सम्मोहन-वशीकरण आदि के प्रयोग

आगस्त 2010

व्यूस: 90107

. सम्मोहन व वशीकरण जिसे प्राण विद्या या त्रिकाल विद्या भी कहते हैं भारत की प्राचीन विद्या है। रूद्रयामल व तंत्र चूड़ामणि में सम्मोहन के विभिन्न तरीकों व सम्मोहन चिकित्सा द्वारा रोगी को लाभ व वशीकरण के कुछ उपयोगी मंत्रों का उल्लेख क... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंउपायमंत्रविविध

रोगों के कारक ग्रह और उनके ज्योतिषीय उपाय

जनवरी 2006

व्यूस: 8342

रोग कारक ग्रह जब गोचर में जन्मकालीन स्थिति में आते हैं और अंतर-प्रत्यंतर दशा में इनका समय चलता है तो उसी समय रोग उत्पन्न होता है। यदि षष्ठेश, अष्टमेश एवं द्वादशेश तथा रोग कारक ग्रह अशुभ तारा नक्षत्रों में स्थित होते हैं तो रोग की... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यउपायज्योतिषीय योगचिकित्सा ज्योतिषभविष्यवाणी तकनीक

वृक्षों का वैदिक महत्व

अप्रैल 2004

व्यूस: 7283

पश्चिम के लोग तथा नये पढ़े-लिखे भारतीय भारत देश में प्रचलित वृक्ष पूजा का बड़ा मजाक उड़ाते हैं, जबकि स्वयं पूरे विश्व को क्रिसमस के दिन क्रिसमस ट्री की आराधना करने के लिए प्रेरित करते हंै। भारतीयों को पेड़-पत्ते का पुजारी कहा जाता है।... और पढ़ें

ज्योतिषअन्य पराविद्याएंअध्यात्म, धर्म आदि

स्वास्तिक क्यों पूजा जाता है?

अकतूबर 2013

व्यूस: 6893

जैसे देवताओं में प्रथम पूजनीय श्रीगणेश जी हैं, उसी प्रकार चिह्नाकृति में यदि कोई है तो वह स्वास्तिक अर्थात सतिया है। अब प्रश्न उठता है कि यह चिह्न सर्वोपरि पूजनीय है तो क्यों ? यह प्रश्न जितना गंभीर है, उससे हीं अधिक विचारणीय विषय... और पढ़ें

उपायविविध

कैरियर और ज्योतिष

अप्रैल 2010

व्यूस: 5153

आजीविका और कैरियर के विषय में दशम भाव को सबसे अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। इसके अतिरिक्त कैरियर के लिए हम द्वितीय तथा षष्ठ भाव को भी महत्वपूर्ण दर्जा देते हैं जिसमें दशम भाव हमारा कर्म क्षेत्र है हम जो भी कार्य करते हैं उसका निर्... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरग्रहभविष्यवाणी तकनीकव्यवसाय

श्री श्री रविशंकर जी

जून 2011

व्यूस: 4876

आज के इस आधुनिक युग में श्री श्री रविशंकर जी को कौन नहीं जानता। ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक एवं अध्यात्म गुरु श्री श्री रवि शंकर जी की खयाति देश एवं विदेश हर जगह है। ग्रहों की कहानी और ग्रहों की जुबानी स्तंभ में हम उनके जीवन के दिव... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

ग्र्रह व पाठ्यक्रम

अकतूबर 2010

व्यूस: 3640

आज के इस युग में प्रत्येक विद्यार्थी या उसके अभिभावक हमेशा इस बारे में चिंतित रहते हैं कि उसकी संतान आज के इस दौर की पढ़ाई में ऐसी कौन सी उच्च शिक्षा ग्रहण करे कि उसका भविष्य सुनिश्चित हो जाए। ऐसी परिस्थिति में वह अपने ज्योतिषी के ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगशिक्षाकुंडली व्याख्याघरग्रहहस्तरेखा सिद्धान्तव्यवसाय

अलबेला अलबर्ट

जुलाई 2011

व्यूस: 3412

नोबेल पुरस्कार विजेता अलबर्ट आइंस्टीन अपनी वैज्ञानिक उपलब्धियों एवं नोबेल पुरस्कार के बारे में विश्व विख्यात है। आइए एक ज्योतिषीय विश्लेषण द्वारा यह देखने की कोशिक की जाए कि अल्बर्ट के इतने विलक्षण प्रतिभा से संपन्न होने के कौन से... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगदशाकुंडली मिलानभविष्यवाणी तकनीकगोचर

परम पूज्य श्री सांई बाबा

फ़रवरी 2011

व्यूस: 3409

परम पूज्य श्री सांई बाबा के जीवन के बारे में बहुत से पक्ष अज्ञात रहे हैं। आइए, उनकी कुंडली और जीवन के अज्ञात पक्षों के बारे में दी गयी खोजपूर्ण जानकारी प्राप्त करें।... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवदशाकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

वैजयंती माला

मई 2011

व्यूस: 3102

विशिष्ट व्यक्तियों के जीवन काल का ज्योतिषीय विश्लेषण पढ़ चुके हैं इस अंक में प्रस्तुत है प्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री, नृत्यांगना व सांसद रह चुकी श्रीमती वैजयंती माला बाली का जीवन चक्र।... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगदशायशकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीकसफलता

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)