रेकी स्पर्श उपचार चिकित्सा

रेकी स्पर्श उपचार चिकित्सा  

रेकी स्पर्श उपचार चिकित्सा संगीता गुप्ता रेकी एक ऐसी पद्धति है जो आजकल बहुत प्रचलित हो रही है। रेकी एक जापानी शब्द है जिसमें दो शब्दों का विलय हुआ है। रे + की रे अर्थात सर्वव्यापी, की अर्थात ऊर्जा। रेकी वह दिव्य ऊर्जा है जो हर पल मौजूद रहती है। अगर हमें इसको इस्तेमाल करना आ जाए तो इसका प्रयोग हम अपने हर रूके हुए कार्य को चलाने के लिए कर सकते हैं। रेकी एक प्रकार का परमात्मा का प्रकाश है जो हर कार्य संपन्न कर सकता है। यह दिव्य ऊर्जा हम अपने हाथों से प्रवािहत कर अपने कार्यों को सिद्ध कर सकते हैं। रेकी के प्रयोग से असाध्य से असाध्य बीमारी ठीक हो सकती है। मैं अपने कुछ अनुभव बताना चाहूंगी। मैने कुछ महीने पहले रेकी एक जज के लिए की जिनके ऊपर भ्रष्टाचार के केस चल रहे थे जो कि झूठे थे। उनके जूनियर ने बदला लेने के लिए उनके खिलाफ झूठे कागज बना दिए थे। स्थिति बहुत खराब थी। उनके पुत्र की शादी थी और उसी दिन उनके गैर जमानती वारंट आने की आशंका थी। वे बहुत ही चिन्तित और परेशान थे। उनकी चिंता समाज में प्रतिष्ठा खोने का डर था। उनके पुत्र ने जो मेरा ग्राहक था अनुरोध किया कि मैं उनके लिए डिस्टेंट रेकी करूं और आश्चर्य हुआ कि उनका वारंट कैंसिल हो गया। आज रेकी के प्रति उनका पूरा परिवार अनुगृहीत है। एक और उदाहरण है एक लड़की का जो कैरियर में संघर्ष कर रही थी। उसका जॉब एक एंबेसी में था। पिछले 7-8 साल से उसकी जॉब को स्थायी नहीं किया जा रहा था। उसने मुझसे रेकी सीखी और 21 दिन अपने लिए हीलिंग की। लगभग एक महीने बाद जब वह मिलने आयी तो उसके चेहरे पर चमक थी और खुश थी। उसने मिठाई का डिब्बा पकड़ाते हुए कहा कि मैम, मेरी जॉब पक्की हो गयी है। आपकी रेकी और आपको धन्यवाद। मुझे कितनी प्रसन्नता हुई मैं जाहिर नहीं कर सकती। रेकी बहुत ही सरल विधि है। इसे हर कोई सीख सकता है। रेकी हर प्रकार के प्रभाव से मुक्त करती है। रेकी के ऐसे हजारों उदाहरण हैं जो लिखे जा सकते हैं। रेकी ने असंभव कामो को संभव कर दिया। मन में सवाल उठता है कि रेकी काम कैसे करती है? पूरे ब्रह्मांड में हर वस्तु छोटे-छोटे अणु-परमाणु से बनी है। यह पदार्थ की दुनिया ऊर्जा में परिवर्तित हो सकती है और पदार्थ ऊर्जा में। यानि कि ऊर्जा द्व ारा सब कुछ उत्पन्न किया जा सकता है। यह एक सांइटिफिक लॉ है। आइनस्टीन ने कहा है। म् त्र डब्2 इस समीकरण के बल पर ही परमाणु बम की ईजाद हुई है। ऊर्जा किसी भी विचार को प्रत्यक्ष रूप दे सकती है। रेकी द्वारा हम अपने जीवन में जो भी परिणाम चाहें उत्पन्न कर सकते हैं। रेकी एक सकारात्मक ऊर्जा है जो कोई नुकसान नहीं करती। रेकी सीखने के लिए दो दिन का समय चाहिए। इसमें दो डिग्री होती हैं। प्रथम डिग्री है। - स्पर्श चिकित्सा। दूसरी है दूरस्थ रेकी। दूरस्थ रेकी या डिस्टेंट रेकी अभूतपूर्व है। आप कहीं भी बैठकर आसानी से किसी को भी रेकी भेज सकते हैं। रेकी द्वारा आप अपने घर की वस्तु को भी ठीक कर सकते हैं। रेकी चूकिं दिव्य ऊर्जा है तो यह घर में किसी भी अशुभ कोने को शुभ बना देती है। कहीं-कहीं ऐसी जगह भी होती है जहां नकारात्मक ऊर्जा या ऐसी निम्न आत्मा निवास करती है जो फैक्ट्री व इंडस्ट्री के काम को चलने नहीं देती। रेकी द्वारा उन निम्न कोटि की ऊर्जाओं से छुटकारा पाया जा सकता है। रेकी के फायदे बीमारियों को ठीक करने में भी हैं। छोटे-मोटे रोग जैसे सिरदर्द, बदन दर्द इत्यादि आधे घंटे की रेकी से ठीक हो जाते हैं और घुटने के दर्द, कैंसर इत्यादि रेकी के लगातार उपचार से। रेकी एक बहुत ही शक्तिशाली और अचूक उपचार है। आज के वातावरण में जहां लोग परेशानियों से जूझ रहे हैं। मेरा पाठकों से निवेदन है कि आप सभी रेकी को एक बार जरूर अनुभव में उतारें।



डिप्रेशन रोग एवं ज्योतिष विशेषांक  September 2017

डिप्रेशन रोग एवं ज्योतिष विशेषांक में डिप्रेशन रोग के ज्योतिषीय योगों व कारणों की चर्चा करने हेतु विभिन्न ज्ञानवर्धक लेख व विचार गोष्ठी को सम्मिलित किया गया है। इस अंक की सत्य कथा विशेष रोचक है। वास्तु परिचर्चा और पावन तीर्थ स्थल यात्रा वर्णन सभी को पसंद आएगा। टैरो स्तम्भ में माइनर अर्कानाफाइव आॅफ वांड्स 64 की चर्चा की गई है। महिलाओं के पसंदीदा स्तम्भ ज्योतिष एवं महिलाएं में इस बार भी रोचक लेख सम्मिलित किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.