महा शिवरात्रि में कालसर्प दोष की शान्ति के उपाय

मार्च 2013

व्यूस: 9889

महाशिवरात्रि के दिन अथवा नागपंचमी के दिन किसी सिद्ध शिव स्थल पर कालसर्प योग की शान्ति करा लेने का अति विशिष्ट महत्व माना जाता हैं। निरंतर महामृत्युंजय मंत्र के जप से शिवोपासना से, हनुमान जी की आराधना से एवं भैरवोपासना से यह योग शि... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतमुहूर्त

भगवत प्राप्ति का सहज साधन

फ़रवरी 2011

व्यूस: 9706

भगवत प्राप्ति के लिए चाहिए भगवान से मिलने की ललक और उसे पाने की रीति है- भक्ति जिसका अर्थ है भगवान की उपासना, सेवा और शरण्यता। प्राप्ति साधनों के विस्तार का उल्लेख किया गया है इस लेख में।... और पढ़ें

देवी और देवविविध

शनि देव: एक परिचय

नवेम्बर 2014

व्यूस: 9615

इस संसार में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जो शनि के प्रभाव से अछूता हो। शनिदेव का नाम सुनते ही जनता में भय उत्पन्न हो जाता है। शनि ग्रह उतने अशुभ नहीं जितना इन्हें समझा जाता है। व्यक्ति को अध्यात्म और मोक्ष दिलाने वाले केवल शनि ग... और पढ़ें

देवी और देवउपायविविध

महाशिवरात्रि व्रत का आध्यात्मिक महत्व

फ़रवरी 2014

व्यूस: 9323

महाशिवरात्रि व्रत प्रतिवर्ष भूतभावन सदाशिव महाकालेश्वर भगवान शंकर के प्रसन्नार्थ और स्वलाभार्थ फाल्गुन, कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को किया जाता है। इसको प्रतिवर्ष ‘नित्य’ और कामना से करने से यह ‘काम्य’ होता है। इस दिन शिव लिंग का प्रादुर... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

क्या है- पूजा में आरती का महत्व

जुलाई 2013

व्यूस: 9179

पूजा-पाठ का एक महत्वपूर्ण अंग है, ‘आरती’ं शास्त्रों में आरती को ‘आरक्तिका’ ‘आरर्तिका’ और ‘नीराजन’ भी कहते हैं। किसी भी प्रकार की पूजा-पाठ, यज्ञ-हवन, पंचोपचार-षोडशोपचार पूजा आदि के बाद आरती अंत में की जाती है। पूजा-पाठ में जो त्रुट... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

विद्या एवं ज्ञान प्राप्ति के ज्योतिषीय उपाय

फ़रवरी 2010

व्यूस: 9170

आज के भौतिक युग में विद्या एवं ज्ञान की अधिक आवश्यकता है। विद्या एक ऐसा धन है, जिसे न कोई छीन सकता है, न कोई चुरा सकता है।... और पढ़ें

देवी और देवउपायशिक्षामंत्रयंत्र

ईश्वर प्राप्ति का सहज मार्ग कौन - ज्ञान मार्ग या भक्ति मार्ग

अप्रैल 2013

व्यूस: 9133

वृन्दावन में एक स्थान ऐसा है, जहाँ ज्ञान हारा और भक्ति जीती। इस प्रसंग ने लोक मानस में यह बैठाया की ज्ञानार्जन स अधिक ज्ञानानुभव महत्वपूर्ण होता है। बुद्धि से ज्यादा भावनाएं प्रमुख होती है।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

श्रीदुर्गासप्तशती महायज्ञ/अनुष्ठान

अकतूबर 2010

व्यूस: 9017

भगवती मां दुर्गा की प्रसन्नता के लिए जो अनुष्ठान किए जाते हैं उनमें दुर्गा सप्तशती का अनुष्ठान विशेष कल्याणकारी माना गया है। इस अनुष्ठान को ही शक्ति साधना भी कहा गया है। श्री दुर्गा सप्तशती का अनुष्ठान कैसे करें आइए जानें इस लेख द... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

विशिष्ट महत्व है काशी के कालभैरव का

जून 2013

व्यूस: 8940

भारत देश की सांस्कृतिक राजधानी और मंदिरों की महानगरी वाराणसी में मंदिरों की कोई कमी नहीं। काशी तीर्थ में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक एक से बढ़कर एक मान्यता प्राप्त पौराणिक देवालय हैं पर इनकी कुल संख्या कितनी ह... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

कालसर्प एवं द्वादश ज्योतिर्लिंग

मार्च 2013

व्यूस: 8816

कालसर्प योग की जन्मांग में उपस्थिति मात्र से जनसामान्य के मन में आतंक और भय की भावना उदित हो जाती हैं। कालसर्प योग से पीड़ित जन्मांग वाले जातकों का संपूर्ण जीवन अभाव अनवरत अवरोध, निरंतर असफलता, संतानहीनता, वैवाहिक जीवन में अनेक कष... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवस्थानउपायज्योतिषीय योगरत्नघरलाल किताबमंत्रग्रहमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)