भंग हो केमद्रुम योग, तो बने राजयोग

भंग हो केमद्रुम योग, तो बने राजयोग  

भंग हो केमद्रुम योग, तो बने राजयोग जय निरंजन जन्मकुंडली में यदि चंद्रमा से द्वादश तथा द्वितीय भाव में सूर्य, राहु-केतु के अतिरिक्त कोई अन्य ग्रह स्थित न हो तो 'क्रेमद्रुम' नामक अशुभ योग निर्मित होता है। इसे ज्योतिष ग्रंथों में सर्वाधिक अशुभ माने जाने वाले योगों में शामिल किया गया है। लेकिन केमद्रुम योग राज योग कब बन जाता है, पढ़िए इस लेख में। केमद्रुम योग के बारे में ऐसी मान्यता है कि यह योग जिस जातक की कुंडली में निर्मित होता है उसे आजीवन संघर्ष और अभाव में ही जीवन यापन करना पड़ता है। इसीलिए ज्योतिष के अनेक विद्व ान इसे 'दुर्भाग्य का प्रतीक' कहकर परिभाषित करते हैं। लेकिन यह अवधारणा पूर्णतः सत्य नहीं है। व्यवहार में ऐसा पाया गया है कि कुंडली में गजकेसरी, पंचमहापुरुष जैसे शुभ योगों की अनुपस्थिति होने पर भी केमद्रुम योग से युक्त कुंडली के जातक कार्यक्षेत्र में सफलता के साथ-साथ यश और प्रतिष्ठा भी प्राप्त करते हैं। ऐसे में क्या कहा जाये। क्या शास्त्रों में लिखी बातों को असत्य या निर्मूल कहकर केमद्रुम योग की परिभाषा पर प्रश्न चिह्न लगा दिया जाये। वस्तुतः सत्यता यह है कि केमद्रुम योग के बारे में बताने वाले अधिकांश विद्वान इसके नकारात्मक पक्ष पर ही अधिक प्रकाश डालते हैं। जो पूर्णतः असैद्धांतिक एवं अवैज्ञानिक है। यदि हम इसके सकारात्मक पक्ष का गंभीरतापूर्वक विवेचन करें तो हम पाएंगे कि कुछ विशेष योगों की उपस्थिति से केमद्रुम योग भंग होकर राजयोग में परिवर्तित हो जाता है। शास्त्रों में कतिपय ऐसे योगों का उल्लेख भी मिलता है जिनके प्रभाव से केमद्रुम योग भंग होकर राजयोग में बदल जाता है। केमद्रुम योग को भंग करने वाले प्रमुख योग निम्नलिखित हैं। 1. चंद्रमा पर बुध या गुरु की पूर्ण दृष्टि हो अथवा लग्न में बुध या गुरु की स्थिति या दृष्टि हो। 2. चंद्रमा और गुरु के मध्य भाव-परिवर्तन का संबंध बन रहा हो। 3. चंद्रमा-अधिष्ठित राशि का स्वामी चंद्रमा पर दृष्टि डाल रहा हो। 4. चंद्रमा-अधिष्ठित राशि का स्वामी लग्न में स्थित हो। 5. चंद्रमा-अधिष्ठित राशि का स्वामी गुरु से दृष्ट हो। 6. चंद्रमा-अधिष्ठित राशि का स्वामी चंद्रमा से भाव परिवर्तन का संबंध बना रहा हो। 7. चंद्रमा-अधिष्ठित राशि का स्वामी लग्नेश, पंचमेश, सप्तमेश या नवमेश के साथ युति या दृष्टि संबंध बना रहा हो। 8. लग्नेश, पंचमेश, सप्तमेश और नवमेश में से कम से कम किन्ही दो भावेशों का आपस में युति या दृष्टि संबंध बन रहा हो। 9. लग्नेश बुध या गुरु से दृष्ट होकर शुभ स्थिति में हो। 10. चंद्रमा केंद्र में स्वराशिस्थ या उच्च राशिस्थ होकर शुभ स्थिति में हो। उपर्युक्त ग्रह योगों को निम्नलिखित उदाहरणों में देखना समीचीन होगा। प्रस्तुत कुंडली प्रथम महिला आईपी. एस किरण बेदी की है। इनकी कुंडली का केमद्रुम योग निम्नलिखित योगों के कारण भंग हो कर राजयोग में परिवर्तित हुआ है। किरण बेदी जन्म दिनांक : 9 जून 1949 जन्म समय : 14 :10 बजे 1- जन्म स्थान : अमृतसर चंद्रमा, अधिष्ठित राशि अपने स्वामी मंगल एवं लग्नेश बुध से दृष्ट है। 2. लग्नेश बुध, चंद्र-लग्नेश मंगल तथा लग्न पर गुरु की पंचम व नवम शुभ दृष्टि है। प्रस्तुत कुंडली हिंदी फिल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता राजेश खन्ना की है। इनकी जन्म कुंडली का केमद्रुम योग भी निम्नलिखित योगों से भंग हो रहा है- अभिनेता राजेश खन्ना जन्म दिनांक : 29 दिसंबर 1942 जन्म समय : 17 :45 बजे जन्म स्थान : अमृतसर 1. चंद्रमा अधिष्ठित राशि का स्वामी सूर्य गुरु से दृष्ट है। 2. लग्नेश बुध, पंचमेश शुक्र की युति चंद्रमा अधिष्ठित राशि के स्वामी सूर्य से है जिसका गुरु से पूर्ण सप्तम दृष्टि संबंध है। यह कुंडली प्रसिद्ध ज्योतिषी एच. एन. काटवे की है। इनकी कुंडली में भी केमद्रुम योग भंग होकर राजयोग में बदल गया है। केमद्रुम योग भंग करने वाले योग निम्नलिखित है। 1. चंद्रमा अधिष्ठित राशि का स्वामी शुक्र, लग्नेश गुरु से युति कर रहा है। 2. सप्तमेश बुध, नवमेश सूर्य से युति कर रहा है। उपर्युक्त विवेचन से स्पष्ट होता है कि केमद्रुम योग जिसे एक अशुभ योग माना जाता है, यदि किसी प्रकार भंग हो जाता है तो यह पूर्ण रूप से राजयोग में बदल जाता है। इसलिए किसी जातक की कुंडली देखते समय केमद्रुम योग की उपस्थिति होने पर उसको भंग करने वाले उपर्युक्त योगों पर निश्चय ही ध्यान देना चाहिए। उसके बाद ही फलकथन करना चाहिए। सुधी पाठक केमद्रुम योग को भंग कर राजयोग में परिवर्तित करने वाले उपर्युक्त योगों की सत्यता की पुष्टि महात्मा गांधी, नेल्सन मंडेला, जुल्फिकार अली भुट्टो, भैरों सिंह शेखावत, बिल गेट्स, देवानंद, राजकपूर, ऋषि कपूर, शत्रुध्न सिन्हा, अमीषा पटेल, अजय देवगन, राहुल गांधी, शंकर दयाल शर्मा, ईजमाम उल हक, जवागल श्री नाथ, पीचिदंबरम, मेनका गांधी, वसुंधरा राजे, अर्जुन सिंह तथा अनुपम खेर आदि सुप्रसिद्ध जातकों की कुंडलियों में स्वतः कर सकते हैं। ज्योतिषी एच. एन. काटवे जन्म दिनांक : 6 फरवरी 1892 जन्म समय : 4 : 20 बजे जन्म स्थान : बेलगांव

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

मुहूर्त विशेषांक   जून 2011

जीवन की महत्वपूर्ण कार्यों जैसे-विवाह, गृह प्रवेश, नया पद या नई योजना के क्रियान्वयन के लिए शुभ मुहूर्त निकालकर कार्य करने से सफलता प्राप्त होती है और जीवन सुखमय बनता है व बिना मुहूर्त के कार्य करने पर निष्फलता देखी है। इस विशेषांक मे बताया गया है

सब्सक्राइब

.