वक्री ग्रह विशेषांक

वक्री ग्रह विशेषांक  अप्रैल 2015

अंक के और लेख | व्यूस : 13577 |
फ्यूचर समाचार के वक्री ग्रह विषेषांक में वक्री, अस्त व नीच ग्रहों के शुभाषुभ प्रभाव के बारे में चर्चा की गई है। बहुत समय से पाठकों को ऐसे विशेषांक का इंतजार था जो उन्हें ज्योतिष के इन जटिल रहस्यों को उद्घाटित करे। ज्ञानवर्धक और रोचक लेखों के समावेष से यह अंक पाठकों में अत्यन्त लोकप्रिय हुआ। इस अंक के सम्पादकीय लेख में वक्री ग्रहों के प्रभाव की सोदाहरण व्याख्या की गई है। इस अंक में वक्र ग्रहों का शुभाषुभ प्रभाव, अस्त ग्रहों का प्रभाव एवं उनका फल, वक्री ग्रहों का प्रभाव, नीच ग्रह भी देते हैं शुभफल, क्या और कैसे होते हैं उच्च-नीच, वक्री एवं अस्तग्रह, कैसे बनाया नीच ग्रहों ने अकबर को महान आदि महत्वपूर्ण लेखों को शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त बी. चन्द्रकला की जीवनी, पंचपक्षी के रहस्य, लाल किताब, फलित विचार, टैरो कार्ड, वास्तु, भागवत कथा, संस्कार, हैल्थ कैप्सूल, विचार गोष्ठी, वास्तु परामर्ष, ज्योतिष और महिलाएं, व्रत पर्व, क्या आप जानते हैं? आदि लेखों व स्तम्भों के अन्तर्गत बेहतर जानकारी को साझा किया गया है।
fyuchar samachar ke vakri grah visheshank men vakri, ast v nich grahon ke shubhashubh prabhav ke bare men charcha ki gai hai. bahut samay se pathkon ko aise visheshank ka intjar tha jo unhen jyotish ke in jatil rahasyon ko udghatit kare. gyanavardhak aur rochak lekhon ke samavesh se yah ank pathkon men atyant lokapriya hua. is ank ke sampadkiya lekh men vakri grahon ke prabhav ki sodaharan vyakhya ki gai hai. is ank men vakra grahon ka shubhashubh prabhav, ast grahon ka prabhav evan unka fal, vakri grahon ka prabhav, nich grah bhi dete hain shubhafal, kya aur kaise hote hain uchcha-nich, vakri evan astagrah, kaise banaya nich grahon ne akabar ko mahan adi mahatvapurn lekhon ko shamil kiya gaya hai. iske atirikt bi. chandrakla ki jivni, panchapakshi ke rahasya, lal kitab, falit vichar, tairo kard, vastu, bhagavat katha, sanskar, hailth kaipsul, vichar goshthi, vastu paramarsh, jyotish aur mahilaen, vrat parva, kya ap jante hain? adi lekhon v stambhon ke antargat behatar jankari ko sajha kiya gaya hai.



अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.