सिंहस्थ गुरु एवं कुम्भ स्नान

सिंहस्थ गुरु एवं कुम्भ स्नान  

हरिद्वारे कुंभ योगे मेषार्के कुंभ गुरो। प्रयागे मेषस्थेज्ये मकरस्थ दिवाकरे।। उज्जैन्यां च मेषार्के सिंहस्थे च वृहस्पते। सिंहस्थितेज्य सिंहार्के नासिके गौतमी तटे।। - स्कंद पुराण कुंभ और मेष राशि में सूर्य होने पर हरिद्वार में, मेष राशि में गुरु और मकर राशि में सूर्य होने पर प्रयाग तथा सिंह राशि में गुरु और मेष राशि में सूर्य होने पर उज्जैन में कुंभ पर्व होता है। सिंह राशि में गुरु और सिंह राशि में ही सूर्य जब होता है, तब नासिक पंचवटी में सिंहस्थ महाकुंभ पर्व मनाया जाता है। एक स्थान पर कुंभ मेला लगभग 12 वर्षों बाद पड़ता है। गुरु एवं सूर्य की राशि के अनुसार यह पर्व मनाया जाता है: इस प्रकार कुंभ का मेला, एक निश्चित समय के पश्चात न हो कर, लगभग 12 वर्षों के अंतराल में पुनः उसी स्थान पर मनाया जाता है। गुरु एवं सूर्य के राशि संचरण के अनुसार कभी नासिक में पहले एवं कभी उज्जैन में पहले कुंभ पड़ता है। गुरु इस वर्ष 14 जुलाई को 6ः25 प्रातः कर्क से सिंह राशि में प्रवेश कर रहे हैं। अतः सिंहस्थ गुरु के पर्व 14 जुलाई से ही प्रारम्भ हो रहे हैं। अगस्त 2015 से नासिक/त्र्यंबकेश्वर में कुंभ पर्व मनाया जा रहा है तथा अप्रैल 2016 से यह पर्व उज्जैन में मनाया जाएगा। नासिक में विभिन्न दिनांकों में निम्न विशेष स्नान होंगे: 2016 में उज्जैन के साथ हरिद्वार में अर्ध कुंभ भी मनाया जाएगा। 2019 में वृश्चिक के गुरु में प्रयाग में अर्ध कुंभ मनाया जाएगा। अर्ध कुंभ केवल हरिद्वार एवं प्रयाग में मनाया जाता है, उज्जैन एवं नासिक में नहीं। उज्जैन मंे कुम्भ की व हरिद्वार में अर्द्ध कुम्भ की निम्न तारीखें विशेष हैं: सूर्य, गुरु एवं चंद्र की विविध स्थितियों के अनुसार कुंभ पर्व के आयोजन पर भिन्न-भिन्न चारों स्थलों का शाही स्नान होता है। तदनुसार विभिन्न अखाड़ों के महंतों का स्नान होता है। इसके पश्चात शंकराचार्यों का स्नान होता है। इसके बाद महामंडलेश्वरादि का स्नानादि होता है। कुंभ पर्व पर किये गये धर्म कृत्य कोटि गुणा अधिक फल प्रदान करने वाले होते हैं। अतः इस पर्व पर सभी को धर्म लाभ लेना चाहिए। इस वर्ष गुरु एवं सूर्य के सिंह राशि में प्रवेश करने पर कार्तिकादि श्रावण मास की अमावस्या, अर्थात 29 अगस्त 2015 को नासिक में राम कुंड में कुंभ पर्व के प्रथम शाही स्नान का आयोजन किया गया है। वैदिक वाङ्मय के अनुसार त्र्यंबकेश्वर में शैव एवं नासिक में, जहां भगवान श्री राम ने अपने बनवास का चैदहवां वर्ष व्यतीत किया था, वैष्णव लोग स्नान करते हैं। यह स्वयं में आश्चर्य की बात है कि कुंभ पर्व में, बिना किसी निमंत्रण के, लाखों-करोड़ों लोग एक ही समय पर, एक ही स्थान पर एकत्रित हो जाते हैं। कुंभ माहात्म्य महाभारत एवं अन्य ग्रंथों के अनुसार देवासुर में परस्पर युद्ध के समय समुद्र मंथन हुआ। उस समय अमृत कलश प्राप्त हुआ, जिसे कुंभ भी कहा जाता है। इस अमृत कुंभ को ले कर प्रयाग, उज्जैन, नासिक, हरिद्वार आदि 4 स्थानों पर विश्राम के समय गरुड़ जी ने वहां देव पूजन किया। इसी बीच अमृत की कुछ बूंदंे वहां छलक पड़ीं, जिस कारण इन 4 स्थलों की धरती को शुचि संज्ञक माना जाने लगा एवं वहां कुंभ पर्व मनाया जाने लगा। हिंदू धर्म गं्रथों में कुंभ पर्व का अत्यंत विस्तृत उल्लेख पाया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार समस्त देव एवं देवीगण कुंभ पर आगमन कर के आनंदित होते हैं। कुंभ पर्व पर श्राद्ध, यज्ञ, दान, तप, मंत्र सिद्धि आदि प्रमुख रूप से सिद्ध होते हैं। स्नान विधि गंगा, यमुना, सरस्वती, कृष्णा, कावेरी, ब्रह्मपुत्र आदि कई ऐसी पवित्र नदियां हैं, जिनमंे स्नान करते समय सर्वप्रथम पैर का स्पर्श अनुचित माना गया है। इस कारण स्नान करते समय सर्वप्रथम थोड़ा सा जल अपने हाथों में ले कर सिर पर छिड़कना चाहिए। तत्पश्चात सारे अंग को नहलाया जा सकता है। क्या करें? कुंभ पर्व के समय, धर्म सिंधु के अनुसार, 8 दान मुख्य माने गये हैं तथा इनकी विशेषताएं अति लाभकारी हैं। ये आठ दान इस प्रकार हैं: 1. तिल 2. लोहा, अथवा लोहे से निर्मित वस्तुएं 3. कपास, अथवा कपास से निर्मित वस्तुएं 4. सोना, अथवा सोने से बनी वस्तुएं 5. नमक 6. सप्त धान्य 7. पृथ्वी एवं 8. गाय। कुंभ पर्व पर भीष्म जी को तर्पण देना सभी के लिए आवश्यक एवं पुण्यकारी माना गया है। कुंभ पर्व पर तांबे के लोटे से सूर्य को अघ्र्य देना अति लाभकारी है। अघ्र्य देने से नेत्र दोष, नव ग्रह दोष, पितृ दोष नष्ट होते हैं। अघ्र्य देने के लिए सूर्योदय के कुछ बाद, लोटे में जल ले कर, हृदय के साथ लगा कर, धीरे-धीरे जल को अटूट धार से गिराना चाहिए। नव ग्रह शांति एवं काल सर्प योग शांति, विष कन्या दोष आदि की शांति भी कुंभ पर्व पर उचित मानी गयी हैं। सौभाग्य एवं सुख की प्राप्ति के लिए कुंभ पर्व पर गंगादि के किनारे की मिट्टी से शिव लिंग निर्मित कर के पार्थिव पूजा करने से सुख-सौभाग्य की निश्चय ही प्राप्ति होती है। अनेक प्रकार के बुरे कर्मों के प्रायश्चितस्वरूप, हृदय तक जल में खड़े हो कर, शुद्ध रुद्राक्ष की माला पर यथाशक्ति 24 संख्यात्मक जप करने से लाभ होता है। पुत्र प्राप्ति एवं पुत्र सुख के लिए श्रीमद्भागवत कथामृत का पान करना तथा विष्णु एवं कृष्ण को तुलसी, अथवा बेल पत्र से सहस्रार्चन करना निश्चय ही लाभ देते हैं। भाग्योदय एवं धन लाभ आदि के लिए ब्रह्मा एवं एकादश रुद्र की पूजा-उपासना की जाती है। कमल पुष्प से विष्णु पूजन करने पर कुंभ पर्व पर उपस्थित सभी देवताओं को संतुष्टि मिलती है तथा वे आशीष प्रदान करते हैं। पुण्य नदी के किसी भी तीर्थ में स्नान करने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं एवं पुण्य की प्राप्ति होती है। कहा गया है कि जो पुण्य कार्तिक माह में हजार बार गंगा स्नान से प्राप्त होता है, माघ माह के सौ स्नान एवं वैशाख में एक लाख नर्मदा स्नान करने पर जो पुण्य प्राप्त होता है, वह पुण्य कुंभ पर्व में एक स्नान से प्राप्त होता है।


टैरो विशेषांक  आगस्त 2015

फ्यूचर समाचार के टैरो कार्ड विशेषांक में फलकथन की लोकप्रिय पद्धति के परिचय, इतिहास, पत्तों की व्याख्या आदि विषयों पर आकर्षक व सारगर्भित लेखों के अतिरिक्त सामयिक चर्चा के अन्तर्गत गुरु के गोचरीय प्रभाव को शामिल किया गया है। इस अंक में मानबी बन्दोपाध्याय के जीवन पर सत्य कथा, भरत चरित्र, एडोल्फ हिटलर की जीवनी का ज्योतिषीय विश्लेषण, नैतिक ढंग से वश में करने के लिए क्या करें?, पंचांग देखे बिना तिथि बताना आदि लेख बहुत रोचक हंै। विचार गोष्ठी में प्राकृतिक आपदा के ज्योतिषीय कारणों की व्याख्या की गई है। विशेषकर महिलाओं के लिए ज्योतिष एवं महिलाएं नामक शीर्षक के अन्तर्गत आप और आपके जीवन साथी के बारे में आपकी राशि के आधार पर बताया गया है। अन्य स्थायी स्तम्भों में श्रवण मास में विशिष्ट शिव साधनाओं के बारे में रोचक जानकारी दी गई है। पंच-पक्षी, वास्तु परामर्श, अस्पताल का वास्तु, ग्रह गोचर एवं व्यापार, मुहूर्त एवं पचांग सम्बन्धी जानकारी तथा हैल्थ कैप्सूल दृष्टव्य हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.