दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण

दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण  

दिल्ली में सीलिंग ! वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण विनय गर्ग इन दिनों दिल्ली में चल रही सीलिंग के कारण व्यापारी वर्ग में अफरातफरी का माहौल है। सीलिंग और मेट्रो की खुदाई का कहीं कोई अंतरसंबंध तो नहीं ! प्रस्तुत है दिल्ली की वर्तमान स्थिति का वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण... देश की राजधानी दिल्ली में वर्तमान समय में प्रत्येक व्यक्ति के मस्तिष्क में एक ही प्रश्न बार-बार कौंध रहा है कि सीलिंग का क्या होगा? क्या यह सीलिंग इसी तरह से लगातार चलती रहेगी, या कुछ समय पश्चात रुक जाएगी, या इसका कुछ समाधान निकल पाएगा? आखिर इतने बड़े व्यापारी वर्ग की रोजी-रोटी का क्या होगा? क्या यह व्यापारी वर्ग बेरोजगार होकर इधर-उधर भटकता रहेगा और अंततः दिल्ली से बाहर पलायन कर जाएगा? या क्या छोटे-छोटे व्यापारियों के व्यापार बंद हो जाने से चोरी, डकैती की घटनाओं में वृद्धि होगी और वे असामाजिक तत्वों में तब्दील हो जाएंगे दिल्ली भारत की राजधानी है और देश का दिल अर्थात हृदय कहलाती है। दिल्ली का दिल कहा जाए तो वह कनाॅट प्लेस का क्षेत्र है। दिल्ली में सीलिंग का प्रभाव यदि देखा जाए, तो विशेष रूप से व्यापारी वर्ग पर ही पड़ रहा है। अर्थात सीलिंग का सीधा-सीधा प्रभाव व्यापारी वर्ग ही झेल रहा है और सबसे अधिक पीड़ित व्यापारी वर्ग ही है। यदि दिल्ली में तोड़फोड़ और सीलिंग के लिए वास्तु का विश्लेषण किया जाए, तो सर्वप्रथम हमें अपना ध्यान दिल्ली क े कनाॅट प्ले सक्षे त्रपर के ंद्रित करना होगा, जिसे दिल्ली शहर का ब्रह्म स्थल माना जाना चाहिए। जब से दिल्ली के कनाॅट प्लेस क्षेत्र में मेट्रो स्टेशन का निर्माण कार्य आरंभ किया गया, जिसके लिए दिल्ली शहर के ब्रह्म क्षेत्र में गहरी खुदाई करके भूमिगत मेट्रो स्टेशन का निर्माण किया गया, तब से दिल्ली में अवैध निर्मार्णों की तोड़फोड़ और सीलिंग जैसे कार्य आरंभ हुए। वास्तु शास्त्र के अनुसार ब्रह्म स्थल को सदैव थोड़ा सा ऊंचा ही रहना चाहिए, जबकि वहां भूमिगत मेट्रो स्टेशन बनाकर उसे नीचा कर दिया गया। ज्ञात हो कि हमारे देश की न्यायपालिका ने 16 फरवरी 2006 को अवैध निर्माण हटाने के लिए बड़ी-बड़ी गैर कानूनी इमारतों को ढहाने के आदेश पारित किए थे। एम. सी. डी. द्वारा 28 मार्च 2006 की तिथि निर्माण ढहाने और सीलिंग की प्रक्रिया प्रारंभ करने की निश्चित की गई। वास्तु के अनुसार पूर्व, उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशा जल तत्व का क्षेत्र है। इसके विपरीत दक्षिण, पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम पृथ्वी तत्व का क्षेत्र है। इसलिए जल तत्व के क्षेत्र को हल्का-फुल्का तथा पृथ्वी तत्व के क्षेत्र को भारी भरकम व ऊंचा रखा जाता है ताकि वास्तु का संतुलन बना रहे। जहां एक ओर दिल्ली शहर में ब्रह्म स्थान में खुदाई का कार्य शुरू किया गया वहीं, पिछले 2 या 3 वर्षों में दिल्ली की पूर्व दिशा में निर्माण कार्य की भरमार बढ़ गई। दिल्ली के पूर्वी क्षेत्र के अंतर्गत गाजियाबाद, नोएडा, शाहदरा, इंदिरापुरम, ग्रेटर नोएडा आदि क्षेत्र आते हैं। यदि आप गौर करें तो पाएंगे कि इन क्षेत्रों में पिछले 2-3 सालों के अंदर कई महत्वपूर्ण बिल्डरों और यहां तक कि सरकार ने भी ऊंची-ऊंची इमारतों का निर्माण करके रिहायशी फ्लैटों की तथा शापिंग माॅल्स की बाढ़ सी ला दी है। इन इमारतों के फलस्वरूप दिल्ली शहर की पूर्वी दिशा, जो हल्की और खुली होनी चाहिए थी, बंद सी और भारी हो गई है। इसके विपरीत दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम या पश्चिम दिशा भारी होनी चाहिए और इसी दिशा में ऊंची इमारतें होनी चाहिए। इस दिशा में सोनिया विहार जल संयंत्र का निर्माण किया है। जिसके लिये भूमिगत जलाशयों का निर्माण भी किया गया है। अर्थात् जहां ऊंचा होना चाहिए था वहां नीचा कर दिया गया और जहां नीचा किया जाना था, वहां ऊंचा कर दिया गया इसके अतिरिक्त दक्षिणी दिशा में पूर्व की तुलना में न तो उतना अधिक निर्माण हो पाया और न ही ऊंची इमारतें ही बन पाईं। दिल्ली के दक्षिण क्षेत्र में विशेष रूप से जो क्षेत्र आते हैं वे हैं साउथ एक्सटेंशन, हौज खास, ग्रीन पार्क, सैनिक फार्म, साकेत आर. के.पुरम, नौरोजी नगर, सरोजनी नगर, मोती बाग आदि। इन क्षेत्रों में या तो अधिकतर सरकारी रिहायशी मकान हैं, या बड़े-बड़े एक मंजिला या दो मंजिले सरकारी या गैर सरकारी फ्लैट या फिर फार्म हाउस। कहने का तात्पर्य यह है कि दिल्ली का दक्षिणी क्षेत्र नीची इमारतों वाला, कम घना व खुला-खुला क्षेत्र है। जबकि इस क्षेत्र में ऊंची तथा भारी इमारतें होनी चाहिए थीं। मेट्रो के निर्माण कार्य के कारण भी दिल्ली का वास्तु बिगड़ता जा रहा है। क्योंकि इसके लिये ऊंचे और भारी खंभों का भी निर्माण किया जा रहा है। जिसके कारण वास्तु पुरुष के मर्मस्थल और अतिमर्म स्थलों पर भी खुदाई करनी पड़ रही है तथा ऊंचे-ऊंचे भारी-भारी खंभों का निर्माण किया जा रहा है। इस प्रकार निर्माण कार्य की प्रगति और दिशा देखें तो यह निर्माण कार्य वास्तु के नियमों के ठीक विपरीत हो रहा है। यही कारण है कि दिल्ली जैसे समृद्ध और देश का दिल कहे जाने वाले शहर का वास्तु असंतुलित हो गया है, जिसके कारण दिल्ली शहर में तोड़फोड़ और सीलिंग जैसी कार्यवाही हो रही है। जब तक यह असंतुलन नहीं रोका जाएगा, दिल्ली में तोड़फोड़ की कार्यवाही या किसी अन्य दैविक आपदा जैसी स्थिति की आशंका बनी रहेगी। इसके अतिरिक्त यदि इन सभी घटनाओं का ज्योतिषीय विश्लेषण किया जाए, तो 27 अक्तूबर 2006 को गुरु ने अपना राशि परिवर्तन कर तुला राशि से वृश्चिक राशि में प्रवेश किया है। उधर शनि ने 1 नवंबर को कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश किया है। यदि भारत की कुंडली पर विचार किया जाए, जो कि 14-15 अगस्त 1947 को 12.00 बजे मध्य रात्रि के आधार पर बनाई गई है, उसके अनुसार भारत का लग्न वृष है और चंद्र राशि कर्क है। कालपुरुष की कुंडली के अनुसार चैथा भाव हृदय का है और पराशरी पद्धति के अनुसार सप्तम को व्यापारी साझेदारी या व्यापार का भाव माना गया है।



पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  दिसम्बर 2006

श्री लक्ष्मी नारायण व्रत | नूतन गृह प्रवेश मुहूर्त विचार |दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण |भवन निर्माण पूर्व आवश्यक है भूमि परिक्षण

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.