टैरो डेक में यह कार्ड आत्मनियंत्रण एवं संयम का कार्ड है। टैरो रीडिंग के दौरान जब इस कार्ड का उदय होता है और जिस व्यक्ति के लिये उदय होता है यह बताता है कि उस व्यक्ति को अपनी भावनाओं पर कंट्रोल है। वह ज्वलनशील मुद्दों को ठंडे चित्त से निबटाना जानता है जिसका अच्छा परिणाम निकल सकता है। जिसका यह कार्ड निकलता है वह रिश्तों में समरसता ला सकता है जिससे पिछली कटुता स्वयं ही समाप्त हो जाती है। उसमें शांति व शुकून के साथ काम करने की कला होती है। वह रिश्तों को ठंडे चित्त से निभाता है। यह कार्ड बताता है कि जिस व्यक्ति का यह कार्ड प्रतिनिधित्व करता है उसमें एक फरिश्ते जैसे व्यक्तित्व की विशेषताएं होती हैं जो सदैव सबका ख्याल रखता है, सबकी भावनाओं की कद्र करता है। ऐसा व्यक्ति मानवीय गुणों से भरपूर होता है। सहृदयता इनमें कूट-कूट कर भरी होती है। ऐसा व्यक्ति अगर टीचर है तो वह अपने शिष्यों को अपना सारा ज्ञान बांट देना चाहता है जिससे उनका भविष्य उज्ज्वल बने। ये अपने हृदय से इनका अच्छा चाहते हैं, इनके मन में कोई छल कपट नहीं रहता। ऐसा व्यक्ति अगर किसी यूनिट का मुखिया है तो उसको यूनियन के सभी कर्मचारी चाहे वह किसी भी पद पर क्यों न हांे, सभी प्रसन्न रहते हैं क्योंकि सभी को सच्चा मार्गदर्शन मिलता है। वह सभी के साथ न्याय करता है, किसी के भी साथ अन्याय नहीं होने देता वह यूनिट के सभी अधिकारी व कर्मचारियों का प्रिय और आदर्श होता है। जिसका यह कार्ड निकलता है अगर वह कोई घरेलू स्त्री है तो वह परिवार के सभी सदस्यों के साथ मधुर संबंध बना कर रखती है। कभी भी, किसी भी रिश्ते में कड़वाहट नहीं आने देती। किसी कारण से कोई संबंध बिगड़ने लगे तो तुरंत ही संभाल लेती है तथा कई बिगड़ते रिश्ते व बिगड़ते कामों को रोककर उनमें समरसता ले आती है। अगर यह कार्ड किसी ऐसे व्यक्ति या महिला का निकलता है जो किसी से पार्टनरशिप में बिजनेस करते हैं तो उनके काम में इतनी पारदर्शिता रहती है कि वहां धोखे का कोई काम ही नहीं। वह पूरी निश्छलता से अपने कत्र्तव्य का निर्वाह करते हैं और बिजनेस को आगे प्रगति की ओर ले जाते हैं और हमेशा सफलता की सीढ़ियां चढ़ते हैं। इससे उनके रिलेशन अपने बिजनेस पार्टनर के साथ सर्वथा अच्छे बने रहते हैं और उनका बिजनेस भी उंचाइयों को छूता है। अगर हम दो मित्रों या सहेलियों को लें तो उनके साथ भी यही स्थिति रहती है। उनमें से जिसका यह कार्ड निकला हो वह अपने मित्र या सहेली के प्रति अधिक वफादारी रखता है और सच्चे दिल से दूसरे का भला चाहता है। वह समय आने पर उसके मित्र के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहता है। न वह अपने धन की परवाह करता है न अपने मन व शरीर की। उसके लिये वह कुछ भी त्याग करने के लिऐ तैयार रहता है। अगर उपर्युक्त कार्ड ‘‘दी टेम्परेन्स’’ पति-पत्नी में से किसी एक का निकलता है तो जिसका यह कार्ड निकले वह अत्यधिक विश्वास का पात्र है और हर घड़ी, हर परिस्थिति में अपने पति या पत्नी का साथ देना चाहता है और देगा। ऐसा व्यक्ति अपने परिवार में समरसता भर सकता है तथा अपने पारिवारिक जीवन को सुखी बना सकता है। ऐसी महिला अपने ससुराल में भी सबसे घुल-मिल कर रहती है तथा सभी रिश्तों में यथोचित सम्मान व प्यार देकर रिश्तों की डोर को टूटने नहीं देती वरन् प्यार की गांठों से रिश्तों को और मजबूत कर देती है। ऐसी बहू-बेटी जिस घर में हो वह घर स्वर्ग बन जाता है।


रत्न विशेषांक  जुलाई 2016

भूत, वर्तमान एवं भविष्य जानने की मनुष्य की उत्कण्ठा ने लोगों को सृष्टि के प्रारम्भ से ही आंदोलित किया है। जन्मकुण्डली के विश्लेषण के समय ज्योतिर्विद विभिन्न ग्रहों की स्थिति का आकलन करते हैं तथा वर्तमान दशा एवं गोचर के आधार पर यह निष्कर्ष निकालने का प्रयास करते हैं कि वर्तमान समय में कौन सा ग्रह ऐसा है जो अपने अशुभत्व के कारण सफलता में बाधाएं एवं समस्याएं उत्पन्न कर रहा है। ग्रहों के अशुभत्व के शमन के लिए तीन प्रकार की पद्धतियां- तंत्र, मंत्र एवं यंत्र विद्यमान हैं। प्रथम दो पद्धतियां आमजनों को थोड़ी मुश्किल प्रतीत होती हैं अतः वर्तमान समय में तीसरी पद्धति ही थोड़ी अधिक प्रचलित है। इसी तीसरी पद्धति के अन्तर्गत विभिन्न ग्रहों के रत्नों को धारण करना है। ये रत्न धारण करने के पश्चात् आश्चर्यजनक परिणाम देते हैं तथा मनुष्य को सुख, शान्ति एवं समृद्धि से ओत-प्रोत करते हैं। फ्यूचर समाचार के वर्तमान अंक में रत्नों से सम्बन्धित अनेक उत्कृष्ट एवं उल्लेखनीय आलेखों को सम्मिलित किया गया है जो रत्न से सम्बन्धित विभिन्न आयामों पर प्रकाश डालते हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.