(32 लेख)
ग्रह स्थिति एवं व्यापार

मई 2014

व्यूस: 1480

गोचर फल विचार मासारंभ में मंगल ग्रह का शनि व राहु से द्विद्र्वादश योग में रहना तथा सूर्य का शनि से समसप्तक योग में रहना राजनीतिज्ञों में परस्पर विरोधाभास को बढ़ाकर अशान्तमय माहौल पैदा करेगा। परस्पर विरोधी राजनीतिक दलों... और पढ़ें

ज्योतिषमेदनीय ज्योतिषगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

जून 2014

व्यूस: 1443

गोचर फल विचार मासारंभ में केतु व शुक्र का शनि व राहु ग्रहों से समसप्तक योग में बने होना तथा मंगल व शुक्र ग्रह का परस्पर षडाष्टक योग में होना राजनीति के क्षेत्र में परस्पर विरोधाभास की स्थिति दर्शाता है। शासकीय व्यवस्थ... और पढ़ें

ज्योतिषमेदनीय ज्योतिषभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

मार्च 2014

व्यूस: 1292

मासारंभ में 1 मार्च को तुला राशि स्थित वक्री गति के शनि व राहु ग्रहों के साथ मंगल का भी वक्री गति में रहना क्षेत्रीय दलों का विशेष राजनैतिक प्रभाव बढ़ना तथा जनता के द्वारा इनकी आलोचना का योग भी बनाता है।... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणविविधग्रहभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

जुलाई 2014

व्यूस: 1269

मासारंभ में गुरु का पुनर्वसु नक्षत्र और उच्चस्थ राशि कर्क में स्थित होकर उच्चस्थ शनि द्वारा दृष्टित होना और बुध व शनि का वक्री गति में होना प्राकृतिक प्रकोपों, भयंकर बाढ़ इत्यादि से जन-धन की भारी हानि का संकेत देता है। ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

जनवरी 2016

व्यूस: 1200

मासारंभ में सूर्य धनु में, चंद्र कन्या में, मंगल तुला में, बुध मकर में, गुरु सिंह में, शुक्र, शनि वृश्चिक में, राहु कन्या में, केतु मीन में, यूरेनस मीन में, नेप्च्यून कुंभ में और प्लूटो धनु राशि में स्थित होंगे।... और पढ़ें

ज्योतिषदशामेदनीय ज्योतिषभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

आगस्त 2014

व्यूस: 1097

गोचर फल विचार मासारंभ में शनि व मंगल का राशि संबंध में बने रहना तथा उच्चस्थ शनि की सूर्य व उच्चस्थ गुरु पर दृष्टि का होना प्रशासनिक फेरबदल के संकेत देता है। पूर्वोत्तर प्रदेशों में हिंसक घटनाओं व सांप्रदायिक तनाव से ज... और पढ़ें

ज्योतिषमेदनीय ज्योतिषभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

फ़रवरी 2014

व्यूस: 1001

कुछ क्षेत्रों में सांप्रदायिक और उपद्रवकारी तत्वों के उग्र और हिंसात्मक कार्यों से जन-धन की हानि का संकेत देता है और अशांति का वातावरण बनाएगा।... और पढ़ें

ज्योतिषअन्य पराविद्याएंविविध

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

अप्रैल 2014

व्यूस: 983

गोचर फल विचार इस मास में धनु राशि पर मंगल व शनि की दृष्टि होने से उपद्रवी तत्व अराजकता को बढ़ावा देंगे तथा किसी प्रमुख राजनीतिज्ञ का घोटाला प्रकाश में आएगा। इस मास में राजनीति क्षेत्र अधिक सक्रिय रहेगा। 14 अप्रैल को सूर्य का केतु क... और पढ़ें

ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीकगोचरसंपत्ति

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

दिसम्बर 2014

व्यूस: 948

मासारंभ में सूर्य वृश्चिक में, मंगल मकर में, शुक्र, शनि, बुध वृश्चिक में तथा राहु कन्या में, गुरु कर्क में, चंद्र तथा केतु मीन में, प्लूटो धनु में, यूरेनस मीन में नेप्च्यून कुंभ में स्थित होंगे।... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीकगोचर

ग्रह स्थिति एवं व्यापार

अकतूबर 2014

व्यूस: 904

गोचर फल विचार मासारंभ में बुध का वक्री होना तथा शुक्र का अस्त होना पड़ोसी देशों के साथ संबंधों में तनाव का कारण बनेगा तथा शनि व सूर्य का द्विद्र्वादश योग में होना तथा मंगल व शनि का भी द्विद्र्वादश योग में रहना तथा मंगल ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणमेदनीय ज्योतिष

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)