brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer
उपरत्न - नाम, रंग परिचय

उपरत्न - नाम, रंग परिचय  

1. आबरी: (काला रंग) 2. अह्वा: (गुलाबी रंग) 3. आलेमानी (अकीक जैसा भूरा, काली धारियां) 4. ओपल: (सफेद रंग, रंग बिरंगे चकत्ते) 5. अकीक: (विभिन्न रंग) 6. एलेक्जेंडर (जामुनी रंग, नीलम का उपरत्न) 7. कटैला: (पारदर्शी हल्का बैगनीं) 8. काला स्टार: (काला चमकीला) 9. ओनेक्स: (हरा और नीला) 10. कसौटी: (काले रंग का, सोने की जांच का पत्थर) 11. कहरूवा (तृणमणि, लाल या पीला) 12. कांसला: (सफेद और हरा रंग) 13. कुदूरत: (काले रंग का, सफेद और पीले धब्बे के साथ) 14. फिरोजा: (आसमानी, अपारदर्शी ) 15. जबरजद: (आभायुक्त हरा रंग) 16. जिरकान: (सफेद तथा अन्य रंग, पारदर्शी ) 17. चंद्रकांतमणि: (गोदंती, मोती जैसा) 18. तुरमुली: (विभिन्न रंग ) 19. तामड़ा: (कालेपन पर गहरा लाल) 20. दाना-ए-फिरंग: (हरा) 21. धुनैला: (धुंए की आभा वाला सुनहरा) 22. माहे मरियम: (मटमैला, आड़ी तिरछी पीली रेखाएं) 23. मकनातीस: (चुंबक, काला चमकदार ) 24. मरगज: (हरा और नीला ) 25. टाइगर: (शेर की खाल जैसा, काली-पीली धारियों वाला ) 26. दूर-ए-नजफ: (कच्चे धान का रंग) 27. तुरसावा: (गुलाबी और पीले रंग ) 28. गुदड़ी: (पीला रंग) 29. गौरी: (अनेक रंग की धारियां ) 30. बेरूज: (हल्का हरा रंग, पन्ने का उपरत्न ) 31. नरम: (कुछ-कुछ पीलापन के साथ लाल) 32. नीली: (नीला ) 33. पितौनिया: (हरे रंग का, लाल धब्बे वाला ) 34. बांसी (हल्का हरा रंग ) 35. तुरसावा (गुलाबी और पीला रंग ) 36. रोमनी: (कुछ कालेपन पर लाल) 37. चित्ती: (काला रंग, सुनहरी धारी वाला) 38. झरना: (मटमैले रंग का ) 39. जजेमानी: (भूरे रंग का, क्रीम रंग की धारियां ) 40. लूघना: (लाल रंग) 41. ढेडी: (काला रंग) 42. तिलियर: (काले रंग का सफेद छीटें) 43. खारा: ( हरा) 44. पाराजहर, पायेजहर (सफेद रंग का) 45. पारस: (अज्ञात रंग रूप) 46. मुबेनजफ़: (सफेद रंग के साथ काली धारियां) 47. जहरमोहरा: (सफेद काला सा) 48. पनधन: (हरा, काला) 49. डूर: (कत्थई रंग) 50. मूसा: सफेद तथा मटमैला 51. दांतला: (सफेद तथा हरा) 52. झरना: (मटमैले रंग का) 53. मकड़ा: (हल्के काले रंग का, मकड़ी के जाले जैसा) 54. हालदिली (सफेद मिश्रित हरा) 55. गन मेटल (काला, चमकदार) 56 लाजवर्त/राजावर्त (नीले रंग का, चांदी और सोने जैसे धब्बे) 57. लालड़ी (गुलाबी) 58. लारू: (मकराने के पत्थर जैसा) 59. तृणमणि/कहरूवा (लाल या पीला रंग) 60. सिंदूरिया: (गुलाबी, कुछ-कुछ सफेदी) 61. संगिया: (सेलखड़ी जैसा मिलता-जुलता रंग) 62. सिंगली: (कुछ-कुछ कालेपन के साथ लाल) 63. रेनबो: (सफेद चमकदार) 64. खात: (लाल और नीला) 65. यमनी: (लाल ओनेक्स) 66. सोनामाखी (सफेद मिट्टी जैसा) 67. सुरमा: (काला-सा) 68. सीमाक: (पीलेपन के साथ काला) 69. सीया: (काले रंग का) 70. सिफरी: (नीला तथा हरे रंग का मिश्रण) 71. संगबसरी: (इससे सुरमा बनाया जाता है) 72. संगमरमर (विभिन्न रंग) 73. सिवार: (हरा रंग, भूरे रंग की धारियां) 74. सेलखड़ी: (सफेद, चिकना) 75. सजरी या शजर: (अकीक जैसा, विभिन्न रंग) 76. सुलेमानी: (काले रंग पर सफेद धारियां) 77. संगसितारा: (गेहुंआ सुनहरा, अपारदर्शी) 78. स्फटिक (सफेद बिल्लौर) 79. सुनहला (सुनहरा पारदर्शी) 80. हकीक कल बहार: (कुछ पाीलापन) 81. हालन: (गुलाबी रंग) 82. हरीद: (काला तथा भूरा) 83. हवास: (कुछ-कुछ सुनहरा) 84. हजरते ऊद (काला)

रत्न विशेषांक  जुलाई 2016

भूत, वर्तमान एवं भविष्य जानने की मनुष्य की उत्कण्ठा ने लोगों को सृष्टि के प्रारम्भ से ही आंदोलित किया है। जन्मकुण्डली के विश्लेषण के समय ज्योतिर्विद विभिन्न ग्रहों की स्थिति का आकलन करते हैं तथा वर्तमान दशा एवं गोचर के आधार पर यह निष्कर्ष निकालने का प्रयास करते हैं कि वर्तमान समय में कौन सा ग्रह ऐसा है जो अपने अशुभत्व के कारण सफलता में बाधाएं एवं समस्याएं उत्पन्न कर रहा है। ग्रहों के अशुभत्व के शमन के लिए तीन प्रकार की पद्धतियां- तंत्र, मंत्र एवं यंत्र विद्यमान हैं। प्रथम दो पद्धतियां आमजनों को थोड़ी मुश्किल प्रतीत होती हैं अतः वर्तमान समय में तीसरी पद्धति ही थोड़ी अधिक प्रचलित है। इसी तीसरी पद्धति के अन्तर्गत विभिन्न ग्रहों के रत्नों को धारण करना है। ये रत्न धारण करने के पश्चात् आश्चर्यजनक परिणाम देते हैं तथा मनुष्य को सुख, शान्ति एवं समृद्धि से ओत-प्रोत करते हैं। फ्यूचर समाचार के वर्तमान अंक में रत्नों से सम्बन्धित अनेक उत्कृष्ट एवं उल्लेखनीय आलेखों को सम्मिलित किया गया है जो रत्न से सम्बन्धित विभिन्न आयामों पर प्रकाश डालते हैं।

सब्सक्राइब

.