छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है।

शरीर की थकावट दूर करने के लिए

  • जो परिश्रम बहुत करते हैं तथा काफी यात्रा करते रहते हैं उनको चाहिए कि सर्दियों में गर्म गुनगुने पानी से पैरों को धोकर कपड़े से पोछ कर सो जायें। इसके साथ ही ऊँ वायुदेवाय नमः मंत्र का जाप करना चाहिए तथा जाप करते हुए शरीर पर हाथ फेरते रहना चाहिए। इस तरीके से शरीर की थकावट दूर हो जाएगी।

फोड़े फंसी का उपचार

  • शरीर में प्रायः फोड़े फंुसी हो जाते हैं तथा पक भी जाते हैं व मवाद भी पड़ जाता है। ऐसी स्थिति में जहां पर फुन्सी फूट गई है उस जगह पर केले के पत्ते को पीसकर फुन्सियां पर बांध दें तथा घाव पर जो लुगदी है उसको पीले कपड़े में लपेट कर जमीन में गाड दें।

सिर में चक्कर तथा दौरे पड़ने पर

  • बहुतों को प्रायः सिर में चक्कर आते हैं अथवा कइयों को दौरा पड़ जाता है। डाॅक्टर इसको शारीरिक कमजोरी बताते हैं। किंतु बहुत से महात्माओं का कहना है कि सूर्योदय के समय उठकर व सूरजमुखी का फूल लेकर उसको अपने माथे पर घिसना चाहिए तथा ऊँ सूर्याय नमः मंत्र को बोलते हुए मंत्र जाप के पश्चात उस फूल को दक्षिण दिशा की ओर फेंककर तुरंत स्नान कर लेना चाहिए। स्नान के बाद कुछ समय सूर्य की रोशनी में खड़ा रहें व ताजा क्रीम अथवा मक्खन को तुरंत पी लें। शीघ्र आराम आ जाएगा।

कमर में दर्द होने पर

  • जिन्हें हर समय कमर दर्द रहता है अथवा पसली दर्द हो जाता है वे रोगी सायंकाल को सूर्य की ओर मुंह करके जहां पर दर्द है शरीर के उस भाग को नीम की टहनी से 21 बार स्पर्श करना चाहिए। मंत्र ‘ऊँ’ भैरवाय नमः बोलकर टहनी को किसी तालाब या बहते पानी में डाल दें।

शरीर पर मस्सा होने पर

यह मस्सा सभी जगह शरीर में उत्पन्न हो जाता है जिससे खुजली पर भद्दापन दिखाई देता है। बहुत से आपरेशन द्वारा बनते हैं। किंतु एक फकीरी नुस्खे से भी इसे ठीक किया जा सकता है।

- एक काला बैंगन लेकर उसको फाड़कर उसके दोनों भागों को आपस में रगड़ें, इसका जो भाग पैदा होगा उसे मस्से वाले भाग पर लगा देने से मस्सा चला जाता है।

- रविवार को रात मारू बैंगन लेकर काले तिल, साबूत काली उड़द व काला कपड़ा ये सब वस्तुएं लेकर अपने सिर के नीचे रख कर सो जायें व दूसरे दिन सोमवार को प्रातःकाल नदी में बहा दें।

- सुबह ही सुबह अपना थूक लेकर मस्से पर लगा लें तथा स्नान के बाद चूना लेकर मस्से के ऊपर लेप कर दें तथा पान की दंडी से उस मस्से को रगड़ें। इससे मस्सा फट जाता है। फिर से उस स्थान पर नहीं होता है।



पराविद्या विशेषांक  अप्रैल 2013

फ्यूचर समाचार पत्रिका के पराविद्या विशेषांक में नवग्रह के सरल उपाय, भाग्य, पुरुषार्थ और कर्म, राहु का अन्य ग्रहों पर प्रभाव, अपरिचित महत्वपूर्ण ग्रह, क्या आप बन पाएंगे सफल इंजीनियर, द्वादशांश से अनिष्ट का सटीक निर्धारण, क्रिकेटर बनने के ग्रह योग, लग्नानुसार विदेश यात्रा के प्रमुख योग, विभिन्न लग्नों में सप्तम भावस्थ गुरु का प्रभाव एवं उपाय, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब के विशिष्ट टोटके, दुर्योग, संत देवराहा बाबा, जगत की गति का द्योतक है 108, विक्रम संवत 2070, अंक ज्योतिष के रहस्य, फलित विचार व चंद्र, सत्यकथा, ईश्वर प्राप्ति का सहज मार्ग कौन, हिंदू मान्यताओं का वैज्ञानिक आधार, पर्यावरण वास्तु, वास्तु प्रश्नोतरी, हस्तरेखा, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, बिहार का खजुराहो: नेपाली मंदिर, विवादित वास्तु, आदि विषयों पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.