अक्षय धन प्राप्ति के उपाय

अक्षय धन प्राप्ति के उपाय  

हमारे यहां दीपावली और लक्ष्मी पूजा से धन प्राप्ति का एक अटूट संबंध है। दीपावली से पूर्व लोग अपने-अपने घरों और व्यापारिक स्थलों को अपने सामथ्र्य के अनुसार साफ-सुथरा कर दीपावली के दिन धन प्राप्ति एवं मां लक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए पूजा-पाठ एवं अन्य टोटकों का सहारा लेते हैं। आइये हम भी जानें ऐसे कुछ उपायों को जिनसे व्यक्ति की लक्ष्मी प्राप्ति की इच्छा पूरी हो सके। श्री भगवान विष्णु की शक्ति महालक्ष्मी हैं। परंतु दस महाविद्याओं में जो कमला नाम की महाविद्या है वह सदा शिव पुरूष की शक्ति है। इनकी पूजा उपासना से वैभव, संपत्ति, धन-धान्य और यश की प्राप्ति होती है। पूजा घर में या अन्य कमरे के एक कोने में (उत्तर-पूर्व) पूजा स्थान निश्चित कर श्री कमला देवी का चित्र रखें। पूजा का आरंभ दीपावली के दिन या अन्य शुभ मुहूर्त से करें। मंत्र की जप संख्या 125000 (एक लाख पच्चीस हजार है) है। इसे अपने सामथ्र्य के अनुसार जप के दिनों में बांटकर एक निश्चित संख्या में प्रतिदिन करने का विधान है। पंचोपचार या षोडशोपचार पूजा के लिए आवश्यक सामग्री रख लें। माला, आसन, वस्त्र और पूजन सामग्री लाल रंग के होने चाहिए। स्वयं पहनने का वस्त्र भी लाल रंग के हों। फिर क्रम से विनियोग, हृदयादि न्यास, ध्यान, आह्नान करने का विधान है। विनियोग मंत्र: ऊँ अस्य श्री महालक्ष्मी मंत्रस्य भृगुऋषिः, निवृच्छन्दः, श्री महालक्ष्मी देवता, श्रीं बीजम, ह्रीं शक्तिः, ऐं कीलकं, श्री लक्ष्मी प्रीत्यर्थें जपे विनियोगः। हृदयादि न्यास: ऊँ श्रां हृदयाय नमः। ऊँ शिरसे स्वाहा। ऊँ श्रूं शिखायै वषट्। ऊँ श्रैं कवचाय हुम्। ऊँ श्रौं नेत्रत्रयाय वौषट्। ऊँ श्रः अस्त्राय फट्। फिर माता श्री कमला देवी का ध्यान करते हुए निम्न मंत्र पढ़ें: कान्त्या कांचनसन्निभां हिमगिरि प्रख्यैश्चतुभिर्गजैर्हस्तो -त्क्षिप्तहिरणमया मृतघटै रासिच्यमानां श्रियम्। विभ्राणां वरब्ज युग्ममभयं हस्तैः किरीटोज्जवलाम। क्षौमा बद्ध नितंब बिंब ललितां वन्देऽरविन्दस्थिताम्। अब हाथ में फूल लेकर आवाहन मंत्र को बोलें और भावना करें कि माता का वास तस्वीर में हो गया और हाथ का फूल अर्पण कर दें। आवाहन मंत्र: ऊँ अक्षस्त्रग परशुम कलिसम पद्मम धनु कुण्डीकाम दंडम शक्ति मसीन्च चर्म जलजम घंटासुरा भाजनम्। सुलभ पाश सुदर्शने च दद्यतिं हस्तै प्रसन्नानमाम् सेवे सैरिभ मर्दनी मिहिमहाम् लक्ष्मी स्वरोयस्यस्थितां।। अब पंचोपचार या षोडशोपचार विधि से माता का पूजन करें। फिर हाथ में फूल, गंगाजल, अक्षत और द्रव्य लेकर मनोकामना सहित- ‘‘ऊँ विष्णुर्विष्णुर्विष्णुः आदि मंत्र से’’ 125000 मंत्र जप का संकल्प लें। ध्यान रहे जप काल के समय माता के आगे धूप और घी का दीपक जलता रहे। जप की संख्या का ध्यान रखें और प्रतिदिन एक काॅपी पर जप संख्या लिख लिया करें। जप समाप्ति के पश्चात अंत में जप का दशांश हवन, हवन का दशांश तर्पण और तर्पण का दशांश मार्जन करें। फिर मार्जन का दशांश ब्राह्मण भोजन कराकर सदक्षिणा उन्हें विदा करें। अगर हवन 125000 का दशांश 12500 की संख्या में करना संभव न हो तो जितनी हवन की संख्या कम करना हो उसका दो गुणा जप करने का विधान है जिसे हवन से पहले ही कर लेना चाहिए। उपरोक्त सभी उपादानों में पवित्रता, निष्ठा और एकाग्रता बनी रहनी चाहिए।

दीपावली विशेषांक  अकतूबर 2016

फ्यूचर समाचार के वर्तमान विशेषांक को विशेष रूप से मां लक्ष्मी को समर्पित किया गया है। प्रत्येक जन रातोंरात अमीर व सुख सुविधा वाली जिन्दगी की तमन्ना करता है लेकिन मां लक्ष्मी को प्रत्येक आदमी प्रसन्न नहीं कर पाता, लेकिन दीपावली के अवसर पर उनकी विधि विधान से पूजा करके आप मां लक्ष्मी को आकर्षिक कर सकते हैं। इस वर्तमान विशेषांक में मां लक्ष्मी के ऊपर कई अच्छे लेख सम्मिलित किये हैं। लक्ष्मी को आकर्षित करने के व प्रसन्न करने के टोटके आदि भी सम्मिलित किये गये हैं इनके अतिरिक्त स्थायी स्तम्भों में पूर्व की भांति ही ज्योतिष पर आधारित लेख भी शामिल हैं, जिनमंे से कुछ लेख इस प्रकार हैं: महाशक्तिदायिनी मां दुर्गा पूजा का ज्योतिषीय योग, पंचमहा दिवसात्मक महापर्व दीपावली, दीपावली पूजन विधि, लक्ष्मी प्राप्ति के स्वर्णिम सरल प्रयोग, धन प्राप्त करने के सरल टोटके, धन प्राप्त करने के अचूक उपाय, प्रसन्न करें राशि अनुसार लक्ष्मी जी को, श्रीविद्या साधना आदि।

सब्सक्राइब

.