अध्यात्म, धर्म आदि


भगवत कृपा के स्रोत

फ़रवरी 2011

व्यूस: 5566

भगवत प्राप्ति के अनेक मार्ग बताए गए हैं आइए जानें कि इन सब मार्गों का क्या स्वरूप है और भगवत कृपा कैसे प्राप्त की जाए।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

तीर्थ गुरु पुष्कर का माहात्म्य

जनवरी 2010

व्यूस: 5554

कहते हैं तीर्थ गुरु पुष्कर में शुभ समय एवं ग्रह योग में जाकर पूजा उपासना करने से जातक विवाह, पुत्र संतान, ज्ञान, यश, धन के सुख प्राप्त कर अपना जीवन सुखमय बना सकता है। इस लेख में पूजा की सरल विधि व पुष्कर जी के महात्म्य का वर्णन कि... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

श्रीविद्या-आत्मविद्या-आत्मसमर्पण

नवेम्बर 2010

व्यूस: 5535

श्री’ अर्थात् देवी और विद्या अर्थात ज्ञान। सीधे-सादे शब्दों में यह देवी की उपासना है। एक ऐसा ज्ञान है जिसे जानने के पश्चात कुछ जानना शेष नहीं रह जाता। मनुष्य के जीवन का परम लक्ष्य आत्म बोध है।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदियशविविध

सुखी दांपत्य जीवन का आधार शादी के 7 वचन

दिसम्बर 2014

व्यूस: 5449

16 संस्कारों में विवाह सबसे महत्वपूर्ण संस्कार होता है। हमारे शास्त्रों में विवाह के समय कन्या अपने वर से सात वचन मांगती है और पति अपने पत्नी से वचन मांगता है। और दोनों एक दूसरे से सातों वचनों को निभाने का वादा करते हंै। ल... और पढ़ें

अध्यात्म, धर्म आदिविविध

कनकधारा स्तोत्र

नवेम्बर 2010

व्यूस: 5385

आदि गुरु शंकराचार्य अपने आहार के लिए नित्य प्रति किसी भी एक घर में जाकर भिक्षा मांगते थे, उस घर से उन्हें जो भी प्राप्त होता उसे स्वीकार कर अपनी उदर पूर्ति करते।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतविविध

घर में क्या न करें

दिसम्बर 2014

व्यूस: 5325

हन्दू सभ्यता में प्राकृतिक शक्तियों के साथ तालमेल बिठाने के लिए घर के स्वरूप का निर्धारण करने तथा उसकी साज सज्जा करते समय कुछ चीजों का विशेष ध्यान रखा जाता है। घर के सदस्यों के बीच तालमेल बिठाने व शांति का माहौल बनाने के ल... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंअध्यात्म, धर्म आदिविविध

भगवद् तत्व के विषय में संतों एवं महापुरूषों के उदगार

फ़रवरी 2011

व्यूस: 5297

भगवद् तत्व को विभिन्न क्षेत्र के व्यक्तियों ने विभिन्न रूपों में देखा। विश्वप्रसिद्ध ग्रंथों, आचार्यों, दार्शनिकों और संतों ने उसे जिस जिस रूप में देखा, उसको संक्षेप में जानने का अवसर यहां मिलेगा।... और पढ़ें

अध्यात्म, धर्म आदिविविध

श्री यंत्र का आध्यात्मिक स्वरूप

जुलाई 2013

व्यूस: 5172

पूर्ण विधान से श्री यंत्र का पूजन जो एक बार भी कर ले, वह दिव्य देहधारी हो जाता है। दत्तात्रेय ऋषि एवं दुर्वासा ऋषि ने भी श्री यंत्र को मोक्षदाता माना है। इसका मुख्य कारण यह है कि मनुष्य शरीर की भांति, श्री यंत्र में भी 9 चक्र होते... और पढ़ें

उपायअध्यात्म, धर्म आदिसंपत्तियंत्र

हिन्दू मान्यताओं का वैज्ञानिक आधार

अप्रैल 2013

व्यूस: 5154

अनादि काल से ही हिन्दू धर्म में अनेक प्रकार की मान्यताओं का समावेश रहा है। विचारों की प्रखरता एवं विद्वानों के निरंतर चिंतन से मान्यताओं व् आस्थाओं में भी परिवर्तन हुआ।... और पढ़ें

उपायअध्यात्म, धर्म आदिविविध

लक्ष्मी पूजन विधि एवं शुभ मुहूर्त

अकतूबर 2014

व्यूस: 5145

मां लक्ष्मी की पूजा किसी भी समय में की जा सकती है। लेकिन सार्थक पूजा के लिए शास्त्र सम्मत विधान की जानकारी होनी आवश्यक है। मां लक्ष्मी की पूजा किस मुहूर्त में किन सामग्रियों के साथ की जाय जिससे कि मां लक्ष्मी का आशीर्वाद शीघ्र... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)