छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है।

विवाह में विलंब होने पर

गौरी शंकर रुद्राक्ष शुभ मुहूर्त में सोमवार को धारण करें। शिव पार्वती विवाह की तस्वीर पूजा में रखें, धूप दीप जलाएं। नैवैद्य रखें। ''ऊँ जानकी वल्लभाय स्वाहा'' की तीन माला रोज रुद्राक्ष से चालीस दिनों तक जाप करें, । मनोभाव से प्रार्थना करें। अच्छे संपन्न परिवारों से रिश्ते आने लगते हैं और विवाह पक्के हो जाने की संभावनाएं प्रबल हो जाती हैं।

धन वृद्धि कारक प्रयोग :

ऊँ नमो भगवती पद्मावती, ऊँ ह्रीं ऊँ दक्षिणाय, पश्चिमाय, उत्तराय आण पूरय सर्वजन वश्यं कुरु-कुरु स्वाहा।

जिस प्रसूता को प्रसव वेदना आरंभ हो, उस समय एक गिलास में थोड़ा गर्म या गुनगुना पानी लें, उस जल पर मंत्र को 108 बार पढ़ कर प्रसूता को पिला दें, ऐसा करने से प्रसव तुरंत हो जाता है।

मंत्र :

ऊँ मन्मथ, ऊँ मन्मथ, ऊँ मन्मथ वाहिनी लम्बोदर मुंच मुंच स्वाहा।

व्यापार में किसी ने टोना किया हो :

व्यापार अच्छा न चल रहा हो तो होली के दिन लक्ष्मी एवं विष्णु की उपासना एक साथ करें। इसके लिए नागशय्या पर लेटे श्री विष्णु तथा पैर दबाती लक्ष्मी जी का चित्र पूजा घर में लकड़ी की चौकी पर पीला रेशमी कपड़ा बिछा कर स्थापित करें। निम्न मंत्र का ग्यारह माला जप करके एक माला से हवन करें। फिर प्रतिदिन मंत्र का एक माला जप करते रहें। माला कमलगट्टे की होनी चाहिए। दुकान खोलते समय या प्रतिष्ठान में प्रवेश करते समय इस मंत्र को मन ही मन ग्यारह बार बोलें और कामना करें, निश्चय ही आपकी इच्छा पूरी होगी। श्रद्धा का होना परम आवश्यक है।

मंत्र :

लक्ष्मी चारु कुचंद्वद्वंकुंकमाकितयक्ष से।
नमो लक्ष्मीपते तुभ्यं सर्वाभीष्ट प्रदीयने॥

नौकरी में उन्नति और भाग्योदय के लिए :

नीलम, पन्ना और लहसुनिया इन तीन रत्नों का लॉकेट बनाकर शुभ मुहूर्त में गले में धारण करना चाहिए। साथ ही प्रत्येक मंगलवार को व्रत रखें, सुंदरकांड का पाठ करें और हनुमान जी को चोला चढ़ाएं।

नौकरी पाने या इंटरव्यू में चयन के लिए :

बारह फूल गुलाब के लें। शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार से प्रयोग करें। सफेद कपड़े पर यह बारह गुलाब के फूल रख लें। एक सफेद कागज पर रोली से मंत्र लिखें : ऊँ ह्रीं धृणि सूर्य आदित्य श्री। धूप, दीप जला लें। अब एक बार मंत्र बोलें, फूल हाथ में हों। मंत्र बोलते वक्त और मंत्र पढ़ कर सफेद रूमाल से फूल उठा कर मंत्र लिखें और सफेद कागज पर रख दें। इसी प्रकार प्रत्येक फूल रूमाल से उठाना है, मंत्र पढना है और मंत्र लिखित कागज पर रखते जाना है। बारहों फूल इस प्रकार पूजित करते जाएं। बारह दिन तक करें। इन फूलों को बहते पानी में बहाएं या मिट्टी खोद कर दबाएं। यदि यही प्रयोग चालीस दिनों तक कर लिया जाए तो इंटरव्यू में चयन हो जाता है



अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.