लक्ष्मी प्राप्ति के सरल उपाय

अकतूबर 2014

व्यूस: 11597

करें लक्ष्मी जी को प्रसन्न यदि आपकी जन्मपत्रिका में धन योग लक्ष्मी योग कमजोर है, हमेशा आर्थिक समस्याएं बनी रहती हैं और हमेशा शिकायत रहती है कि हमने तो इतने सारे उपाय किये कुछ नहीं हुआ इसका अर्थ है कि आपके पूर्व जन्मान... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतसंपत्ति

धनदायक अचूक उपाय

नवेम्बर 2014

व्यूस: 11387

पुराणों में लिखित दीपावली की रात के अन्य नाम हैं - दिव्यरजनी, महानिशा, कालरात्रि, महाकृष्णा। ये रात तंत्र, मंत्र, साधना हेतु अति उत्तम रात हंै। वैसे तो दीपावली का पूर्ण दिन ही विभिन्न प्रकार की साधनाओं व उपासनाओं के लिये अति उतम... और पढ़ें

देवी और देवउपायपर्व/व्रतसंपत्ति

शाबर मंत्र: परिचय

जुलाई 2014

व्यूस: 11137

शाबर मंत्र आम ग्रामीण बोल-चाल की भाषा में ऐसे अचूक एवं स्वयंसिद्ध मंत्र हैं जिनका प्रभाव अचूक होता है। शाबर मंत्र शास्त्रीय मंत्रों की भांति कठिन नहीं होते तथा ये हर वर्ग एवं हर व्यक्ति के लिए प्रभावशाली हैं जो भी इन... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवमंत्र

गौतम बुद्ध

अप्रैल 2010

व्यूस: 10862

भगवान बुद्ध संसार के महानतम व्यक्ति हुए। हर ज्योतिर्विद यह जानने की इच्छा रखता है कि कैसी रही होगी उनकी जन्म कुंडली। आइए, जानें ...... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगदेवी और देवज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगयशकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीकसफलता

दश महाविद्या

अकतूबर 2010

व्यूस: 10786

आद्याशक्ति की उपासना ग्रहों के अनिष्ट परिणामों से रक्षा कर सकती है। सभी लोगों विशेषकर ज्योतिष फलादेश देने वालों को तो शक्ति उपासना बहुत शक्ति प्रदान करती है। महाकाली, महासरस्वती, महालक्ष्मी, नवदुर्गा, दशविद्या, गायत्री अनेक रूपों ... और पढ़ें

देवी और देवविविध

गौऊ माहात्म्य

मार्च 2013

व्यूस: 10766

ज्योतिष में गौऊ महिमा- ज्योतिष में गोधूली का समय विवाह के लिए सर्वोत्तम माना जाता हैं। यदि यात्रा के प्रारम्भ में गाय सामने पड़ जाये अथवा बछड़े को दूध पिलाती हुई सामने दीख जाये तो यात्रा सफल हो जाती हैं।... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदि

तंत्र का इतिहास एवं यक्षिणी साधना

अकतूबर 2006

व्यूस: 10235

तंत्र के रहस्यों को अपनी साधना में प्रयोग कर हमारे प्राचीन साधकों ने अनेकानेक सिद्धियां प्राप्त कीं। अलग-अलग संप्रदायों ने अपने ढंग से तंत्र को समझा और अपनाया। तंत्र की यह अवधारणा कहां से आई और विभिन्न प्रकार की साधनाएं कैसे ... और पढ़ें

देवी और देवअन्य पराविद्याएंमंत्रविविध

मौन व्रत

आगस्त 2010

व्यूस: 10222

मौन व्रत अपने आप में अनूठा व्रत है। इस व्रत का प्रभावी दीर्घगामी होता है। प्राचीन समय में हमारे ऋषि-मुनि मौन व्रत तथा सत्य भाषण के कारण ही वाक् सिद्ध थे। वाणी की कर्कशता दूर करने का सरल उपाय... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

मकर संक्रांति का महत्व और सूर्योपासना

जनवरी 2013

व्यूस: 10162

मकर संक्रांति के दिन पूर्वजों को तर्पण और तीर्थ स्नान का अपना विशेष महत्व हैं। इससे देव और पितृ सभी संतुष्ट होते हैं। सूर्य पूजा से और दान से सूर्य देव की रश्मियों का शुभ प्रभाव मिलता हैं।... और पढ़ें

घटनाएँदेवी और देवपर्व/व्रत

बांसवाड़ा का प्राचीन माँ त्रिपुरा सुंदरी मंदिर

दिसम्बर 2014

व्यूस: 9926

वाग्वर शक्ति पीठ मां त्रिपुरा सुंदरी का यह सुरम्य स्थल ‘तरताई माता’ (तुरंत फल देने वाली माता) के नाम से विख्यात है। माँ त्रिपुरा तुरंत फल देने वाली ‘तरताई माता’ के रूप में अपने कई भक्तजनों को अपना शुभाशीर्वाद देकर लाभान्वित कर च... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)