लक्ष्मी प्राप्ति के उपाय

लक्ष्मी प्राप्ति के उपाय  

धन लक्ष्मी प्राप्ति के टोटकों में धन लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र व लक्ष्मी प्राप्ति मन्त्रों का महत्व सर्वाधिक है। धन लक्ष्मी यंत्रों का विधिवत् पूजन विशेष फलदायी होता है। अपनी इच्छानुसार एक धन लक्ष्मी यंत्र चुन लें व शुभ मुहूर्त में इसका विधिवत् पूजन करके इसे सिद्ध करलें तत्पश्चात् इसकी पूजा अनवरत रूप से चलती रहने पर यह धन लक्ष्मी यंत्र आपके लिये आर्थिक अभावों को दूर करने का श्रेष्ठतम साधन सिद्ध होने लगेगा। धन लक्ष्मी यंत्र की आवरण पूजा के बाद इस यंत्र के अधिष्ठाता देवता के मंत्र का जाप करें व उसका कवच, सहस्त्र नाम तथा स्तुति पाठ करें। ऐसा करने से यह धन लक्ष्मी यंत्र निश्चित रूप से लाभकारी सिद्ध होगा। धन लक्ष्मी प्राप्ति के निम्न टोटके आपके लिए कल्याणकारी हों।

  • दीपावली पूजन स्थिर लग्न में करना ही सर्वोत्तम रहता है।
  • पूजा घर में लक्ष्मी यंत्र, कुबेर यंत्र और श्रीयंत्र रखना चाहिए। यदि स्फटिक का श्रीयंत्र कच्छपारूढ़ हो तो अति उत्तम अन्यथा स्वर्णपालिश युक्त लें।
  • एकाक्षी नारियल, दक्षिणावर्त शंख, हत्थाजोड़ी, सियार सिंगी, बिल्ली की नाल, गोरोचन, नागकेसर, सांप की अखंडित केंचुली आदि की पूजा करनी चाहिए। ये सभी दुर्लभ वस्तुए हैं, अतः इन्हें मंत्र सिद्ध व प्राण-प्रतिष्ठित करना आवश्यक है।
  • श्रीसूक्त एवं आदि शंकराचार्य कृत कनकधारा स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।
  • रामरक्षा स्तोत्र के निम्न मंत्र का जप नियमित रूप से करना चाहिए-
  • आपदामपहर्तारं दातारां सर्वसम्पदाम्।
    लोकाभिरामं श्रीरामं भूयो-भूयो नमाम्यहम्।।

  • महालक्ष्मी को तुलसीदल या तुलसी मंजरी भेंट नहीं करें।
  • लक्ष्मी पूजा में दीपक दाएं, अगरबत्ती बाएं, पुष्य सामने व नैवेद्य थाली में दक्षिण में रखें।
  • पूजा प्रार्थना के समय उपासक का मुंह पूर्व या उत्तर की ओर होना चाहिए।
  • लक्ष्मी यज्ञ में घी, चावल इलायची, कमलगट्टा अवश्य ही होना चाहिए।
  • लक्ष्मी उपासकों के लिए पीले रंग का ऊन, रेशम अथवा मृगचर्म का आसन श्रेष्ठ रहता है।
  • उपासना के लिए स्फटिक या लाल चंदन की माला का प्रयोग करना चाहिए।
  • महालक्ष्मी के निम्न लघु मंत्रों का जप करना चाहिए-
  • ‘ऊँ महालक्ष्म्यै नमः।’

    ‘ऊँ ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः।’

    ‘ऊँ श्रीं ह्रीं क्लीं महालक्ष्म्यै नमः।’

  • दीपावली की रात या ग्रहण की रात को लौंग और इलायची की भस्म बनाकर रखें व इसे देवताओं को चढ़ाएं।
  • काली हल्दी की गांठ शुभ मुहूर्त में घर में लाकर कैश बाक्स में रखना शुभ होता है।
  • सफेद वस्तुओं का दान करें, इससे लक्ष्मीयोग बनता है।
  • घर के मुख्य द्वार पर गणेश की प्रतिमा इस प्रकार लगाएं कि उसका मुंह घर के अंदर की तरफ हो। उस पर प्रतिदिन दूर्वा अर्पित करें।
  • यथासंभव चेक बुक, पास बुक, पैसे के लेन-देन और पूंजी निवेश संबंधी कागजात श्रीयंत्र या कुबेर यंत्र के पास रखें।


दीपावली विशेषांक  अकतूबर 2008

पंच पर्व दीपावली त्यौहार का पौराणिक एवं व्यावहारिक महत्व, दीपावली पूजन के लिए मुहूर्त विश्लेषण, सुख समृद्धि हेतु लक्ष्मी जी की उपासना विधि, दीपावली की रात किये जाने वाले महत्वपूर्ण अनुष्ठान एवं पूजा, दीपावली पर विशेष रूप से पूज्य यंत्र एवं उनका महत्व

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.