वास्तु परामर्श


वास्तु शास्त्र में पंच तत्व

दिसम्बर 2015

व्यूस: 3748

सदियों से भारत में वास्तु शास्त्र के नियमों के पालन का आग्रह किया जाता रहा है। पंच तत्वों से मिल कर ही समस्त सृष्टि का निर्माण हुआ है। सौर ऊर्जा, चुंबकीय प्रवाहों, दिशाओं, वायु प्रभावों, गुरुत्वाकर्षण, वैधिक किरणों और प्रकृति की... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएं

वास्तु सम्मत सीढ़ियां भी देती हैं सफलता

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3699

वास्तु शास्त्र में गहराई से अध्ययन करने पर पता चलता है कि घर की सीढ़ियां हमारी सफलता या असफलता को प्रभावित करती हैं। वास्तुशास्त्र के अनुसार आपकी सफलता सीढ़ियों की बनावट पर भी निर्भर करती है।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

वास्तु दोष निवारण के उपाय

जून 2016

व्यूस: 3667

विभिन्न वास्तु दोष निवारण हेतु क्या उपाय किये जाने चाहिए? यंत्र, पिरामिड, दर्पण, तार व अन्य फेंग शुई वस्तुओं का उपयोग किस प्रकार किया जाता है? उन सामग्रियों के उपयोग से मिलने वाले लाभों का वर्णन करें।... और पढ़ें

उपायवास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

वायव्य में गड्ढा होना कानूनी समस्याओं का उत्पन्न होना

आगस्त 2011

व्यूस: 3494

वास्तु विद्या से घर-परिवार में चल रही कोर्ट-कचहरी के मामलों का कारण और साथ ही निवारण भी किया जा सकता है. घर की वास्तु स्थिति का विश्लेषण करने के बाद वास्तु के सामान्य उपाय कर, गंभीर समस्याओं का निराकरण किया जा सकता है. इस विषय कों... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

अनुभूत प्रयोग एवं सूत्र

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3491

साधारणतया प्रत्येक परिवार में कुछ अशांति या अशुभता की स्थिति प्रायः नजर आती है। सांसारिक जीवन में पंच तत्वों से युक्त मानव शरीर से सभी जन विज्ञ हैं यथा पृथ्वी, आकाश, जल, वायु और अग्नि। कहा है कि ‘यथा पिंडे तथा ब्रह्माण्डे’। ... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु के सुझाव

फेंग शुई

मई 2013

व्यूस: 3475

फेंग शुई दो शब्दों फेंग एवं शुई का सम्मिश्रण है। चीनी भाषा में फेंग का अर्थ वायु तथा शुई का अर्थ जल होता है। जिस प्रकार हम वास्तु के सिद्धांतों का अपने गृह अथवा वाणिज्यिक भवन में अनुपालन एवं प्रयोग करके सुख, शांति एवं ... और पढ़ें

फेंग शुईवास्तुवास्तु परामर्शवास्तु के सुझाव

वास्तु शास्त्र के मूलभूत तत्व

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3452

वास्तु विज्ञान पृथ्वी तत्वों के गुण विशेष बल, घूर्णन, चुंबकीय ध्रुवों, जल, अग्नि व वायु तत्वों के प्रवाह अर्थात् उनके बहाव की दिशाएं, सूर्य-किरणों की महत्ता या उनके उदित व अस्त होने की प्रभावकारिता तथा ब्रह्मांडीय परिधि के ... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

उद्योग धन्धे क्यों बंद हो जाते हैं

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3426

उद्योग के प्रारम्भ और उसके फलने-फूलने को लेकर देखा जाए तो मूलतः तीन बातें सामने आती हैं- धन, जोखिम और श्रम अर्थात् व्यक्ति के पास उचित धनराशि हो, उसके पास काम करने का जोश और जोखिम उठाने का धैर्य हो और सबसे ऊपर श्रम करने के ... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

वास्तु सिद्धांत तथा उनकी वैज्ञानिक कार्यप्रणाली

दिसम्बर 2011

व्यूस: 3353

वास्तु शास्त्र जीवन के संतुलन का प्रतिपादन करता है वास्तु पृथ्वी, जल, वायु, आकाश और अग्नि इन पांच तत्वों से बना है जीवधारियों को निम्नलिखित बातें सर्वाधिक प्रभावित करती हैं।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)