(7 लेख)
संतान प्राप्ति के उपाय

मई 2014

व्यूस: 2743

सामाजिक जीवन में पारिवारिक खुशी एवं पितृ ऋण के मुक्ति बाबत आगम एवं आर्ष ग्रंथों में संतान का जन्म लेना दंपत्ति के लिए मंगलमय माना गया है। आइये हम अध्यात्मवाद एवं सरलतम् उपायों से चाहे बंध्या हो, काक बंध्या हो, कन्या बंध्या ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायबाल-बच्चेमंत्र

गर्भधारण संभावनाएं कब-कब

अप्रैल 2005

व्यूस: 2261

विवाह के बाद समय आता है संतानोत्पत्ति का जिसे शास्त्रों के अनुसार पितृऋण के रूप में जाना जाता है। जब बार-2 गर्भपात या गर्भधारण में देरी होती है तो दम्पति का चिंतित होना स्वाभाविक होता है। निराश दम्पति कई बार समय आने से पहले ही दत... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगबाल-बच्चेदशाभविष्यवाणी तकनीकगोचर

नेट परीक्षा - कौन होगा सफल

जनवरी 2013

व्यूस: 1979

एक सफल व सुरक्षित भविष्य की तलाश हर युवा पीढ़ी का सपना होती है। वर्तमान समय की चुनौतियों से निबटने के लिए हमारा मेहनती युवा वर्ग अनेक तरह की प्रतियोगिता परीक्षाएं देता रहता है। इन्हीं परीक्षाओं में से एक है नेट की परीक्षा जिसे पास ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगशिक्षाकुंडली व्याख्याघरग्रहभविष्यवाणी तकनीक

जन्म दशा से जुड़ा पंचम, नवम व द्वादश भावों का संबंध

अकतूबर 2007

व्यूस: 1530

हिंदू ज्योतिष कर्म तथा पुनर्जन्म के सिद्धांत पर आधारित है। यह तथ्य प्रायः सभी ज्योतिषी तथा ज्ञानीजन अच्छी तरह से जानते हैं। मनुष्य जन्म लेते ही पूर्व जन्म के परिणामों को भोगने लगता है। जैसे फल फूल बिना किसी प्रेरणा के अपने आप बढ़ते... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगदशाकुंडली व्याख्याघरभविष्यवाणी तकनीक

क्या आपके ग्रह देंगे उत्पादन इकाई

जनवरी 2006

व्यूस: 1313

उत्पादन कार्य एक जटिल, महंगा तथा तकनीकी कार्य रहा है। आज के प्रतिस्पर्धी युग में यह और भी जोखिम भरा तथा पेचीदा हो चला है। हर व्यक्ति, जो उत्पादन से जुड़ना चाहता है, उत्पादन कार्य में हाथ डालने से पहले ही इसकी सफलता को लेकर चिंतित ह... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगग्रहभविष्यवाणी तकनीक

शीघ्र ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति

मई 2015

व्यूस: 1185

एक बार एक धनी व्यक्ति था जो अपने जीवन में सब प्रकार से संपन्न था। उसके पास अतुल संपत्ति, घोड़े, भूमि और अनेक दास दासियां थी। जब साईं बाबा की कीर्ति उसके कानों तक पहुंची तो उसने अपने एक मित्र से कहा कि ‘‘मेरे लिए अब किसी वस्त... और पढ़ें

देवी और देवविविध

श्रीसूक्त की साधना देती है संपूर्ण समृद्धि

अकतूबर 2015

व्यूस: 811

वैसे तो धन वृद्धि के लिए अनेक उपाय, मंत्र इत्यादि होते हैं परंतु श्री सूक्त में भगवती लक्ष्मी मां की विशेषतम् कृपा है जिसके पाठ से जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में ‘‘श्री’’ की प्राप्ति होती है तथा मां लक्ष्मी भगवान विष्णु के सहि... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)