हिस्टीरिया

हिस्टीरिया  

व्यूस : 35353 | अप्रैल 2010

वैज्ञानिक फ्रॉयड ने पहली बार यह सिद्ध किया कि हिस्टीरिया भी एक आत्मरति है, जो विशेष श्रेणी के स्त्री-पुरुषों में अपने आप होती है; अर्थात ऐसे स्त्री-पुरुष जिनमें यौन का आवेश दमित होता है।

विवाह में विलंब, पति की पौरुषहीनता, तलाक, मृत्यु, गंभीर आघात, धन हानि, मासिक धर्म विकार, संतान न होना, गर्भाशय की बीमारियां, पति की अवेहलना या दुर्व्यवहार आदि कई कारणों से स्त्रियां इस रोग में ग्रस्त हो जाती हैं। इस रोग का वेग या दौरा सदा किसी दूसरे व्यक्ति की उपस्थिति में होता है। कभी किसी अकेली स्त्री को हिस्टीरिया का दौरा नहीं पड़ता। जिन स्त्रियों को यह विश्वास होता है कि उनका कोई संरक्षण, पालन, परवाह एवं देखभाल करने वाला है, उन्हें ही यह रोग होता है। यदि, इसके विपरीत, रोगी को विश्वास हो जाए कि किसी को उसकी चिंता नहीं है और कोई उसके प्रति सद्भावना-सहानुभूति नहीं रखता है और न कोई देखभाल करने वाला है तो उस स्त्री का यह रोग अपने आप ठीक हो जाता है। आयुर्वेद के अनुसार ज्ञानवाही नाड़ियों में तमोगुण एवं वात तथा रूखेपन की वृद्धि हो कर चेतना में शिथिलता, अथवा निष्क्रियता आ जाने से यह रोग होता है। इस रोग की शुरुआत से पूर्व, या रोग होने पर किसी अंग विशेष, स्नायु, वातवाहिनी में या अन्य कहीं क्या विकार हो गया है, यह पता नहीं चलता।


Get the Most Detailed Kundli Report Ever with Brihat Horoscope Predictions


हिस्टीरिया के लक्षण :

इस रोग के कोई निश्चित लक्षण नही होते, जिससे यह कहा जा सके कि रोग हिस्टीरिया ही है। अलग-अलग समय अलग- अलग लक्षण होते हैं। किन्हीं दो रोगियों के एक से लक्षण नहीं होते। रोगी जैसी कल्पना करता है, वैसे ही लक्षण दिखाई पड़ते हैं। साधारणतः रोगी बिना कारण, या बहुत मामूली कारणों से, हंसने या रोने लगता है। प्रकाश या किसी प्रकार की आवाज उसे अप्रिय लगते हैं। सिर, छाती, पेट, शरीर की संधि, रीढ़ तथा कंधों की मांसपेशियों में काफी वेदना होने लगती है। प्रायः दौरे से पहले रोगी चीखता, किलकारी भरता है तथा उसे लगातार हिचकियां आती रहती हैं। मूर्च्छा में रोगी के दांत भी भिंच सकते है।

दौरे के समय विशेष :

सर्वप्रथम रोगी को होश में लाने के लिए उसे लिटा देना चाहिए। साथ ही कमरे की खिड़कियां-दरवाजे खोल कर रखें, ताकि स्वच्छ और खुली हवा आ सके। यदि होश आने में देरी हो रही हो, तो ठंडे पानी के छींटे, या सिर पर ठंडे पानी की धार तब तक डालें, जब तक रोगी होश में न आ जाए। होश में आने पर रोगी को सांत्वना दें। कुछ तरल पेय, जैसे शर्बत, फलों का रस, मीठा दूध आदि पिलाएं। रोगी को हल्काफुल्का वातावरण, हास्यपूर्ण और सुखमय माहौल प्रदान करें, या फिर 5-10 दौरों के समय उसकी देखभाल, संभाल, परवाह, न करें, तो रोग स्वतः ठीक हो जाएगा।


Consult our astrologers for more details on compatibility marriage astrology


हिस्टीरिया रोग के कुछ तथ्य

  • इस रोग का दौर उस समय नहीं होता, जब रोगी अकेला होता है।
  • देखने में रोगी बेहोश मालूम होता है। लेकिन यह सच नहीं है। उसे होश रहता है।
  • यह रोग अधिकतर कुंवारी लड़कियों को होता है और विवाहिताओं में केवल उन्हें जो यौनतः अतृप्त होती हैं।
  • ज्यादातर सुंदर युवतियां इस रोग की शिकार होती हैं, जिनके शरीर पर कोई दाग या खरोंच नहीं पड़ता। उनके नितंब और वक्ष अविकसित होते हैं।
  • रोग का वेग अस्थायी और कम समय का होता है।
  • इसका दौरा अधिकतर बेकार और निरुद्देश्य जीवन बीताने वालों को होता है। लेकिन कुछ मामलों में कार्यव्यस्त जीवन बिताने वालों को भी होता है।
  • दौरे के समय सहानुभूति दिखलाने, प्यार करने और दुलारने से रोगी को प्रसन्नता मिलती है। दौरे के उपरांत रोगी शर्म महसूस करता है।
  • रोगी की इच्छा शक्ति दुर्बल होती है और प्रेरित होने पर ही वह सक्रिय बन पाता है।

डॉक्टरों के अध्ययन से यह तथ्य सामने आया है कि हिस्टीरिया के दौरे के दरम्यान चरम सुख मिलता है और इसके कारण रोगी के स्नायविक तथा भावात्मक तनावों की कमी आ जाती हैं, जिससे कुछ में दौरे का अंत स्खलन होता है।

चिकित्सा :

सर्वप्रथम एरंड तेल में भुनी हुई छोटी काली हरड़ का चूर्ण 5 ग्राम प्रतिदिन लगातार दे कर उसका उदर शोधन तथा वायु का शमन करें।

  • सरसों, हींग, बालवच, करजबीज, देवदाख मंजीज, त्रिफला, श्वेत अपराजिता मालकंगुनी, दालचीनी, त्रिकटु, प्रियंगु शिरीष के बीज, हल्दी और दारु हल्दी को बराबर-बराबर ले कर, गाय या बकरी के मूत्र में पीस कर, गोलियां बना कर, छाया में सुखा लें। इसका उपयोग पीने, खाने, या लेप में किया जाता है। इसके सेवन से हिस्टीरिया रोग शांत होता है।
  • लहसुन को छील कर, चार गुना पानी और चार गुना दूध में मिला कर, धीमी आग पर पकाएं। आधा दूध रह जाने पर छान कर रोगी को थोड़ा-थोड़ा पिलाते रहें।
  • ब्रह्मी, जटामांसी शंखपुष्पी, असगंध और बच को समान मात्रा में पीस कर, चूर्ण बना कर, एक छोटा चम्मच दिन में दो बार दूध के साथ सेवन करें। इसके साथ ही सारिस्वतारिष्ट दो चम्मच, दिन में दो बार, पानी मिला कर सेवन करें।
  • ब्राह्मी वटी और अमर सुंदरी वटी की एक-एक गोली मिला कर सुबह तथा रात में सोते समय दूध के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है।
  • जो रोगी बालवच चूर्ण को शहद मिला कर लगातार सवा माह तक खाएं और भोजन में केवल दूध एवं शाश का सेवन करे, उसका हिस्टीरिया शांत हो जाता है।
  • अगर रोगी कुंवारी लड़की है, तो उसकी जल्द शादी करवा देनी चाहिए। रोग अपने आप दूर हो जाएगा।

ज्योतिषीय दृष्टिकोण :

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से हम इस तथ्य पर पहुंचे कि हिस्टीरिया उन स्त्री-पुरुषों को होता है जिनके यौन का आवेश दमित रहता है और शारीरिक रूप से वे असंतुष्ट रहते हैं। ज्योतिष में कुंडली का बारहवां भाव यौन सुख का होता है और सप्तम भाव जीवन साथी, अर्थात पति/पत्नी का होता है। इन दोनों भावों के शुभ प्रभावों में रहने से जातक यौन सुख का पूर्ण आनंद उठाता है। इसलिए ज्योतिष दृष्टिकोण से देखें, तो सप्तम भाव, सप्तमेश, द्वादश भाव और द्वादशेश अगर अशुभ प्रभावों में हैं, तो हिस्टीरिया रोग हो सकता है। इसके साथ, क्योंकि इसमें दौरा पड़ता है, इसलिए सूर्य, मंगल, चंद्र और लग्नेश के अशुभ प्रभावों में रहना जातक को हिस्टीरिया रोग से पीड़ित करता है।


Navratri Puja Online by Future Point will bring you good health, wealth, and peace into your life


विभिन्न लग्नों में हिस्टीरिया रोग

मेष लग्न : सप्तमेश छठे भाव में लग्नेश से युक्त, बुध अष्टम भाव में गुरु से युक्त हो, द्वादश भाव में चंद्र केतु से युक्त या दृष्ट हो, तो हिस्टीरिया रोग होने की संभावना होती है।

वृष लग्न : मंगल अष्टम् भाव में सूर्य से अस्त हो और बुध से युक्त हो, चंद्र सप्तम भाव में हो, और राहु-केतु से युक्त हो, लग्नेश शनि से युक्त, या दृष्ट हो और लग्न गुरु से दृष्ट हो, तो हिस्टीरिया रोग हो सकता है।

मिथुन लग्न : सप्तमेश केंद्र में चंद्र से दृष्ट या युक्त हो, द्वादशेश और लग्नेश मंगल से दृष्ट हों, बुध त्रिक भावों में अस्त हो, द्वादश भाव में केतु हो, तो जातक की कामेच्छा दमित रहती है, जिससे हिस्टीरिया रोग हो सकता है।

कर्क लग्न : शनि सूर्य से अस्त हो, लग्नेश राहु और केतु से दृष्ट या युक्त हो, बुध अस्त हो, मंगल-गुरु षष्ठ भाव में हों, तो जातक की यौन इच्छा दमित रहती है।

सिंह लग्न : शनि सप्तम भाव में राहु से दृष्ट हो और सूर्य शनि से दृष्ट हो, चंद्र त्रिकोण भाव में मंगल से युक्त हो और द्वादश भाव में शुक्र की दृष्टि हो, तो जातक को हिस्टीरिया रोग हो सकता है।

कन्या लग्न : गुरु (सप्मेश) द्वादश भाव में मंगल से दृष्ट या युक्त हो, सप्तम भाव केतु से दृष्ट हो, सूर्य पंचम भाव में और चंद्र सप्तम भाव में हों, बुध षष्ठ भाव में अस्त हो, तो जातक की कामेच्छा दमित होने से शारीरिक विकृतियां होती हैं।

तुला लग्न : शुक्र षष्ठ भाव में सूर्य से अस्त हो, केतु लग्न में चंद्र से युक्त हो, सप्तमेश द्वादश भाव में गुरु से दृष्ट, या युक्त हो, शनि शुभ प्रभावों से रहित हो, तो जातक अपनी कामेच्छा पूर्ण नहीं कर पाता।

वृश्चिक लग्न : शुक्र त्रिक स्थानों में, गुरु-केतु द्वादश भाव में हों, या दृष्टि रखें, लग्नेश अस्त हो, सूर्य सप्तम भाव में, या दृष्टि रखे, चंद्र राहु-केतु से दृष्ट हो, तो यौन इच्छाएं दमित होती हैं।

धनु लग्न : सप्तमेश बुध द्वादश भाव में, सूर्य एकादश भाव में हों, शुक्र लग्न में चंद्र से युक्त हो और केतु से दृष्ट हो, मंगल अष्टम भाव में और शनि सप्तम भाव पर दृष्टि रखें, तो जातक को हिस्टीरिया हो सकता है।


अपनी कुंडली में सभी दोष की जानकारी पाएं कम्पलीट दोष रिपोर्ट में


मकर लग्न : गुरु लग्न में और मंगल से दृष्ट हो, केतु द्वादश भाव में चंद्र से युक्त हो, बुध सप्तम भाव में, शुक्र षष्ट भाव में अस्त हो, तो जातक शारीरिक रूप से असंतुष्ट रहता है।

कुंभ लग्न : सप्तमेश सूर्य और द्वादशेश शनि षष्ठ भाव में हों और शनि अस्त हो, चंद्र लग्न में राहु-केतु से युक्त, या दृष्ट हो, गुरु सप्तम भाव में हो, या दृष्टि रखे, मंगल द्वादश भाव में हो, तो जातक की यौन इच्छा पूर्ण नहीं हो पाती।

मीन लग्न : गुरु (लग्नेश) षष्ठ भाव में अस्त हो, बुध पंचम भाव में शुक्र से युक्त हो, शनि द्वादश भाव में केतु से दृष्ट, या युक्त हो, चंद्र अष्टम भाव में मंगल से दृष्ट, या युक्त हो, तो जातक हिस्टीरिया जैसे रोग से ग्रस्त हो सकता है। उपर्युक्त सभी योग संबंधित ग्रह की दशा-अंतर्दशा में और गोचर के अनुसार होते हैं।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

पंचांग विशेषांक   अप्रैल 2010

इस अनुपम विशेषांक में पंचांग के इतिहास विकास गणना विधि, पंचांगों की भिन्नता, तिथि गणित, पंचांग सुधार की आवश्यकता, मुख्य पंचांगों की सूची व पंचांग परिचय आदि अत्यंत उपयोगी विषयों की विस्तृत चर्चा की गई है। पावन स्थल नामक स्तंभ के अंतर्गत तीर्थराज कैलाश मानसरोवर का रोचक वर्णन किया गया है।

सब्सक्राइब


.