टोना - टोटका, परिभाषा, स्वरूप एवं रहस्यमयी शक्ति

टोना - टोटका, परिभाषा, स्वरूप एवं रहस्यमयी शक्ति  

टोना टोटका एवं ज्योतिषीय उपाय प्रायः ये शब्द आम आदमी के मन में भय, शंकाएं एवं उलझन उत्पन्न करते हैं। यह अज्ञात का भय है। इनके वास्तविक स्वरूप को समझ लेने पर इनमें निष्ठा तथा विश्वास का भाव उत्पन्न होता है जिससे अभीष्ट कार्यसिद्धि सरल एवं सुनिश्चित हो जाती है। आइए, जानें क्या है इनका निहितार्थ और कार्य-प्रणाली।

टोना किसी कार्य सिद्धि के लिए किया जाने वाला तांत्रिक अनुष्ठान होता है। ये अनुष्ठान सात्विक एवं तामसिक दोनों प्रकार के होते हैं। सात्विक अनुष्ठान में सामान्य जीवन में आने वाली वस्तुओं का प्रयोग किया जाता है जिसे कोई भी व्यक्ति अपने घर में कर सकता है जबकि तामसिक अनुष्ठान तामसिक वस्तुओं का प्रयोग करके श्मशान में किए जाते हैं जिसमें पशुओं की बलि तक देने का विधान है जो मन में भय पैदा करता है। टोने नामक अनुष्ठान के अंतर्गत शांति, वशीकरण, स्तंभन, उच्चाटन, विद्वेषण, मारण ये छः कर्म किए जाते हैं जिन्हें षटकर्म कहा जाता है। सात्विक टोने परूी तरह निरापद हाते हैं जिनके द्वारा आपका इष्ट प्रयोजन सरलता से पूरा हो जाता है।

जहां तक टोटकों का संबंध है, ये शास्त्रो द्वारा निर्धारित ऐसी क्रियाएं है जो किसी भी अप्रिय या हानिकारक कार्य को अपने पक्ष में करने के लिए की जाती है। ये बहुत ही सामान्य एवं सुरक्षित उपाय है। ये किसी भी कार्य सिद्धि की लंबी प्रक्रिया से बचाकर आज के व्यस्त समय में समय की बचत भी करते हैं। इसलिए आज के समय में टोटकों को ही उपाय के रूप में मुखय स्थान दिया जाता है। ये टोटकें व्यक्ति के साथ प्राचीन काल से ही जुड़े हुए हैं। टोटका पूर्ण न होने की स्थिति में कोई हानि नहीं होती जबकि टोना नामक अनुष्ठान सावधानी एवं नियमपूर्वक न करने से प्रयोग करने वालो की हानि की संभावना होती है।

ज्योतिषीय उपाय या सामग्री का प्रयोग, यंत्र स्थापना तथा रत्न धारण करना आदि कई ज्योतिषीय उपाय विशिष्ट विधि विधान के अनुसार शुक्ल पक्ष जैसे शुभ समय में ही किए जाते हैं ऐसा करने पर उपाय निष्फल होने की संभावना नहीं होती। टोटकों सहित संपूर्ण टोटकों को पूर्ण विश्वास एवं श्रद्धा के साथ करना चाहिए। आचार्य वराहमिहिर ने कार्य सिद्धि के लिए उपाय आरंभ करने हेतु शुभ समय की विशिष्ट सारणी निर्धारित की। उपाय बीच में खंडित होने पर दोबारा से शुरू किया जा सकता है। इसके लिए शारीरिक एवं मानसिक स्वस्थता एवं स्वच्छता अनिवार्य है।

टोना टोटका क्या है?

स्थूल रूप में अगर हम टोने टोटके शब्द के निहितार्थ को समझें तो बात इस तरह से समझ में आ सकती है।

T- Tools to eradicate

O - obstructions &

N – nasty

E - elements of life &

T - Transcendental methods

O - of eliminating

T - trivial issues &

K - knock out

E - evils from life

मनुष्य अपने जीवन काल में कभी न कभी शारीरिक व मानसिक वेदना से गुजरता ही है। तब उसे वे तमाम टोने-टोटके एवं साधनाएं याद आते हैं जो कभी ऋषि-मुनियों ने अपने अनुभवों एवं तपोबल से मानव कल्याण हेतु एक उपहार के रूप में हमको प्रदान किए। ये जादू टोने एवं उपाय चमत्कृत रूप से कार्य करते हैं। व्यक्ति की संबंधित समस्या का हल हो जाता है और वह प्रसन्न महसूस करता है। सुखी एवं शांत वैवाहिक जीवन, व्यावसायिक उन्नति, शीघ्र, विवाह, संतान, नौकरी, मकान जायदाद, उच्च शिक्षा आदि न जाने ऐसे कितने विषयों का समाधान व्यक्ति इन प्रभावकारी उपायों से निकाल लेता है।

कुछ महत्वपूर्ण एवं उपयोगी सुझाव :

1. टोना-टोटका क्रिया को गुप्त रखें। न तो किसी के सामने इसका जिक्र करें न किसी के सामने टोटकों का प्रयोग करें क्योंकि ये क्रियाएं मन की शक्ति, विश्वास एवं श्रद्धा पर आधारित है। किसी के हस्तक्षेप से (वाणी या क्रिया द्वारा) इस शक्ति की धार कमजोर हो जाती है।

2. मन में पूर्ण विश्वास एवं श्रद्धा के साथ प्रयोग को करें।

3. टोना टोटका करने के बाद पीछे मुड़कर न देखें। श्रद्धा एवं विश्वास ही शंकर एवं शक्ति है।

टोने-टोटके परेशानी से जुझ रहे जातकों के लिए हथियार का काम करते हैं। प्रकृति के नियम तो नहीं बदले जा सकते, परंतु यदि जातक की उपाय पर आस्था हो तो उसका सकारात्मक मनोवैज्ञानिक प्रभाव जातक के शरीर की कैमिस्ट्री पर पड़ता है। श्रद्धा, विश्वास तथा आस्था से किए गए कार्यों को ईश्वर शीघ्र पूरा करते हैं। इन उपायों को व्यक्ति अपनी सुविधानुसार करके अपने दुखों एवं समस्याओं से मुक्ति प्राप्त कर लाभ उठा सकता है।

वैज्ञानिक, सैनिक, न्यायाधीश जो दृढ़ मानसिक शक्ति वाले कहे जाते हैं, वे लोग अपने जीवन को सुंदर एवं अर्थपूर्ण बनाने के लिए अपने मन को ही केंद्रित कर ध्यान-योग एवं आत्मचिंतन का सहारा लेते हैं। ये सारी गूढ़ विधाएं भी आध्यात्मिकता की चरम सीमा का ही उदाहरण है।

संसार की अनित्य वस्तुओं की प्राप्ति के लिए सामान्यतः अस्थायी किस्म के उपाय एवं टोने टोटको का सहारा लिया जाता है। इन सबसे भी ऊपर जो सबसे बड़ा समाधान का रास्ता है वह है ध्यान, योग एवं आत्मचिंतन। क्योंकि 'मन एव मनुष्याणाम् कारणम् बन्धमोक्षयोः' अर्थात मन ही मनुष्य के बंधन एवं मोक्ष का कारण है। मन को जीत लेना सफल जीवन की कुंजी है। व्यक्ति का आभामंडल उसकी आंतरिक उपलब्ध्यिों को प्रकट करता है। व्यक्ति ध्यान एवं आत्मचिंतन द्वारा न केवल अपनी नकारात्मक ऊर्जा को सकारात्मक दिशा प्रदान कर सकता है, वरन् पूर्णतः ईश्वर तत्व की प्राप्ति जो सब गुणों, निधियों एवं सिद्धियों का निधान है की प्राप्ति भी कर सकता है। आत्म चिंतन का अर्थ है आत्मा का चिंतन। हमारा मन अवचेतन, अर्द्धचेतन एवं चेतन, तीन स्तरों पर कार्य करता है। जो कुछ भी हम क्षण प्रतिक्षण ग्रहण करते हैं वह हमारे अवचेतन मन में संचित होता रहता है। हमारा अवचेतन मन कंप्यूटर के चिप के समान है जिसमें अनगिनत डाटा स्टोर्ड रहते हैं। हमारा अर्द्धचेतन मन केवल हमारी आत्मा की ऊपरी आवाज को ही सुनता है। अतः कोई भी कार्य यदि हम अवचेतन मन तक जाकर करें तो उसमें अधिक सफलता प्राप्त होती है। इस स्तर पर हमारा संबंध उस पारलौकिक शक्ति के साथ हो जाता है और हम, पुनर्जीवित, क्रियाशील, एवं ऊर्जा से भरपूर महसूस करते हैं। हमारे जीवन की सूक्ष्म से सूक्ष्मतर उपलब्धियां हमें बहुत सरल लगने लगती हैं। आत्मचिंतन, ध्यान योग को 'मास्टर ऑफ ऑल रेमिडिज' की संज्ञा भी दी जा सकती हैं। आत्म चिंतन से संबंधित परंतु कुछ ध्यान देने योग्य कुछ बातें इस प्रकार हैं जिनसे मन की शक्ति अपने चरम बिंदु पर पहुंच जाती है।

1. एक शांत जगह का चुनाव कीजिए जहां पर आप 15-30 मिनट तक बिना किसी व्यवधान के एकाग्रचित्त होकर ध्यान कर सकें।

2. कुर्सी, काऊच, बेड को छोड़कर यदि नीचे एक आसन लगाकर ध्यान करेंगे तो ज्यादा अच्छा रहेगा।

3. किसी भी सहज स्थिति में बैठना, श्वासन में लेटना या किसी योग आसन का चुनाव करना जिसमें आप ज्यादा सुविधा महसूस करें तथा मेरूदंड सीधा रहे।

4. टाइमर को 15-30 मिनट तक सेट कर लें।

5. आंखे बंद करके बैठें। लंबी सांस अंदर खीचें एवं अपने मन को शांत रखें एवं अपनी श्वांस को वापिस सामान्य अवस्था में लाएं।

6. कोई एक शब्द का उच्चारण बार-बार करते रहें। जैसे ओम्

टोने टोटके एवं ज्योतिषीय उपाय एक आलौकिक शक्ति का पुंजभूत स्वरूप ही है। यह काम करते हैं। कैसे करते हैं ये तो इसी विश्वास पर निर्भर करता है कि दही चीनी खाकर अगर घर से निकलें तो यात्रा सफल होती है, नींबू मिर्ची को किसी नये वाहन या घर कार्यशाला पर लगाने से उसकी शुभता बढ जाती है, या छोटे बच्चे को नजर से बचाने के लिए काले टीका का लगाना।



उपाय व टोटके विशेषांक  आगस्त 2011

टोने –टोटके तथा उपायों का जनसामान्य के लिए अर्थ तथा वास्तविकता व संबंधित भ्रांतियां. वर्तमान में प्रचलित उपायों – टोटकों की प्राचीनता, प्रमाणिकता, उपयोगिता एवं कारगरता. विभिन्न देशों में प्रचलित टोटकों का स्वरूप, विवरण तथा उनके जनकों का संक्षिप्त परिचय.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.