टोटके तंत्र की विशिष्टता व सूत्र

टोटके तंत्र की विशिष्टता व सूत्र  

मनोकामना सिद्धि

  • प्रातः काल बिस्तर से उठते समय पहले अपना दायां पैर धरती पर रखें। सारा दिन उत्साहपूर्ण व सिद्धि दायक रहेगा।
  • प्रातः काल श्याम तुलसी के पौधे पर जल में दूध मिश्रित करके अर्पित करें, अभिलाषाएं अवश्य ही सिद्ध होंगी।
  • मनोकामना सिद्धि हेतु सरसों के दीपक में एक अखंडित लौंग रखकर किसी निर्जन स्थान पर जलाएं।
  • प्रातःकाल बड़ वृक्ष के पत्ते पर अपनी मनोकामना लिखकर दरिया की जल-धारा में प्रवाहित करें, अवश्य ही मनोकामना पूर्ण होगी।

पारिवारिक सुख

  • मिट्टी के चैड़े मुख के पात्र में जटायुक्त नारियल को लाल कपड़े में लपेट कर रख दें तथा उसे दरिया की धारा में प्रवाहित करें, पारिवारिक सुख में सर्वदा वृद्धि होती रहेगी।
  • घर के कंेद्र का कुछ स्थान अवश्य ही कच्चा रखें इससे घर परिवार की समृद्धि बनी रहती है।
  • जल से भरे पात्र में कुंकुम, थोड़े अरबा चावल व थोड़े फूल को डालकर बरगद के वृक्ष पर अर्पित करें, घर परिवार के सुख में वृद्धि होती रहेगी।

टोटके तंत्र की विशिष्टता व सूत्र

  • अनुराधा नक्षत्र के किसी शनिवार के दिन नाव के कील को लाकर अपने घर के मुख्य द्वार पर ठोक दें, परिवार की समृद्धि सर्वदा बनी रहेगी।
  • प्रातः अपने भोजन का थोड़ा अंश नित्य कौए को खिलाएं, घर परिवार सर्वदा फलता-फूलता रहेगा।
  • अंजीर, जैतून व साबुत छुआरे को सर्वदा अपने घर में रखें, पारिवारिक सुखों की निरंतरता बनी रहेगी।
  • शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार के दिन पीपल के वृक्ष के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाएं। पारिवारिक सुखों में वृद्धि होती रहेगी।
  • काले घोड़े की नाल को अपने घर के मुख्य द्वार के स्थान पर स्थापित करें, पारिवारिक समृद्धि बनी रहेगी।
  • हफ्ते में कम से कम एक दिन नमक मिश्रित जल से घर में पोंछा लगाएं, घर परिवार के सुखों में वृद्धि होती रहेगी।

धन लाभ हेतु

  • शुक्ल पक्ष के प्रथम शुक्रवार के दिन चांदी की डिब्बी में नागकेशर, काली हल्दी व सिंदूर को रखकर अपने धन स्थान पर स्थापित करें, अवश्य ही लाभ की प्राप्ति होगी।
  • ग्यारह गोमती चक्रों को एक नीले रेशमी वस्त्र में लपेटकर धन स्थान पर रखें व उसके समक्ष घी के दीपक को प्रज्ज्वलित करें, धन समृद्धि का विकास होता रहेगा।
  • कृष्ण पक्ष के प्रथम शनिवार से प्रारंभ करके नित्य सात शनिवार को घर के मुख्य द्वार पर सरसों के तेल का दीपक प्रज्ज्वलित करें तथा फिर प्रातः बाद में बुझे दीपक के शेष तेल पीपल के वृक्ष पर अर्पित कर दें, आर्थिक समृद्धि बनी रहेगी।
  • पीले वस्त्र में कस्तूरी लपेटकर अपनी तिजोरी या धन स्थान में रखें, धन वृद्धि होती रहेगी।
  • शनिवार के दिन स्वयं व परिवार के सभी सदस्यों के सिर से काले तिल को सात बार उतारकर अपने घर के उत्तर दिशा की ओर फेंक दें, निरंतर चली आ रही आर्थिक हानि शीघ्र ही समाप्त हो जाएगी।
  • प्रत्येक अमावस्या की संध्या किसी विकलांग जातक को भोजन कराएं, आर्थिक लाभ की निरंतरता बनी रहेगी।
  • आर्थिक समृद्धि हेतु घर में तोते अवश्य ही पालें।
  • श्मशान के कुएं या चापाकल से नित्य छः शनिवार जल लाकर पीपल के वृक्ष पर अर्पित करें। स्वयं पर चढ़ा ऋण शीघ्र ही उतरने लगेगा।
  • नौ गुरूवार के दिन गुड़ को दरिया की जलधारा में प्रवाहित करें, आर्थिक समृद्धि में आ रही बाधा शीघ्र ही समाप्त हो जाएगी।

विवाह-सुख हेतु

  • विवाह कार्य में यदि बाधाएं आ रही हों तो घर के दक्षिण-पश्चिम स्थान पर नित्य संध्या चमेली के तेल का दीप जलाएं।
  • शुक्रवार के दिन किसी अंधे व्यक्ति को सुगंधित वस्तु या इत्र दान में दें, शीघ्र ही विवाह-सुख की प्राप्ति होगी।
  • शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार के दिन दो मोती खरीदकर लाएं। इनमें से एक को अपने ऊपर से सात बार घुमाकर दरिया की धारा में प्रवाहित कर दें तथा दूसरे को सर्वदा अपने साथ रखें, विवाह कार्य में आ रही बाधाएं शीघ्र ही समाप्त हो जाएंगी।
  • शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार के दिन किसी पात्र में दो इलायची व साथ में पांच प्रकार की मिठाई रखकर साथ में घी का दीपक प्रज्ज्वलित करें तथा इन सभी वस्तुओं को एक साथ दरिया की धारा में प्रवाहित कर दें, शीघ्र ही विवाह सुख की प्राप्ति हो जाएगी।
  • विवाह के समय जिस कन्या के हाथों में मेहंदी लग रही हो उसी उपरांत उस कन्या के हाथों अविवाहित कन्या अपने हाथों में यदि मेहंदी लगवाए तो उसका विवाह भी शीघ्र ही संपन्न हो जाता है।

दांपत्य सुख

  • पति-पत्नी अपने नाखूनों को एक साथ काट कर फिर उसे एक साथ एकत्र करके जमीन के अंदर गाड़ दें, दांपत्य प्रेम सर्वदा बना रहेगा।
  • चांदी के ताबीज में हरसिंगार की बूटी भरकर पति व पत्नी अपने गले में धारण करें, आपसी प्रेम में सर्वदा वृद्धि होती रहेगी।
  • दांपत्य क्लेश को यदि समाप्त करना हो तो शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार से प्रारंभ करके नित्य सात सोमवार तक साबुत हल्दी को पानी से भरे कुएं में डालें।
  • दांपत्य सुख की प्राप्ति के लिए नित्य रविवार के प्रातः पीपल के वृक्ष के समक्ष तिल के तेल का दीपक प्रज्ज्वलित करें।

संतान सुख

  • मालती के फूल व सफेद सरसों का प्रतिदिन सेवन करने से संतान प्राप्ति में आ रही बाधाएं समाप्त हो जाती हैं।
  • नित्य ग्यारह दिन चने व गेहूं के आटे में हल्दी मिश्रित करके गाय को खिलाएं, संतान प्राप्ति का सुख अवश्य ही प्राप्त होगा।
  • किसी बच्चे के पहली बार टूटने वाले दांत मंगलवार के दिन यदि कोई निःसंतान स्त्री अपने कमर में बांधे तो संतान प्राप्ति में हो रहा अवरोध खत्म हो जाता है।
  • मृगशिरा नक्षत्र में पड़ने वाले मंगलवार के दिन लाल धागे में पीली कौड़ी डालकर यदि कोई निःसंतान स्त्री अपने कमर में बांधे तो अवश्य ही संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त होगा।


टोटके विशेषांक  फ़रवरी 2015

फ्यूचर समाचार पत्रिका के टोटके विशेषांक में विभिन्न कार्यों के सफल होने हेतु सहजता तथा सुलभता से किये जाने वाले टोटके दिये गये हैं। ये टोटके आम लोगों के द्वारा आसानी से किये जा सकते हैं। इन टोटकों को करने से सन्तान सुख, स्वास्थ्य सुख, आजीविका, वैवाहिक सुख प्राप्त होता है तथा अनिष्ट का निवारण होता है। इस विशेषांक में टोटकों पर बहुत सारे लेख सम्मिलित किये गये हैं। ये लेख हैं: टोने-टोटके क्या हैं तथा ये कितने कारगर हैं?, टोटका विज्ञान अंधविश्वास नहीं है, टोटके तंत्र की विशिष्टता व सूत्र, संतान, स्वास्थ्य, आजीविका एवं वैवाहिक सुख के लिए टोटके, टोटकों का अद्भुत संसार, जन्मपत्रिका के अनिष्टकारी योग एवं अनिष्ट निवारक टोटके आदि हैं। टोटकों के अलावा इस विशेषांक के मासिक स्तम्भ, सामयिक चर्चा, आस्था, ज्योतिष एवं वास्तु पर लेख उल्लेखनीय हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.