कुंडली के विभिन्न भावों में

कुंडली के विभिन्न भावों में  

व्यूस : 5062 | मार्च 2014

प्रथम भाव में राहु व्यक्ति को दूसरों के भीतर झांककर उनकी सही पहचान पाने की दृष्टि देता है। वह कष्टदायक, आलसी, बुद्धिहीन, स्वार्थी, अधार्मिक, बातूनी, साहसी तथा विपरीत लिंग वालों से लाभ प्राप्त करने वाला होता है। वैवाहिक सुख से वंचित, पारिवारिक तनाव, चिन्ताग्रस्त, संतप्त व कामुक हो सकता है। उच्च का राहु बुद्धि और उन्नति प्रदान करता है। आयु का पांचवां वर्ष स्वास्थ्य के लिए विशेष कष्टकर होता है। द्वितीय भाव द्वितीय भाव में राहु जातक को कष्टकारक, धन की हानि तथा पराई संपदा पर कुदृष्टि रखने वाला बनाता है। वह कंजूस, सदा दुखी तथा परिवार के विरोध का भागी होता है। बेईमान, जीविका के लिए भ्रमण करने वाला तथा रूढ़िवादी होता है। उच्च का राहु धनी, प्रसन्न तथा सुखी पारिवारिक जीवन देता है। तृतीय भाव तृतीय भाव में राहु व्यक्ति को शौर्यवान, अनेक शत्रुओं वाला, अपने निकट संबंधियों से सुख में कमी किन्तु आरामदेह और ऐश्वर्यपूर्ण जीवन देता है। शासन से सम्मानित, बलवान, भव्य तथा जीवन में उच्च पद का भागी होता है। नीच का राहु, दरिद्रता, कान के रोग तथा जीवन में पराजय का कारक होता है।


Expert Vedic astrologers at Future Point could guide you on how to perform Navratri Poojas based on a detailed horoscope analysis


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

विवाह विशेषांक  मार्च 2014

फ्यूचर समाचार पत्रिका के विवाह विशेषांक में सुखी वैवाहिक जीवन के ज्योतिषीय सूत्र, वैदिक विवाह संस्कार पद्धति, कुंडली मिलान का महत्व, विवाह के प्रकार, वर्तमान परिपेक्ष्य में कुंडली मिलान, तलाक क्यों, शादी के समय निर्धारण में सहायक योग, शनि व मंगल की वैवाहिक सुख में भूमिका, शादी में देरी: कारण-निवारण, दाम्पत्य जीवन सुखी बनाने के उपाय तथा कन्या विवाह का अचूक उपाय आदि विषयों पर विस्तृत जानकारी देने वाले आलेखों को सम्मिलित किया गया है।

सब्सक्राइब


.