Congratulations!

You just unlocked 13 pages Janam Kundali absolutely FREE

I agree to recieve Free report, Exclusive offers, and discounts on email.

विभिन्न दिशाओं में रसोई घर

विभिन्न दिशाओं में रसोई घर  

रसोई घर यानि भारतीय गृहिणी का हृदय, क्योंकि भारतीय गृहिणी का सबसे ज्यादा समय जिस स्थान पर व्यतीत होता है वह है उसका रसोई घर। उसकी दिनचर्या रसोईघर से ही प्रारंभ और रसोईघर में ही समाप्त होती है। अतः एक तरह से रसोईघर पूरे घर का हृदय होता है। वास्तु शास्त्र सुविधा, आराम, अग्नि, गर्मी, बिजली के झटके से सुरक्षा, कीड़ों, कीटनाशक दवाओं से सुरक्षा, धुआं निकास, गर्मी, प्रदूषण, प्रकाश, आर-पार वायु संचालन इन सभी की सूक्ष्म और सावधानी पूर्वक सोच-विचार की आवश्यकता है, और रसोई घर में इनका पूर्ण रूप से प्रावधान होना चाहिए। रसोई के लिए सर्वोत्तम स्थान दक्षिण-पूर्व है जिसपर अग्नि का प्रभुत्व है, जो अग्नि और ताप का देव है। हम सब जानते हैं कि आग और ताप के बिना कुछ भी पकाया, सेंका या गर्म नहीं किया जा सकता। दूसरा विकल्प रसोई घर को उत्तर-पश्चिम कोने में रखने का है। रसोईघर उत्तर-पूर्व, मध्य-उत्तर, मध्य-पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, मध्य-दक्षिण या केंद्र में स्थित नहीं होना चाहिए। इसी प्रकार से यह शयन कक्ष, पूजा घर या शौचालय के नीचे या ऊपर नहीं होना चाहिए। यदि किसी कारणवश रसोईघर दक्षिण-पूर्व या पश्चिम में छोड़कर और कहीं बन गया है तो उसके लिए हम कुछ उपाय करके उसके दोषों को पूर्णतया तो समाप्त नहीं कर सकते हैं लेकिन काफी हद तक इसे कम किया जा सकता है। उपाय: जिस भी दिशा में रसोई घर गलत बन गया है, उस रसोईघर में स्लैब को उत्तर-पूर्व को छोड़कर पूर्व साईड में ही लगाना चाहिए तथा चूल्हे की पोजिशन उस कक्ष के पूर्व-दक्षिण साईड में ही करनी चाहिए तथा खाना पूर्व की तरफ मुंह करके ही बनाना चाहिए। भवन की पूर्व-दक्षिण दिशा में एक लाल रंग का जीरो वाट का बल्ब जितनी देर तक चूल्हा जले जलाकर रखना चाहिए। कांच के रिफ्लेक्शन से यदि रसोई दक्षिण-पूर्व साईड में दिखे तो कांच लगाना चाहिए। जिस गलत दिशा में रसेाई बनी है उस दिशा का यंत्र उस दिशा की दीवार पर लगाना चाहिए तथा तीन पिरामिड रसोई घर में लगाना चाहिए। रसोई के दरवाजे के बाहर और अंदर एक दूसरे के पीछे विघ्न-विनायक गणपति की स्थापना करनी चाहिए। रसोई के अगल-बगल में तुलसी के पौधे लगायें तथा इसके साथ ही वास्तु देव की पूजा, दोषपूर्ण दिशा के अधिदेव की पूजा, मंत्र जाप, तथा वास्तु-शांति एवं हवन के द्वारा गलत दिशा में बने रसोई के वास्तु दोषों से छुटकारा पाया जा सकता है।

वास्तु विशेषांक  दिसम्बर 2014

फ्यूचर समाचार के वास्तु विषेषांक में अनेक रोचक व ज्ञानवर्धक लेख जैसे भवन और वास्तु, वास्तु शास्त्र का वैदिक स्वरूप, वास्तु शास्त्र के मूलभूत तत्व, वास्तु शास्त्र व दाम्पत्य जीवन, उद्योग धन्धे क्यों बन्द हो जाते हैं?, फ्लैट/प्लाॅट खरीदने हेतु वास्तु तथ्य, अनुभूत प्रयोग एवं सूत्र, वास्तु सम्मत सीढ़ियां भी देती हैं सफलता, घर में क्या न करें?, विभिन्न दिषाओं में रसोईघर, वास्तुदोष समाधान, वास्तु संबंधी कहावतें, वास्तु दोष दूर करने के सरल उपाय, पंचतत्व का महत्व तथा स्वास्थ्य संबंधी वास्तु टिप्स। इसके अतिरिक्त वास्तु पर हुए एक शोध कार्य पर लिखा गया सम्पादकीय, करियर परिचर्चा, सुखी दाम्पत्य जीवन का आधार: शादी के सात वचन, सत्य कथा, हैल्थ कैप्सूल, पावन स्थल में बांसवाड़ा का प्राचीन मां त्रिपुरासुन्दरी मन्दिर, ज्योतिष व महिलाएं तथा ग्रह स्थिति एवं व्यापार, पंचपक्षी के रहस्य, मंत्र व तंत्र साधना का स्वरूप, कर्णबेधन संस्कार, गृह सज्जा एवं वास्तु फेंगसुई आदि लेखों को समायोजित किया गया है।स्थायी स्तम्भ विचार गोष्ठी के अन्तर्गत ‘पिरामिड का वास्तु में प्रयोग’ विषय पर विभिन्न विद्वानों के विचारों को प्रस्तुत किया गया है। आषा है फ्यूचर समाचार के पाठकों को यह विषेषांक विषेष पसंद आयेगा।

सब्सक्राइब

.