ग्रहों से शेयर के उतार-चढ़ाव के बारे में जानकारी

ग्रहों से शेयर के उतार-चढ़ाव के बारे में जानकारी  

पहले व्यापार का मूल साधन वस्तु विनिमय था। एक वस्तु के बदले दूसरी वस्तु खरीदी जाती थी। इससे पहले गायों के माध्यम से ही व्यक्ति की आर्थिक स्थति का मूल्यांकन होता था। वस्तु विनिमय के बाद धातु, चमड़ा,सोना, चांदी, तांबा, कांसा, इनके सिक्कों के द्वारा लेन-देन होने लगा फिर कागज की खोज हुई, फिर कागज के रुपये आये। आज के इस वैज्ञानिक युग में प्लास्टिक मनी, क्रेडिट कार्ड, चेक आदि का प्रचलन है। परंतु शेयर बाजार में तो कम्प्यूटर इलेक्ट्राॅनिक मनी का प्रचलन आया क्योंकि वस्तु के लेन-देन में कम्प्यूटर द्वारा एक खाते से दूसरे खाते में लेन देन का मुख्य हिस्सा बन गया। सही मायने में शेयर को अगर देखें तो एक प्रकार की भागेदारी है। उस कंपनी में जिसके शेयर लिये गये हैं। पहले जब वस्तु विनिमय होता था तो उस वस्तु के कारक ग्रह से होता था। जैसे अनाज के लिए शुक्र, राजनीति के लिए शनि, सोने के लिए सूर्य, चावल के लिए चांदी, दूध से बनी वस्तु के लिए चंद्र, दवाई व मेडिकल से संबंधित वस्तु के लिए मंगल आदि का विचार किया जाता था। परंतु अब तो सारा व्यापार शेयर बाजार से होता है। कम्पयूटर और दिमाग का मालिक राहु और सूर्य है और शेयर का मालिक बृहस्पति। अर्थात् जिसके सूर्य, राहु व बृहस्पति अच्छे हुए, वह उत्तम व्यापारी होगा। बृहस्पति व्यापार, सूर्य उत्तम दिमाग, राहु अस्तित्व में आने वाले विचार। सूर्य, राहु व बृहस्पति कुंडली में अच्छा होगा तो व्यक्ति अच्छा व्यापारी होगा परंतु सूर्य की महादशा में राहु का अंतर होगा तो अच्छा नहीं होगा। सूर्य, बृहस्पति की महादशा में राहु के अंतर आने पर क्या अच्छा होगा। परंतु हम इस पर ऐसे नहीं सोच सकते, परंतु हमें किसी निर्णय पर जाने से पहले यह सोचना पड़ेगा कि राहु कुंडली में किन-किन भावों में हो तो व्यापार अच्छा होगा। इससे भी पहले हमें यह देखना चाहिए कि राहु, सूर्य और बृहस्पति किस नक्षत्र में हैं क्योंकि इसमें नक्षत्रों का सेल ज्यादा होगा, इस पर भी विचार करना चाहिए। जैसे पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र हो, शुक्रवार हो और राशि मकर हो तो भारी मशीनरी, सिमेंट, स्टील आदि चीजों में बढ़ोत्तरी करेगा। पिछले कुछ वर्षों में भारत के शेयर बाजार तेजी की ओर जा रहे हैं। देखा जाय तो विश्व स्तरीय आर्थिक मापदंड के निवेश के चलते पूरे विश्व के बाजारों में तेजी का रूख है। आने वाले समय में अप्रैल महीने में साॅफ्टवेयर, इलेक्ट्राॅनिक मीडिया, सूचना उद्योग से संबंधित वस्तुओं में उत्साह देखा जा सकता है। इसी प्रकार मई महीने में धनिष्ठा नक्षत्र, कुंभ राशि में, रविवार से महीना शुरू होगा। इस महीने के पंचक से आरंभ होने के कारण अचानक तेजी- मंदी दोनों हो सकती है अर्थात् स्थिरता रहेगी, मास के अंत तक कम्प्यूटर साॅफ्टवेयर, इलेक्ट्राॅनिक और वाहनों से संबंधित सामान में तेजी आयेगी जो ज्यादा दिन नहीं टिकेगी। जून महीने में रेवती नक्षत्र, मेष राशि बुधवार के दिन से महीने के शुरूआत होगी, यह भी स्थिरता का कारक है। परंतु मास के मध्य में कुछ सुधार आयेगा जिसमें दूर संचार, गैस, पेट्रोलियम व धातुओं के शेयर में सुधार आने की संभावना रहेगी।


मुद्रा और शेयर मार्केट  जनवरी 2016

रिसर्च जर्नल का यह वर्तमान अंक 24 जनवरी 2016 को मुम्बई में आयोजित ज्योतिषीय संगोष्ठी पर आधारित है जिसका विषय था मुद्रा एवं शेयर बाजार। इस अंक का प्रमुख विषय मुद्रा, वायदा एवं शेयर बाजार से सम्बन्धित ज्योतिषीय सिद्धान्त हैं। इस विषय पर अनेक उल्लेखनीय आलेख समाविष्ट किये गये हैं जिनके लेखक प्रख्यात ज्योतिर्विद हैं। चूंकि रिसर्च जर्नल द्विभाषीय है इसलिए इस अंक में भी उपर्युक्त विषय पर अंग्रेजी एवं हिन्दी दोनों के आलेखों को सम्मिलित किया गया है। महत्वपूर्ण आलेखों में शामिल हैंः शेयर बाजार और आपकी कुंडली, 2016 में गोचर, बाजार एवं भारतीय अर्थ व्यवस्था, प्रत्येक ग्रह से उद्योगों के बारे में जानकारी, अंकों से जानिए शेयर में निवेश का शुभ समय, शेयर बाजार में उन्नति-अवनति के ज्योतिषीय योग।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.