वायव्य में गड्ढा होना कानूनी समस्याओं का उत्पन्न होना

वायव्य में गड्ढा होना कानूनी समस्याओं का उत्पन्न होना  

वायव्य में गढ्ढा होना कानूनी समस्याओं का उत्पन्न होना पं. गोपाल शर्मा (बी.ई.) कुछ दिन पहले पंडित जी अपने एक पुराने परिचित एवं देश के अति सफलतम वकील के यहां कापसहेड़ा एस्टेट में लंच पर गये थे। वहां उनसे बातचीत के दौरान उन्होंने पं. जी को बताया कि उनके एक मित्र बहुत बड़ी समस्या में फंस गये हैं। उनके बारे में पूछने पर बताया कि वह एक प्रखयात भवन निर्माता हैं व उनकी पत्नी एक प्रखयात फैशन डिजाइनर हैं। पिछले कुछ माह से वह सरकार से जालसाजी के इल्जाम की वजह से हिरासत में है। वह काफी बड़े फार्महाउस में दिल्ली में ही रहते हैं। उनकी पत्नी काफी परेशान है तथा मुकदमे की वजह से पैसा पानी की तरह बह रहा है। उनकी पत्नी के अनुरोध पर वह पंडित जी को लेकर उनके घर गए। वास्तु परीक्षण करने पर पाए गए वास्तु दोष : उनके प्लाट का उत्तर-पूर्व कोना बंद था जो कि गंभीर मानसिक तनाव व सभी ओर से विकास में बाधक होता है। उनके प्लाट का दक्षिण-पश्चिम भाग बढ़ा हुआ था एवं बढ़े हुए हिस्से में बोरिंग भी थी जिससे मालिक गंभीर समस्याओं में पड़ सकता है तथा उसके घर से दूर रहने का भी कारण होता है। उत्तर-पश्चिम में भी एक बोरिंग थी जो कि कानूनी समस्याएं, दुश्मनी (अपने भी पराऐ हो जाना) तथा अपयश का कारण होती है। दक्षिण में स्वीमिंग पूल बना था जो कि अनचाहे खर्चों तथा बीमारी का कारण होता है। उनके उत्तर में जनरेटर रखे थे जो कि वैचारिक मतभेद, भारी खर्च तथा तनाव का कारण होता है। सुझाव उनको उत्तर-पूर्व कोने को तुरंत खोलने के लिए कहा गया और गार्ड रुम को गेट के दूसरी तरफ उत्तर में चारदीवारी से बिना लगे बनाने को कहा गया। दक्षिण-पश्चिम के बढ़ने के दोष को कम करने के लिए तीन फुट की दीवार बनाने की सलाह दी गई व आने जाने के लिए सीढियां बनाने को कहा। उत्तर-पश्चिम में बनी बोरिंग व अन्डर ग्राउन्ड टैंक को जल्द से जल्द बंद करके गढ्ढे को अच्छे से भरने की सलाह दी। बोरिंग व अन्डर ग्राउन्ड टैंक उत्तर-पूर्व/ पूर्व में बनाने को कहा गया। दक्षिण में बने स्वीमिंग पूल को उत्तर में स्थानांतरित करने की सलाह दी गई। उत्तर में रखे जनरेटर सैट को बढ़े हुए दक्षिण-पश्चिम के हिस्से के दक्षिण पूर्व की तरफ करने को कहा गया। पंडित जी ने अपने मित्र को कहा कि यदि उनके बताए गए सुझावों को कार्यान्वित कर दिया जाएगा तो उनके पति जल्द ही अपने घर वापस आ जाएंगें तथा उनके जीवन में फिर से सुख-समृद्धि आ जाएगी।


उपाय व टोटके विशेषांक  आगस्त 2011

टोने –टोटके तथा उपायों का जनसामान्य के लिए अर्थ तथा वास्तविकता व संबंधित भ्रांतियां. वर्तमान में प्रचलित उपायों – टोटकों की प्राचीनता, प्रमाणिकता, उपयोगिता एवं कारगरता. विभिन्न देशों में प्रचलित टोटकों का स्वरूप, विवरण तथा उनके जनकों का संक्षिप्त परिचय.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.