नवीन चित्तलांगिया


(4 लेख)
रुद्राक्ष धारण के नियम और विधि

मई 2010

व्यूस: 66649

रूद्राक्ष को प्रकृति की दिव्य औषधि कहा गया है यह शरीर में सकारात्मक और प्राणवान ऊर्जा का संचार करने में सक्षम है। अतः धारण करते समय इन नियमों का पालन करें तो मनोवांछित लाभ की प्राप्त होती है।... और पढ़ें

उपायरूद्राक्ष

राशि -ग्रह-नक्षत्र के अनुसार रुद्राक्ष धारण

मई 2010

व्यूस: 15825

वर्तमान समय में शुद्ध एवं दोषमुक्त रत्न बहुत कीमती हो चले हैं, जिससे वे जनसाधारण की पहुंच से बाहर है। अतः विकल्प के रूप में रूद्राक्ष धारण एक सरल एवं सस्ता उपाय है। ग्रह राशि नक्षत्र के अनुसार रूद्राक्ष धारण का संक्षिप्त विवरण यहा... और पढ़ें

ज्योतिषअंक ज्योतिषउपायनक्षत्रव्यवसायरूद्राक्षराशि

रुद्राक्ष के मुख और प्रकार

मई 2010

व्यूस: 8114

रूद्राक्षों में साधारणतः एक से सताइस धारियां होती हैं। इन्हीं मुखों के आधार पर इनका वर्गीकरण किया गया है और इन्हीं के अनुरूप इनके फल होते हैं। यहां अलग-अलग मुखों के रूद्राक्षों का विशद विवरण प्रस्तुत है।... और पढ़ें

उपायरूद्राक्ष

काल सर्प योग शांति के प्रमुख स्थल

मार्च 2006

व्यूस: 646

काल सर्प योग की शांति के लिए विशेष अनुष्ठान की आवश्यकता होती है। ये अनुष्ठान यदि सिद्ध स्थलों पर ही कराए जाएं तो उपाय शीघ्र प्रभावी होते हैं। देश में कई ऐसे स्थल हैं जिनकी जानकारी आम लोगों को नहीं होती। इस आलेख में काल सर्प योग... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगभविष्यवाणी तकनीकमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

लोकप्रिय विषय

बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)