लक्ष्मी आगमन के विशेष वास्तु उपचार

दिसम्बर 2009

व्यूस: 7036

गृह के मुख्य द्वारा को गृहमुख माना जाता है. इसका वास्तु शास्त्र में विशेष महत होता हा. यह परिवार व् गृहस्वामी की शालीनता,समृद्धि विद्वता दर्शाता है. इसलिए मुख्य द्वार को हमेशा बाकी द्वारों की अपेक्षा कुछ बड़ा व् सुसज्जित रखने की प्... और पढ़ें

देवी और देववास्तुभविष्यवाणी तकनीकसंपत्ति

वास्तु एवं ज्योतिष

फ़रवरी 2013

व्यूस: 6931

वास्तु का ज्योतिष से संबंध बहुत गहरा और अटूट हैं। दोनों एक-दूसरे के पूरक शास्त्र हैं। ज्योतिष,एक वेदांग है तो वास्तु उपवेद हैं। अर्थात वास्तु, वैदिक ज्योतिष का ही एक मुख्य भाग हैं।... और पढ़ें

ज्योतिषवास्तु

भोजशाला (रसोई)

अकतूबर 2010

व्यूस: 6729

जैसा खाओगे अन्न वैसा बनेगा मन (16 कक्षों की कल्पना के कारण में भोजनालय भी है।) इसलिये रसोईघर घर का सबसे संवेदनशील स्थान होता है। यह सर्वविदित है कि प्रत्येक प्राणी के जीवन में भोजन का बहुत महत्त्व है। क्योंकि यह शारीरिक व मानसिक द... और पढ़ें

स्वास्थ्यवास्तुसुखगृह वास्तुव्यवसायिक सुधारसंपत्ति

फेंगशुई

दिसम्बर 2010

व्यूस: 6720

फेंगशुई का शाब्दिक अर्थ है हवा और पानी जो हमारे जीवन के आवष्यक मूलभूत तत्व हैं। फेंगषुई चीनी वास्तु शास्त्र है जिसका मुख्य आधार भारतीय वास्तु ही है। फेंगशुई उपकरणों के द्वारा घर में सुख एवं समृद्धि लाने के कुछ उपयोगी उपायों का वर्... और पढ़ें

फेंग शुईवास्तुभवनफेंगशुई एवं वास्तुवास्तु दोष निवारणवास्तु के सुझाव

वास्तु और ज्योतिष

मई 2010

व्यूस: 6680

वास्तु और ज्योतिष एक दूसरे के पूरक होते हैं। जीवन के घटनाक्रम में आने वाले संकटों के निवारण के लिए ज्योतिषीय पहलू के साथ वास्तु दृष्टिकोण से विचार किस प्रकार से करें।... और पढ़ें

ज्योतिषवास्तुग्रह

ज्योतिषीय व वास्तु उपायों का संबंध

अकतूबर 2010

व्यूस: 6670

प्रत्येक व्यक्ति में यह स्वभाविक इच्छा होती है कि मैं सदा सुखी, धनी व स्वस्थ रहूं। जब उसकी किसी भी इच्छा की पूर्ति नहीं होती तो वह विचलित हो जाता है। अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए वह ज्योतिषीय वास्तु उपायों का सहारा लेता है।... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यउपायवास्तुसुखगृह वास्तुव्यवसायिक सुधारसंपत्ति

दक्षिण की ओर सावधानी से बढें (बड़ी दुकान हमेशा अच्छी नहीं होती)

सितम्बर 2010

व्यूस: 6625

दक्षिण पश्चिम (15) की ओर की दुकान खरीदने की सलाह दी गई और कहा गया कि यह दुकानें कुछ ज्यादा रेट पर भी मिल रही हों तो खरीद लेनी चाहिए। पूर्व की ओर उनकी दो दुकानें थीं जिसकी ऐन्ट्री बाहर की ओर से थी।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

वास्तु में अकंशास्त्र का उपयोग

जुलाई 2010

व्यूस: 6561

वास्तुशास्त्र में अंकों एवं ग्रहों का महत्वपूर्ण स्थान है। कौन सा अंक किस ग्रह से जुड़ा है व आपके नाम के शब्द के साथ कौन सा अंक जुड़ा है इसके आधार पर आप अपना मकान, प्लाट, जगह का निर्धारण करें तो आपके लिए फलदायक होगा।... और पढ़ें

अंक ज्योतिषवास्तुवास्तु के सुझाव

कक्षों की स्थिति व आंतरिक संरचना

अप्रैल 2010

व्यूस: 6469

गृह निर्माण के समय यदि वास्तु के नियमों का पालन किया जाए तो सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बना रहता है और जातक को सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है प्रस्तुत लेख में गृह वास्तु की विस्तृत जानकारी देने का प्रयास किया गया है।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

वास्तु दोष समाधान

दिसम्बर 2014

व्यूस: 6432

अपने घर को सजाने-सँवारने की इच्छा में हम अपनी पसन्द का चित्र खरीदकर घर में कहीं भी लगा देते हैं जो अनुचित है। वास्तु के ग्रन्थ ‘विश्वकर्मा प्रकाश’, ‘शिल्प संग्रह’, ‘विश्वकर्मीय शिल्प’, ‘राजबल्लभ वृहद वास्तु माला’ आदि ग्रन्थों म... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)