल हो जाती हंै।... और पढ़ें

ज्योतिषउपायरत्नभविष्यवाणी तकनीक

अक्षय धन प्राप्ति के उपाय

अकतूबर 2016

व्यूस: 168

हमारे यहां दीपावली और लक्ष्मी पूजा से धन प्राप्ति का एक अटूट संबंध है। दीपावली से पूर्व लोग अपने-अपने घरों और व्यापारिक स्थलों को अपने सामथ्र्य के अनुसार साफ-सुथरा कर दीपावली के दिन धन प्राप्ति एवं मां लक्ष्मी की प्रसन्नता ... और पढ़ें

देवी और देवउपायपर्व/व्रत

अष्टकूट मिलान वैवाहिक सुख की गारंटी नहीं

अकतूबर 2016

व्यूस: 83

हिंदुओं में वैदिक काल से ही सोलह संस्कारों की व्यवस्था बनाई गई है। इसमें विवाह संस्कार भी एक है। यह अति महत्वपूर्ण संस्कार है। गृहस्थ आश्रम को अन्य तीन आश्रमों ब्रह्मचर्य, वाणप्रस्थ और संन्यास का आधार बताया गया है। सुखी वैवाहिक ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणकुंडली मिलानभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)