वास्तु में समरूप/नियमित प्लाॅट का महत्व

वास्तु में समरूप/नियमित प्लाॅट का महत्व  

इस माह के अन्त में पंडित जी को गांव जिया सराय, दिल्ली में श्रीमान् अमर यादव ने बुलवाया। उन्होंने अपने प्रस्तावित नवीन घर के दो मंजिले नक्शे को दिखाया, जिससे शुरू में ही इसे यथासंभव वास्तुनुरूप बनाया जा सके एवं बाद में तोड़-फोड़ से बचा जा सके। फ्यूचर समाचार के प्रबुद्ध पाठकों के लाभार्थ उनसे हुई बातचीत का संक्षेप में वर्णन किया जा रहा है। 1. घर के पश्चिम में मार्ग है जो उत्तम है। 2. मुख्य द्वार पश्चिम / वायव्य कोण में है जो कि परिवार में सामंजस्य के लिए अति उत्तम है। 3. दिए गए नक्शे अनुसार रसोई का क्षेत्र आग्नेय कोण में दक्षिण की ओर से बढ़ा हुआ है। दूसरे शब्दों में हम यह भी कह सकते हंै कि सीढ़ियों की तरफ से नैर्ऋत्य कोण कटा हुआ है। ये दोनों ही स्थितियां मान्य नहीं हंै। इनके कारण लंबी बीमारियाँ, अग्नि कांड, दुर्घटनाएं, धोखाधड़ी एवं मुकद्दमेबाजी की संभावना है। इन सबसे बचने के लिये यह अति आवश्यक है कि नैर्ऋत्य एवं आग्नेय कोण 90 डिग्री पर आधारित हो। 4. इसी प्रकार ईशान कोण भी कटा हुआ है जिसके कारण संतान की प्राप्ति में कठिनाई रह सकती है और परिवार में सभी सदस्य कई प्रकार के कष्ट और चिंताओं से विचलित रहेंगे। भूतल 1. पार्किंग की स्थिति ठीक है। पाकशाला की स्थिति अति उत्तम है। सूक्ष्म वास्तु के अनुसार सिंक की स्थिति भी ठीक है, परंतु गैस चूल्हे को पूर्व की ओर करने की आवश्यकता है, ऐसा करने से गृहिणी का मुख खाना पकाते समय पूर्व की ओर रहेगा। पूर्व की ओर मुख करके खाना बनाना सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। जो स्थिति गैस चूल्हे की इस समय है उस कारण धन का अधिक खर्चा और मानसिक पीड़ा हो सकती है। अगर संभव हो सके तो नैर्ऋत्य कोण को बंद कर दिया जाना चाहिए। वर्तमान स्थिति के अनुसार नैर्ऋत्य कोण खुला होने के कारण काम करने वाली बाई भी टिक नहीं पाती।

श्रीकृष्ण विशेषांक  आगस्त 2016

फ्यूचर समाचार का वर्तमान अंक भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित है। इस अंक में भगवान श्रीकृष्ण, उनसे सम्बन्धित कहानियां एवं श्रीमद् भगवद्गीता के महत्वपूर्ण व्याख्यानों को समाविष्ट किया गया है। महत्वपूर्ण आलेखों में सम्मिलित हैं: गीता के शब्दार्थों का मूल एवं वर्तमान, श्रीकृष्ण जी का भगवद् प्राप्ति संदेश, संक्षिप्त गीतोपनिषद् कृष्ण की रास लीला या जीवन रस लीला, कर्म का धर्म आदि। इसके अतिरिक्त पत्रिका के अन्य स्थायी स्तम्भों के अन्तर्गत अनेक विचारोत्तेजक आलेखों को संलग्न किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.