वास्तु के शुभ अशुभ शकुन

वास्तु के शुभ अशुभ शकुन  

- भूमि की खुदाई में जीवित सर्प निकले तो दुर्घटना का सूचक होता हैं। ऐसे में सर्प शांति कराकर कार्य आगे बढ़ाएं। - भूमि खोदते समय हड्डी या राख निकले, तो वहां शांति पाठ व पूजा कराएं। - बहुत अधिक पथरीली भूमि पर बने भवन के निवासियों को प्रायः कोई न कोई कष्ट बना ही रहता है। - भूमि का क्षेत्र चैरस तथा आयताकार हो तो शुभ होता है। परंतु यदि भूखंड टेढ़ा-मेढ़ा, त्रिकोणाकार या असमतल हो, तो घर के सदस्यों को कष्ट अत्यधिक सताता है। - घर में उत्तर-पूर्व की तरफ के भाग का खुला होना शुभ होता है। - घर के मध्य क्षेत्र में किसी बड़े गड्ढे या बहुत वजनी का सामान अथवा गंदगी होना घर के मुखिया के लिए हानिकारक होता है। - घर का मुख्य द्वार अत्यधिक बड़ा या विशाल न हो अन्यथा कई प्रकार की दुखद घटनाएं होती हैे। - अधिक ऊंचे दरवाजे होने से वहां प्रशासनिक बाधाएं आती हैं। - यदि घर का मुख्य दरवाजा अत्यधिक छोटा हो, तो चोरों का भय रहता है। - यदि घर के मुख्य द्वार के ठीक सामने सड़क हो, तो घर में रहने वालों पर संकट उत्पन्न हो सकता है। - घर के मुख्य द्वार के सामने कोई वृक्ष हो, तो वहां के निवासी ईष्र्यालु हो जाते हैं। - यदि घर के समक्ष कुआं हो, तो गृहवासी मस्तिष्कीय व्याधि से ग्रस्त हो जाते हैं। - यदि घर में अचानक ही काले चूहों की संख्या बढ़ जाए तो किसी विपŸिा के अनायास आगमन का अंदेशा रहता है। - जिस घर में काली चींटियां समूहबद्ध होकर घूमती हों, तो वहां सुख-ऐश्वर्य में वृद्धि होती है। और लाल चींटियां इस प्रकार घूमें तो बड़े नुकसान की संभावना बन जाती है। - जिस घर में दीमक या मधुमक्खी का छत्ता हो तो गृहस्वामी को असहनीय पीड़ा का सामना करना पड़ता है।


पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  दिसम्बर 2006

श्री लक्ष्मी नारायण व्रत | नूतन गृह प्रवेश मुहूर्त विचार |दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण |भवन निर्माण पूर्व आवश्यक है भूमि परिक्षण

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.