(79 लेख)
नजला – जुकाम : आम, मगर परेशान करने वाला रोग

सितम्बर 2011

व्यूस: 149890

नजला-जुकाम शीत के कारण होने वाला एक ऐसा रोग है, जिसमें से पानी बहने लगता है। मामूली-सा दिखने वाला यह रोग, कफ की अधिकता के कारण अधिक कष्टदायक हो जाता है। यों तो ऋतु आदि के प्रभाव से दोष संचय काल में संचित हो कर अपने प्रकोप... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीक

अश्वगंधा:बलवर्धक एवं वात रोगों की विशेष औषधि

मई 2014

व्यूस: 82972

अश्वगंधा, कहने को तो एक जंगली पौधा है किंतु औषधीय गुणों से भरपूर है। इसे आयुर्वेद में विशेष महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है अश्व अर्थात् घोड़ा, गंध अर्थात् बू अर्थात् घोड़े जैसी गंध। अश्व गंधा के ... और पढ़ें

स्वास्थ्यविविध

नाभि चढ़ना : एक वास्तविक समस्या

अकतूबर 2011

व्यूस: 78756

शिशु रूप में जब मानव गर्भावस्था में होता है, तब नाभि ही एकमात्र वह मार्ग होता है, जिसके माध्यम से वह अपनी सभी महत्वपूर्ण क्रियाओं, जैसे सांस लेना, पोषक तत्वों को ग्रहण करना तथा व्यर्थ और हानिकारक पदार्थों का निष्कासन करता हहै। जन्... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यज्योतिषीय विश्लेषणविविध

गले का कैंसर

नवेम्बर 2012

व्यूस: 42602

गले का कैंसर अधिकतर दो प्रकार का होता है। गले के कैंसर के लक्षण- गले के स्वर यंत्र के कैंसर में आवाज भारी हो जाती हैं। गले की लसिका ग्रंथियों में सूजन भी आ जाती हैं। इसके अतिरिक्त सांस लेने व निगलने में भी तकलीफ होती हैं।... और पढ़ें

स्वास्थ्यविविध

पीपल पूज्य एवं गुणों की खान

सितम्बर 2013

व्यूस: 41072

पीपल हिन्दू धर्म का पूज्य वृ़क्ष माना जाता है। जैसे देवताओं में अनेक गुण होते हैं वैसे ही पीपल का वृक्ष भी गुणों की खान है इसलिए पीपल वृक्ष की पूजा वैसे ही होती है जैसे किसी देवता की। पीपल के पत्तों, शाखाओं, छाल एवं जड़ में तीव्र ... और पढ़ें

स्वास्थ्यविविध

हिस्टीरिया

अप्रैल 2010

व्यूस: 28684

‘हिस्टीरिया' रोग एक मनोरोग है। इस रोग का मूल कारण होता है रोगी किसी अतृप्त इच्छा को अपने अंतर्मन में दबाए रखता है। आइए, इस रोग के लक्षण व विभिन्न लग्नों में ज्योतिषीय कारणों का पता लगाएं।... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यउपायराशि

लहसुन

सितम्बर 2014

व्यूस: 23812

लहसुन रोगनाशक, बल एवं स्वास्थ्य वर्द्धक है। इसके खाने से भूख अच्छी लगती है और शरीर में गर्मी और चेहरे की चमक बनी रहती है। आयुर्वेद में लहसुन को रसायन कहा गया है। आयुर्वेद के अतिरिक्त अन्य चिकित्सा पद्धतियों ने ... और पढ़ें

स्वास्थ्यविविध

संग्रहणी पेट का गंभीर रोग

जून 2011

व्यूस: 22969

संग्रहणी रोग में शरीर में वसा का भंडार कम हो जाता है। इसके कारण शरीर के सारे अंग सिकुड़कर छोटे हो जाते हैं। आइए जानें, विभिन्न लग्नों में संग्रहणी रोग का ज्योतिषीय विश्लेषण... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीकराशि

सौंफ - मसालों की रानी और आषधीय गुणकारी

जनवरी 2014

व्यूस: 22703

शायद ही कोई व्यक्ति हो जो ‘सौंफ’ से परिचित न हो। सौंफ को मसालों की रानी और पान की जान भी कहा जाता है। सौंफ का पौधा झाड़ के समान पतली-पतली कोमल पत्तियों वाला होता है। यह बहुत अधिक ऊंचा नहीं होता। इसके फूल पीले होते हैं। इस पौधे पर ... और पढ़ें

स्वास्थ्यविविध

खाने में किसके साथ क्या खाएं क्या न खाएं

जनवरी 2015

व्यूस: 21911

अक्सर संतुलित आहार की बात होती है लेकिन इसके अतिरिक्त यह जानना भी आवश्यक है कि किस चीज को किसके साथ खाएं या किसको किसके साथ न खाएं। हम खाने में एक साथ कई चीजें खाना पसंद करते हैं। लेकिन एक ही समय कुछ चीजों को एक साथ खान... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)