भगवान महावीर विशेषांक

भगवान महावीर विशेषांक  अप्रैल 2016

अंक के और लेख | व्यूस : 8681 |
फ्यूचर समाचार का इस माह का विशेषांक जैन धर्म को समर्पित है। जैन धर्म को प्राचीन धर्मों में से एक माना जाता है। इस विशेषांक के अन्तर्गत जैन धर्म के सभी पक्षों को पेश करने का प्रयास किया गया है। इस विशेषांक के अन्दर अति विशिष्ट लेखों को जगह दी गई है। इन लेखों के अतिरिक्त ज्योतिष, वास्तु एवं अंकशास्त्र आदि के लेख भी पूर्व की भांति ही सम्मिलित किए गये हैं। जैसे- भूखण्डों का श्रेणीकरण, दी सन, वास्तु सम्मत प्लाॅट, शेयर बाजार में मंदी-तेजी, ग्रह स्थिति एवं व्यापार, कुछ उपयोगी टोटके, आप और आपके प्रेम सम्बन्ध, बलिदान की प्रतिमूर्ति नीरजा भनोट आदि। इनके अतिरिक्त जैन धर्म पर प्रकाशित लेख इस प्रकार हैं- जैन धर्म इतिहास की नजर में, जैन धर्म का कर्म सिद्धान्त, जैन शिक्षा एवं संदेश, अहिंसा में स्थिरता के प्रेरक भगवान महावीर, चतुर्मास - क्या करें और क्या न करें, जैन धर्म के प्रमुख पर्व आदि।
fyuchar samachar ka is mah ka visheshank jain dharm ko samarpit hai. jain dharm ko prachin dharmon men se ek mana jata hai. is visheshank ke antargat jain dharm ke sabhi pakshon ko pesh karne ka prayas kiya gaya hai. is visheshank ke andar ati vishisht lekhon ko jagah di gai hai. in lekhon ke atirikt jyotish, vastu evan ankshastra adi ke lekh bhi purva ki bhanti hi sammilit kie gaye hain. jaise- bhukhandon ka shrenikaran, di san, vastu sammat plaet, sheyar bajar men mandi-teji, grah sthiti evan vyapar, kuch upyogi totke, ap aur apke prem sambandh, balidan ki pratimurti nirja bhanot adi. inke atirikt jain dharm par prakashit lekh is prakar hain- jain dharm itihas ki najar men, jain dharm ka karm siddhant, jain shiksha evan sandesh, ahinsa men sthirta ke prerak bhagvan mahavir, chaturmas - kya karen aur kya n karen, jain dharm ke pramukh parva adi.



भगवान महावीर विशेषांक  अप्रैल 2016

फ्यूचर समाचार का इस माह का विशेषांक जैन धर्म को समर्पित है। जैन धर्म को प्राचीन धर्मों में से एक माना जाता है। इस विशेषांक के अन्तर्गत जैन धर्म के सभी पक्षों को पेश करने का प्रयास किया गया है। इस विशेषांक के अन्दर अति विशिष्ट लेखों को जगह दी गई है। इन लेखों के अतिरिक्त ज्योतिष, वास्तु एवं अंकशास्त्र आदि के लेख भी पूर्व की भांति ही सम्मिलित किए गये हैं। जैसे- भूखण्डों का श्रेणीकरण, दी सन, वास्तु सम्मत प्लाॅट, शेयर बाजार में मंदी-तेजी, ग्रह स्थिति एवं व्यापार, कुछ उपयोगी टोटके, आप और आपके प्रेम सम्बन्ध, बलिदान की प्रतिमूर्ति नीरजा भनोट आदि। इनके अतिरिक्त जैन धर्म पर प्रकाशित लेख इस प्रकार हैं- जैन धर्म इतिहास की नजर में, जैन धर्म का कर्म सिद्धान्त, जैन शिक्षा एवं संदेश, अहिंसा में स्थिरता के प्रेरक भगवान महावीर, चतुर्मास - क्या करें और क्या न करें, जैन धर्म के प्रमुख पर्व आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.