brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer

वास्तु परामर्श


ग्रहों एवं दिशाओं से संबंधित व्यवसाय

जून 2012

व्यूस: 3298

उतर-पश्चिम दिशा का स्वामी चंद्रमा है जिसे रक्त, मन, संचार का कारक माना जाता है। उतर-पश्चिम अभिमुख भूखंड पर जल तथा जल से उत्पन्न पदार्थ, सिंघाडा, मछली, दूध, दही एवं घी, से संबंधित व्यवसाय करना लाभप्रद होता है।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

फ्लैट/प्लाॅट खरीदने हेतु वास्तु तथ्य

दिसम्बर 2014

व्यूस: 3265

भूमि की ढाल उत्तर व पूर्व की ओर होनी चाहिये। दक्षिण व पश्चिम की ओर भूमि ऊंची हो। इन दिशाओं में कोई जल स्रोत न हो, उत्तर व पूर्व की ओर भूमि नीची हो। फ्लैट का आकार आयताकार अथवा वर्गाकार होना चाहिये, असमान आकार, स् आकार, ब् आक... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

सैटबैक की महता

फ़रवरी 2013

व्यूस: 3228

वास्तु परिक्षण करने पर पाए गए वास्तु दोष तथा कुछ अहम् सुझाव-प्लाट के दक्षिण-पूर्व में गेट था जो की बंद रहता है और यह कोन ऊपर से बंद था जिससे फैक्टरी में कम एक्टिविटी हो रही थी क्योंकि यह स्थान लो एनर्जी बन गया था।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु के सुझाव

दक्षिण-पश्चिम का बंद कोना स्वास्थ्य हानि और लड़ाई झगड़े का कारण होता है

जनवरी 2010

व्यूस: 3167

दक्षिण-पश्चिम में द्वार बना था जो घर के पीछे की तरफ खुलता था। दक्षिण-पश्चिम में द्वार होने के फलस्वरूप मालिक का स्वास्थ्य प्रतिकूल होता है एवं आर्थिक परेशानियां होती हैं।... और पढ़ें

वास्तुगृह वास्तुवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु के सुझाव

वास्तु शास्त्र एक वैज्ञानिक पद्धति

दिसम्बर 2015

व्यूस: 3140

वास्तु शास्त्र भवन निर्माण की ऐसी विधा है जिसमें भवन या घर को इस प्रकार बनाया जाता है कि प्रकृति में फैली हुई सकारात्मक ऊर्जाओं का घर में अधिक से अधिक समावेश हो सके। किसी भी भवन का केवल सुंदर दिखना एक अलग बात है परंतु अधिक महत्व... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएं

व्यावसायिक स्थल का वास्तु में महत्व

सितम्बर 2014

व्यूस: 3080

प्र.- किसी भी व्यावसायिक कार्य के निर्माण हेतु किस तरह का भूखंड लाभप्रद होता है? उत्तर-व्यावसायिक कार्य करने के लिए आयताकार या वर्गाकार भूखंड सर्वश्रेष्ठ होता है। आयताकार भूखंड को 1:2 अनुपात से अधिक नहीं रखना चाहिए।... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्श

भू-परीक्षण, प्रकार एवं ढलान का महत्व

मई 2016

व्यूस: 2936

किसी नए भूखंड को खरीदने से पहले किसी वास्तु विशेषज्ञ से उसकी जांच करवा लेना आवश्यक है। भूमि के परीक्षण में निम्नांकित सिद्धान्तों कापालन करना चाहिए: -1 फीट X 1 फीट गहरा गडक्का खोदें तथा उसमें से निकली हुई मिट्टी से उसे भर द... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

ईशान व नैर्ऋत्य की महत्ता

जून 2014

व्यूस: 2933

कुछ समय पहले पं0 गोपाल शर्मा जी फरीदाबाद में श्री संदीप छाबड़ा के घर गये। घर के निरीक्षण के समय कई वास्तु दोष पाए गए। श्री छाबड़ा जी ने बताया कि काफी समय से उनको आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जिससे घर में तनाव और म... और पढ़ें

वास्तुवास्तु परामर्श

फ्लैट खरीदने में किन बातों का रखें ध्यान

दिसम्बर 2015

व्यूस: 2841

- मुख्य द्वार या चारदीवारी का द्वार दिशा के अनुसार शुभ स्थान पर हो। शुभ स्थान पूर्वी ईशान, उत्तरी-ईशान, दक्षिणी-आग्नेय और पश्चिमी-वायव्य है। नैर्ऋत्य कोण के द्वार अशुभ होते हैं।... और पढ़ें

उपायवास्तुवास्तु परामर्शवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

होटल, रेस्तरां एवं रिजाॅट

फ़रवरी 2015

व्यूस: 2819

होटल व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें अच्छे इन्फ्रास्ट्रक्चर, लोकेशन, साज-सज्जा, अच्छी सुविधा एवं आतिथ्य का बड़ा ही अहम रोल है। ग्राहकों एवं अतिथियों को आमंत्रित एवं आकर्षित करने में वास्तु की अहम भूमिका है क्योंकि होटल क... और पढ़ें

वास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)