ग्रह स्थिति एवं व्यापार

ग्रह स्थिति एवं व्यापार  

गोचर फल विचार मासारंभ में सूर्य का शनि और मंगल से दृष्टिगत होना तथा राहु से षडाष्टक योग में होने के कारण शासकीय नेताओं में परस्पर मतभेदों के कारण अनेक समस्याएं उत्पन्न हांेगी। राजनैतिक और सामाजिक माहौल अशांतमय रहेगा। कुछ प्रमुख महानगरों में पुलिस प्रशासन को विशेष कार्यवाही करनी पड़ेगी जिससे आम जनता के मन में भय का माहौल पैदा होगा। किसी प्रमुख राजनीतिज्ञ के पद रिक्त होने का भी योग बनता है। शनि के द्वारा देवगुरु बृहस्पति को दृष्टिगत करना सांप्रदायिक हिंसा को भी बढ़ावा देगा। प्रमुख संगठनों के द्वारा अशांतमय और भय का माहौल पैदा किया जाएगा। 20 फरवरी को मंगल का शनि के साथ राशि संबंध बनाना शासकीय परिवर्तन का योग बनाएगा और आम जनता में बढ़ती हुई महंगाई के कारण शासक वर्ग को असंतोष का सामना करना पड़ेगा। यह योग सीमाओं पर युद्धमय बादलों की काली घटाओं को लाएगा। बुध के शनि से दृष्टिगत होने से सोशल मीडिया के द्वारा भी सांप्रदायिक मसलों के बढ़ाने का कार्य किया जाएगा जिससे समाज में अशांति का माहौल बनेगा। कुछ प्रांतों में तेज हवाओं के साथ सामान्य वर्षा का योग बनाएगा। गोचर ग्रह परिवर्तन व नक्षत्र वेध मासारंभ में 5 फरवरी को बुध उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में प्रवेश कर सर्वतोभद्रचक्र द्वारा मृगशिरा नक्षत्र का वेध करेगा। 6 फरवरी को सूर्य घनिष्ठा नक्षत्र में आकर विशाखा, अश्लेषा व श्रवण नक्षत्रों को वेधेगा। 8 फरवरी को बुध मकर राशि में आकर सूर्य के साथ राशि संबंध बनाएगा। 9 फरवरी को शुक्र उ.षानक्षत्र में आकर मृगशिरा नक्षत्र का वेध करेगा। इसी दिन चंद्र दर्शन मंगलवार के दिन 15 मुहूर्ती में होगा। 12 फरवरी को शुक्र मकर राशि में आकर सूर्य व बुध से राशि संबंध बनाएगा। 13 फरवरी को सूर्य कुंभ राशि में आकर केतु के साथ राशि संबंध बनाएगा तथा फाल्गुन संक्रांति 30 मुहूर्ती में होगी। 17 फरवरी को बुध श्रवण नक्षत्र में आकर कृतिका नक्षत्र का वेध करेगा तथा इसी दिन वक्री गुरु पू.फा. नक्षत्र के चतुर्थ चरण में आकर अश्विनी नक्षत्र को वेधेगा। 19 फरवरी को सूर्य शतभिषा नक्षत्र में आकर स्वाति, पुष्य, व अभिजित नक्षत्रों का वेध करेगा। 20 फरवरी को शुक्र श्रवण नक्षत्र में आकर कृतिका नक्षत्र का वेध करेगा तथा मंगल वृश्चिक राशि में आकर शनि से राशि संबंध बनाएगा। 26 फरवरी को बुध धनिष्ठा नक्षत्र में आकर विशाखा नक्षत्र का वेध करेगा। 28 फरवरी को मंगल अनुराधा नक्षत्र में आकर अश्लेषा नक्षत्र को तथा दक्षिण वेध से विशाखा नक्षत्र को वेधेगा। सोना व चांदी मासारंभ में 4 फरवरी को सोना व चांदी के बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद रूख तेजी की तरफ ही दर्शाता है। 5 फरवरी को बाजारों में बदलाव देकर मंदी का वातावरण बना देगा। 6 फरवरी को बाजारों में कुछ तेजी का माहौल ही बनाएगा। 8 फरवरी को बाजारों में तेजी का दायक ही बनाएगा। 9 फरवरी को बाजारों मंे तेजी में वृद्धि का रूख ही बरकरार रखेगा। 12 फरवरी को बाजारों में उतार-चढ़ाव का योग ही दर्शाता है। 13 फरवरी को बाजारों में विशेषतया उतार-चढ़ाव का माहौल बनाएगा। 17 फरवरी को बाजारों में पूर्वरूख ही दर्शाता है। 19 फरवरी को बाजारांे में कुछ तेजी की लहर को ही आगे चलाएगा। 20 फरवरी को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 26 फरवरी को बाजारों में तेजी का रूख ही बरकरार रखेगा। 28 फरवरी को बाजारों में तेजी की लहर को आगे चलाएगा। गुड़ व खांड़ मासारंभ में 4 फरवरी तक गुड़ व खांड के बाजारांे में उतार-चढ़ाव की स्थिति को ही बनाएगा। 5 फरवरी को बाजारों में कुछ तेजी का रूख ही बनाएगा। 6 फरवरी को बाजारांे में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 8 फरवरी को बाजारों में तेजी का योग ही दर्शाता है। 9 फरवरी को बाजारों में पूर्वरूख ही बनाएगा। 12 फरवरी को बाजारों में तेजी में वृद्धि का माहौल ही बनाएगा। 13 फरवरी को बाजारों में बदलाव देकर मंदी का रूझान ही बनाएगा। 17 फरवरी को बाजारों में मंदी का रूख ही बरकरार रखेगा। 19 फरवरी को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का योग ही दर्शाता है। 20 फरवरी को बाजारांे में तेजी का वातावरण बनाएगा। 26 फरवरी को बाजारों में तेजी का की दायक होगा। 28 फरवरी को बाजारांे में तेजी की लहर को ही आगे चलाएगा। अनाजवान एवं दलहन 5 फरवरी को बाजारांे में उतार-चढ़ाव के बाद मंदी का रूख ही बनाएगा। 6 फरवरी को मूंग, मौठ, अरहर, मसूर इत्यादि दालवानों और गेहूं, जौ, चना, ज्वार, बाजरा इत्यादि अनाजवानों के बाजारों में कुछ तेजी का योग दर्शाता है। 8 फरवरी को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 9 फरवरी को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 12 फरवरी को बाजारांे में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का रूख बरकरार रखेगा। 13 फरवरी को उतार-चढ़ाव के बाद बाजारों में तेजी का ही रूझान बनाएगा। 17 फरवरी को बाजारों में मंदी का ही दायक बनाएगा। 19 फरवरी को बाजारों में मंदी के बाद कुछ तेजी का ही माहौल बनाएगा। 20 फरवरी को बाजारों में तेजी का योग ही दर्शाता है। 26 फरवरी को बाजारों में उतार-चढ़ाव की स्थिति ही बनाएगा। 28 फरवरी को मूंग, मौठ, अरहर, मसूर इत्यादि दालवानों तथा गेहूं, जौ, ज्वार, चना, आदि अनाजवानों में तेजी की लहर को ही चलाएगा। घी व तेलवान मासारंभ में 4 फरवरी को बाजारों में विशेषतया उतार-चढ़ाव बना रहेगा। 5 फरवरी को बाजारों में मंदी का रूख ही बनाएगा। 6 फरवरी से घी व तेलवान के बाजारों में बढ़ोत्तरी होने लगेगी। 8 फरवरी को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 12 फरवरी को बाजारों में तेजी का योग ही दर्शाता है। 13 फरवरी को बाजारांे में तेजी का ही दायक बनाएगा। 17 फरवरी को बाजारों में मंदी का रूझान ही बनाएगा। 19 फरवरी को बाजारांे मंे तेजी की लहर को ही चलाएगा। 20 फरवरी को बाजारांे में तेजी का माहौल ही बनाएगा। 26 फरवरी से 28 फरवरी तक बाजारांे में रूख तेजी की तरफ ही रहेगा। नोट: उपर्युक्त फलादेश पूरी तरह ग्रह स्थिति पर आधारित है, पाठकों का बेहतर मार्ग दर्शन ही इसका मुख्य उद्देश्य है। इसके साथ-साथ संभावित कारणों पर भी ध्यान देना चाहिए जो बाजार को प्रभावित करते हैं। कृपया याद रखें कि व्यापारी की सट्टे की प्रवृत्ति और निर्णय लेने की शक्ति में कमी तथा भाग्यहीनता के कारण होने वाले नुकसान के लिए लेखक, संपादक एवं प्रकाशक जिम्मेदार नहीं हैं।


विद्या बाधा निवारण विशेषांक  फ़रवरी 2016

फ्यूचर समाचार का यह विशेषांक पूर्ण रूपेण शिक्षा को समर्पित है। हम जानते हैं कि शिक्षा किसी व्यक्ति के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण अवयव है तथा शिक्षा ही उस व्यक्ति के जीवन में सफलता के अनुपात का निर्धारण करता है। किन्तु शिक्षा अथवा अध्ययन किसी तपस्या से कम नहीं है। अधिकांश छात्र लगातार शिक्षा पर ध्यान केन्द्रित करने में परेशानी का अनुभव करते हैं। प्रायः बच्चों के माता-पिता बच्चों की पढ़ाई पर ठीक से ध्यान न दे पाने के कारण माता-पिता मनोवैज्ञानिक अथवा ज्योतिषी से सम्पर्क करते हैं ताकि कोई उन्हें हल बता दे ताकि उनका बच्चा पढ़ाई में ध्यान केन्द्रित कर पाये तथा परीक्षा में अच्छे अंक अर्जित कर सके। फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में इसी विषय से सम्बन्धित अनेक महत्वपूर्ण लेखों को समाविष्ट किया गया है क्योंकि ज्योतिष ही एक मात्र माध्यम है जिसमें कि इस समस्या का समाधान है। इस विशेेषांक के अतिविशिष्ट लेखों में शामिल हैंः जन्मकुण्डली द्वारा विद्या प्राप्ति, ज्योतिष से करें शिक्षा क्षेत्र का चुनाव, शिक्षा विषय चयन में ज्योतिष की भूमिका, शिक्षा का महत्व एवं उच्च शिक्षा, विद्या प्राप्ति हेतु प्रार्थना, माता सरस्वती को प्रसन्न करें बसंत पंचमी पर्व पर आदि। इनके अतिरिक्त कुछ स्थायी स्तम्भ जैसे सत्य कथा, हैल्थ कैप्सूल, विचार गोष्ठी, मासिक भविष्यफल आदि भी समाविष्ट किये गये हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.