Congratulations!

You just unlocked 13 pages Janam Kundali absolutely FREE

I agree to recieve Free report, Exclusive offers, and discounts on email.

सीढ़ियों का बंद होना- विकास में अवरोधक

सीढ़ियों का बंद होना- विकास में अवरोधक  

पंडित जी का गांधी नगर दिल्ली की एक मशहूर कपड़ों के थोक की दुकान/ शो रुम पर वास्तु परीक्षण करने के लिए जाना हुआ। वहां जाने पर उन्होंने बताया कि उनकी दुकान पूरे गांधी नगर की सबसे प्रसिद्ध दुकान है, पर जितनी कमाई होनी चाहिए उतनी होती नहीं है। पैसा रुक जाता है जिसकी वजह से तनाव बना रहता है। काम बढ़ाने की योजना बनाने के समय कोई न कोई अड़चन आ जाती है। वास्तु परीक्षण करने पर पाए गए वास्तु दोष - दुकान का उत्तर-पश्चिम कोना कटा हुआ था जो कि लड़ाई झगड़ों का तथा योजना का समय पर कार्यान्वित न होने का कारण होता है। - उत्तर-पूर्व में सीढ़ियां बनी थीं जो कि व्यापार में दिनों-दिन गिरावट/ धन हानि का कारण होती है तथा मानसिक तनाव बना रहता है। - सीढ़ियों के नीचे शौचालय भी बना था जो कि गंभीर वास्तु दोष है तथा सभी ओर से विकास में अवरोधक होता है। सुझाव - दुकान का उत्तर-पश्चिम का हिस्सा उनके भाई का था जिसे दरवाजा बनाकर जोड़ा जा सकता था। चाहे दरवाजे पर दोनों ओर से ताला लगाकर बंद रखें पर दरवाजा बनाने से कटने का दोष खत्म हो जाता है। - उत्तर पूर्व की सीढ़ियों को हटाकर पीछे की ओर दक्षिण में बनाने की सलाह दी गई। - शौचालय को दक्षिण-पूर्व के कोने में ले जाने का कहा गया। कुछ और सुझाव - वे लिफ्ट बनाना चाहते थे जो कि पश्चिम, पूर्व, उत्तर या उत्तर-पूर्व में बनाने को कहा गया। - उत्तर में बोरिंग करने को कहा गया जिससे आर्थिक उन्नति हो सके और कभी पैसा बाजार में ब्लाक न हो। - उत्तर, उत्तर पूर्व व पूर्व में हल्का सामान व शीशे लगाने की सलाह दी गई। - पीने के पानी का डिस्पेंशर पूर्व में रखने को कहा गया।

पराविद्या विशेषांक  जून 2013

फ्यूचर समाचार पत्रिका के पराविद्या विशेषांक में शनि जयंती, विवाह, विवाह में विलंब के कारण व निवारण, कुंडली में पंचमहापुरूष योग एवं रत्न चयन, तबादला एक ज्योतिषीय विश्लेषण, शुक्र की दशा का फल, शनि चंद्र का विष योग, उंगली और उंगलियों के दूरी का फल, दक्षिणावर्ती शंख, बृहस्पति का प्रिय केसर, दाह संस्कार-अंतिम संस्कार, परवेज मुशर्रफ के सितारे गर्दीश में, चांद ने डुबोया टाइटेनिक को, अंक ज्योतिष के रहस्य, विभिन्न भावों में मंगल का फल, स्वर्गीय जगदंबा प्रसाद की जीवन कथा, महोत्कट विनायक की पौराणिक कथा के अतिरिक्त, काल सर्प दोष से मुक्ति के लिए लाल किताब के अचुक उपाय, वास्तु प्रश्नोत्तरी, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, प्राकृतिक ऊर्जा संतुलन, विवादित वास्तु, विशिष्ट महत्व है काशी के काल भैरव का तथा हस्तरेखा द्वारा जन्मकुंडली निर्माण की विधियों पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

.