सुनील जोशी जुन्नकर


(21 लेख)
गर्भ रक्षा एवं श्रेष्ठ संतान प्राप्ति के योग सूत्र एवं उपाय

जनवरी 2012

व्यूस: 88658

पुरुष के वीर्य और स्त्री के रज से मन सहित जीव (जीवात्मा) का संयोग जिस समय होता है उसे गर्भाधान काल कहते हैं। गर्भाधान का संयोग (काल) कब आता है ? इसे ज्योतिष शास्त्र बखूबी बता रहा है। चरक संहिता के अनुसार - आकाश, वायु, अग्नि, जल और... और पढ़ें

ज्योतिषउपायबाल-बच्चेघरमुहूर्तग्रह

लक्ष्मी को प्रसन्न करने हेतु सिद्ध शाबर मंत्र

अकतूबर 2008

व्यूस: 77352

उच्चारण की अशुद्धता की संभावना और चरित्र की अपवित्रता के कारण कलियुग में वैदिक मंत्र जल्दी सिद्ध नहीं होते । ऐसे में लोक कल्याण और मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए सरल तथा सिद्धिदायक शाबर मंत्रों की रचना गुरु गोरखनाथ शाबर... और पढ़ें

देवी और देवउपायमंत्रटोटके

शारीरिक लक्षणों व राजचिन्हों से जाने राजयोग

अप्रैल 2011

व्यूस: 36161

सामुद्रिक शास्त्र से हाथ पैर व मस्तिष्क की रेखाओं, विषेष चिन्हों तथा शारीरिक अंगों की वनावट और चेष्टाओं से मनुष्य के व्यक्तित्व और भविष्य को जानने का सही तरीका इस लेख में बताया गया है। विषेष रूप से पंच महापुरूष योग वाले व्यक्तियों... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंमुखाकृति विज्ञानभविष्यवाणी तकनीक

गृह निर्माण और वास्तु

दिसम्बर 2010

व्यूस: 11954

घर के वास्तु का प्रभाव उसमें रहने वाले सभी सदस्यों पर पड़ता है। इस तरह, मनुष्य के जीवन में वास्तु का महत्व अहम होत है। इसके अनुरूप घर का निर्माण करने से उसमें सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है।... और पढ़ें

वास्तुभूमि चयनमुहूर्तवास्तु पुरुष एवं दिशाएं

शुभ मुहूर्त हेतु चंद्र/ताराबल अवश्य देखें

जुलाई 2011

व्यूस: 6278

मुहूर्त के सभी विचारणीय विषयों में चंद्र बल आवश्यक विषयों में से एक है। यदि अनुकूल स्थितियां उपलब्ध न हों तो सही प्रकार से चुना हुआ लग्न मुहूर्त अशुभ योगों द्वारा उत्पन्न दोषों को दूर करने में सक्षम होता है। अतः किसी भी कार्य के प... और पढ़ें

ज्योतिषमुहूर्त

गुरु करेंगे मोदी का राजतिलक

अप्रैल 2014

व्यूस: 6217

ुजरात में जीत की हैट्रिक लगाने वाले भाजपा के पी. एम. इन वेटिंग नरेंद्र मोदी क्या वास्तव में भारत के प्रधानमंत्री बन सकते हैं अथवा नहीं? इसी प्रश्न की जांच-पड़ताल करता हुआ यह ज्योतिषीय लेख प्रस्तुत है। इसमें नरेंद्र मोदी की जन्मकुंड... और पढ़ें

ज्योतिषवशीकरण

शक्ति का संचरण और शक्ति आराधना

अकतूबर 2010

व्यूस: 5320

आद्याशक्ति की उपासना ग्रहों के अनिष्ट परिणामों से रक्षा कर सकती है। सभी लोगों विशेषकर ज्योतिष फलादेश देने वालों को तो शक्ति उपासना बहुत शक्ति प्रदान करती है। महाकाली, महासरस्वती, महालक्ष्मी, नवदुर्गा, दशविद्या, गायत्री अनेक रूपों ... और पढ़ें

देवी और देवविविध

शुभ मुहूर्त में लग्न का महत्व और अभिजित

अप्रैल 2011

व्यूस: 4052

विभिन्न कार्यों के लिए तिथि, वार, नक्षत्र आदि के आधार पर जिन मुहूर्तों का चयन किया जाता है, उनमें अथर्ववेद के अनुसार तिथि, वार, करण, योग, तारा, चंद्रमा तथा लग्न का फल उत्तरोत्तर हजार गुणा तक बढ़ता जाता है। परंतु महर्षि गर्ग, नारद औ... और पढ़ें

ज्योतिषअंक ज्योतिषहस्तरेखा शास्रमुहूर्तभविष्यवाणी तकनीक

त्योहार की एकरूपता के लिए जरूरी है तिथियों की एकरूपता

अप्रैल 2010

व्यूस: 4018

इस अनुपम विशेषांक में पंचांग के इतिहास विकास गणना विधि, पंचांगों की भिन्नता, तिथि गणित, पंचांग सुधार की आवश्यकता, मुख्य पंचांगों की सूची व पंचांग परिचय आदि अत्यंत उपयोगी विषयों की विस्तृत चर्चा की गई है। पावन स्थल नामक स्तंभ के अं... और पढ़ें

ज्योतिषपर्व/व्रतआकाशीय गणितपंचांग

राहु-केतु फैलाते है रेडिएशन

अप्रैल 2011

व्यूस: 3772

होरा शास्त्र में राहु केतु की युति जातक के जीवन में जिस प्रकार अनेक विकट स्थितियों को पैदा करती है उसी प्रकार मेदिनी संहिता के अनुसार इसकी परिधि में आने वाले देश भी ज्योतिषीय तथ्यों के आधार पर उद्घोष कर रहे हैं कि सूर्य से इन दोनो... और पढ़ें

उपायवास्तुगृह वास्तुव्यवसायिक सुधार

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)