Congratulations!

You just unlocked 13 pages Janam Kundali absolutely FREE

I agree to recieve Free report, Exclusive offers, and discounts on email.

राम नवमी (चैत्र शुक्ल नवमी)

अप्रैल 2014

व्यूस: 14084

अगस्त्य संहिता में कहा है: चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि में पवित्र पुनर्वसु नक्षत्र में गुरु नवांश में पांच ग्रहों के उच्च राशि में स्थित होने पर, मेष में सूर्य के प्राप्त होने पर तथा कर्क लग्न में कौशल्या महारानी से (महार... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

लक्ष्मी कहां रहती है और कहां नहीं रहती है।

अकतूबर 2009

व्यूस: 13945

लक्ष्मी चंचला है। उसका स्थायी निवास उसी स्थान पर होता है जहां उदारता, कर्मठता, गुरु एवं माता पिता की सेवा करने वाले लोग निवास करते हैं। आइए जानें, लक्ष्मी जी का प्रिय निवास स्थान कहां है? और कहां रहना उनको अप्रिय है ?... और पढ़ें

देवी और देवउपायसंपत्ति

लक्ष्मी प्राप्ति के उपाय

अकतूबर 2008

व्यूस: 13406

दीपावली पूजन स्थिर लग्न में करना ही सर्वोतम रहता है। पूजा घर में लक्ष्मी यंत्र, कुबेर यंत्र और श्री यंत्र रखना चाहिए। यदि स्फटिक का श्रीयंत्र कच्छ्पारुढ हो तो अति उतम अन्यथा स्वर्णपालिश मुक्त लें। एकाक्षी नारियल, दक्षिणावर्त शंख, ... और पढ़ें

देवी और देवउपायसंपत्ति

धन प्राप्त करने के अचूक उपाय

अकतूबर 2014

व्यूस: 13404

इस मानवीय जीवन में लक्ष्मी का प्रभुत्व छोड दें तो शेष रह जाता है शून्य। ‘‘सर्व गुणा कांचनमाश्रयन्ते अर्थवान सर्व लोकस्य बहुमतः। महेंद्र भप्यशंशींनं न बहु मन्यते लोक प्ररिद्रय खलु पुरूषस्य जीवितं मरणम।’’... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतसंपत्ति

पुरुषोत्तम मास के व्रत नियम

अप्रैल 2010

व्यूस: 13077

‘अधिमास' और ‘मलमास' भी कहते हैं। इस मास में पुरूषोत्तम भगवान वासुदेव की भक्तिपूर्वक साधना करने से व्यक्ति पापमुक्त होकर भगवान को प्राप्त हो सकता है। प्रस्तुत है पुरूषोत्तम मास के व्रत नियम।... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

शनिवार व्रत विधि

नवेम्बर 2014

व्यूस: 12736

- शनि व्रत शुक्ल पक्ष के प्रथम शनिवार से किया जा सकता है। - सूर्याेदय से पहले या अधिकतम प्रातः 9 बजे तक तांबे के कलश में जल में थोड़ी सी शक्कर और दूध मिला कर पश्चिम दिशा में मुंह कर के पीपल के पेड़ को अघ्र्य देना चाहिए।... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

मां को प्रसन्न करने हेतु सरल सूत्र

अकतूबर 2010

व्यूस: 12521

जगतजननी, शक्ति स्वरूपा मां दुर्गा की उपासना एक ऐसा मार्ग है जिस पर चलकर मनुष्य सभी सुखों का उपभोग व अपने कर्तव्य का पालन करके मोक्ष प्राप्त करता है। प्रस्तुत है उनकी पूजा अर्चना के हेतु कुछ सरल सूत्र... और पढ़ें

देवी और देवउपायमंत्र

महिलाओं के लिए वर्जित नहीं हनुमान साधना

आगस्त 2013

व्यूस: 12401

प्रायः कहा जाता है कि स्त्रियों को हनुमान जी की पूजा नहीं करनी चाहिए क्योंकि हनुमान जी ने जानकी जी को माता माना है।... और पढ़ें

देवी और देवविविध

मीरा की भक्ति भावना

फ़रवरी 2011

व्यूस: 12368

कृष्ण भक्तों में मीरा का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। आइए जानें उनके भक्तिमय जीवन की धारा किन-किन मोड़ों से निकलकर अपने आराध्य में विलीन हो गई।... और पढ़ें

देवी और देवविविध

धन प्राप्ति

अकतूबर 2014

व्यूस: 11771

प्रश्न: धन, संपत्ति एवं वैभव प्राप्त करने हेतु ज्योतिष, वास्तु एवं तंत्र-मंत्र के अनुभूत एवं कारगर उपायों का विस्तारपूर्वक वर्णन करें?... और पढ़ें

देवी और देवउपाययंत्र

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)