सवार्थसिद्धिकारक अभिजित मुहूर्त

सवार्थसिद्धिकारक अभिजित मुहूर्त  

मनुष्य का जन्म अपने 'प्रारब्ध' (पूर्वजन्म के कर्म फल) अनुसार होता है। अच्छे 'प्रारब्ध' वाले शिशुओं की जन्म कुंडलियों में स्थित बलवान शुभ ग्रह योग उनके जीवन में सुख, सफलता, और समृद्धि प्रदान करते हैं। इसके विपरीत बुरे 'प्रारब्ध' वाले शिशु की कुंडली में अशुभ ग्रह योग उसके जीवन को कष्टमय और असफल बनाते हैं।


नव वर्ष विशेषांक  जनवरी 2011

शोध पत्रिका के इस अंक में स्वप्न विश्लेषण, हस्ताक्षर विश्लेषण, ज्योतिष, अंकविज्ञान व वास्तु पर शोध उन्मुख लेख शामिल हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.