किशोर घिल्डियाल


(23 लेख)
देवीपाठ विधि

अकतूबर 2010

व्यूस: 13386

भवनेश्वरी संहिता में कहा गया है जिस प्रकार से वेद अनादि है उसी प्रकार सप्तशती भी अनादि है। ऊँ ऐं हृीं क्लीं मंत्र तीनों महाशक्तियों के स्वरूप है। दुर्गा सप्तशती के 7०० श्लोक 7०० प्रयोगों के समान है। जिनको सिद्ध कर मनोवांछित फल की ... और पढ़ें

देवी और देवविविध

शनि मंगल युति

अकतूबर 2014

व्यूस: 9274

कालपुरुष की पत्रिका में शनि दशम व एकादश भाव तथा मंगल प्रथम व अष्टम भाव का प्रतिनिधित्व करते हैं। किसी की भी पत्रिका में इन दोनों ग्रहों का युति अथवा दृष्टि संबंध जातक विशेष को गुप्त रूप से कर्म कर लाभ प्राप्त करने जैसे फलांे की ... और पढ़ें

ज्योतिषकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

भूत-प्रेत बाधा: पहचान और निदान शाबर मंत्र अनुष्ठान

मार्च 2010

व्यूस: 9098

भूत-प्रेतों की गति एवं शक्ति अपार होती है। इनकी विभिन्न जातियां होती हैं और उन्हें भूत, प्रेत, राक्षस, पिशाच, यम, शाकिनी, डाकिनी, चुड़ैल, गंधर्व आदि विभिन्न नामों से पुकारा जाता है।... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंउपायमंत्रविविध

कालसर्प एवं लाल किताब उपाय

मई 2011

व्यूस: 9018

लाल किताब के अनुसार राहु केतु जिस राशि में हे, उस राशि के स्वामी ग्रह के उपाय करने चाहिए। प्रस्तुत लेख में विभिन्न काल सर्प योगों के उपायों की विधि एवं दान पूजा का वर्णन है।... और पढ़ें

ज्योतिषउपायलाल किताबभविष्यवाणी तकनीक

क्या है स्वप्न का विज्ञान?

जून 2010

व्यूस: 7864

हमारे मस्तिष्क को दिन भर जो सिगनल मिलते हैं और भावनाएं जागृत होती है जिन्हें हम चाह कर के भी नहीं प्रकट कर पाते वह हमारे अवचेतन मन में दर्ज होते जाते हैं रात को जब शरीर आराम कर रहा होता है तब यह स्वप्न रूप में प्रकट होते हैं। जानि... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंसपने

कारकांश लग्न द्वारा फलकथन

अप्रैल 2012

व्यूस: 6838

ज्योतिष की अनेकों विद्याओं में से एक विद्या जैमिनी ज्योतिष भी है जिसे जैमिनी ऋषियों द्वारा उपदेश सूत्रों के रूप में दिया गया है यह विद्या पराशरीय प्रणाली से विभिन्न होते हुये भी काफी सटीक व सूक्ष्म फलित व गणित कर पाने में सक्षम है... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरजैमिनी ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीक

प्रेम व अंतर्जातीय विवाह

जुलाई 2013

व्यूस: 5906

भारतीय समाज में विवाह एक संस्कार के रूप में माना जाता है। जिसमें शामिल होकर स्त्री पुरुष मर्यादापूर्ण तरीके से अपनी इच्छाओं की पूर्ति कर वंशवृद्धि या अपनी संतति को जन्म देते हैं। सामान्यतः विवाह का यह संस्कार परिवारजनों की सहमति य... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरविवाहग्रहभविष्यवाणी तकनीक

अच्छे अंक प्राप्ति के टोटके

फ़रवरी 2010

व्यूस: 4950

आजकल की इस तेज रफ्तार युग में हर व्यक्ति जल्द से जल्द सफल व संपन्न हो जाना चाहता है जिसके लिए वह अच्छी शिक्षा प्राप्त कर बड़ी से बड़ी नौकरी व आजीविका करना चाहता है।... और पढ़ें

उपायशिक्षाटोटकेराशि

मधुमेह

अकतूबर 2012

व्यूस: 4301

वर्तमान समय मं तेजी से बढ़ते हुये रोगों में से एक “डायबिटिस” अर्थात मधुमेह नामक रोग है। यह रोग “साइलेंट किलर” की भांति धीरे-धीरे प्रत्येक 10 में से 4 व्यक्तियों को अपने कब्जे में लेता जा रहा है। आजकल के इस भागदौड़ वाले समय में हमारी... और पढ़ें

स्वास्थ्यउपायकुंडली व्याख्याघरचिकित्सा ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीक

लग्न नक्षत्र स्वामी की लाभकरी दशा

अकतूबर 2013

व्यूस: 4276

ज्योतिष का अध्ययन करते समय कई बार यह विचार अवश्य आता है कि जन्म समय के चन्द्र नक्षत्र का प्रयोग जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में किया जाता है। इसी से ही दशाएं ज्ञात कर जातक विशेष के भविष्य से जुड़े सभी सवालों के जवाब दिये जाते हैं। ज्... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगदशाकुंडली व्याख्याघरग्रहभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)